नगरपालिका ईओ और चेयरमैन के बीच तनातनी:एक घंटा देरी से आने पर पालिकाध्यक्ष व सत्तापक्ष के पार्षदों ने ईओ के कमरे पर ताला जड़ा

पीलीबंगाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पीलीबंगा में पार्षदों ने कलेक्टर को ज्ञापन भेज तुरंत हटाए जाने की मांग की, कहा-सत्ता पक्ष के विरोधी गुट का साथ दे रहे

पालिका में विगत दिनों ही स्थानांतरित होकर आए ईओ सत्यनारायण स्वामी के गुरुवार को पालिका कार्यालय में देरी से आने से आक्रोशित पालिकाध्यक्ष सुखचैन सिंह रमाणा ने पार्टी के पार्षदों के साथ मिलकर उनके कार्यालय के ताला जड़ दिया। ईओ सुबह 10:30 बजे ऑफिस पहुंचे जबकि पालिकाध्यक्ष का कहना था कि प्रशासन शहरों के संग अभियान के तहत राज्य सरकार द्वारा जारी निर्देशों के अनुसार ईओ को 9:30 बजे ही पालिका कार्यालय पहुंच जाना चाहिए था।

पालिकाध्यक्ष ने ईओ पर अपने मूल दायित्व का निर्वाह ना करते हुए राजनीति करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि ईओ की कार्यप्रणाली के चलते राज्य सरकार द्वारा प्रारंभ किए गए प्रशासन शहरों के संग अभियान का भी आमजन को पूरा लाभ नहीं मिल पा रहा है। वहीं ईओ की कार्यप्रणाली से नाराज सत्ता पक्ष के पार्षदों ने ईओ पर गुरुवार को ऑफिस में देरी से आने का कारण पूछे जाने पर उनसे अभद्र व्यवहार करने का भी आरोप लगाया।

आक्रोशित पार्षदों ने कहा कि ईओ स्वामी प्रशासन शहरों के संग अभियान के तहत मुख्यालय छोड़कर राज्य सरकार के नियमों की अवहेलना कर रहे हैं। पालिकाध्यक्ष व पार्षदों द्वारा ईओ के कक्ष के ताला लगाए जाने की सूचना मिलने पर पालिका कार्यालय पहुंचे एसडीएम रंजीत कुमार ने ईओ से पूरे प्रकरण की जानकारी लेकर पालिकाध्यक्ष से ईओ के कक्ष का ताला खुलवाने का आग्रह करते हुए आपसी तालमेल बिठाकर आमजन का कार्य करने का आह्वान किया। इसके बावजूद पालिकाध्यक्ष व पार्षदों ने ईओ कक्ष का ताला नहीं खोला।

इनसाइड स्टोरी: दो धड़ों में बंटी पीलीबंगा में कांग्रेस, अफसरों के स्थानांतरण करवाने के लिए श्रेय लेने की मची है होड़

दो धड़ों में बंटी पीलीबंगा कांग्रेस के पालिकाध्यक्ष व विनोद गोठवाल विरोधी गुट के कांग्रेसी नेताओं द्वारा विगत कई दिनों से विपक्षी पार्षदों के साथ पालिका कार्यालय आकर ईओ का अभिनंदन कर उन्हें पीलीबंगा में लगाए जाने का श्रेय लेने व अपना शक्ति प्रदर्शन करने की होड़ लगी हुई है।

विनोद गोठवाल व पालिकाध्यक्ष द्वारा स्वायत्त शासन विभाग से आदेश जारी करवाकर सूरतगढ़ ईओ शैलेंद्र गोदारा को प्रशासन शहरों के संग अभियान के दौरान पीलीबंगा का अतिरिक्त कार्यभार दिलवाया गया था परंतु एक दिन बाद ही विभाग द्वारा नए आदेश जारी कर सूरजगढ़ नगरपालिका के कार्यालय सहायक सत्यनारायण स्वामी को पीलीबंगा पालिका में ईओ नियुक्त कर दिया गया। जिससे नगरपालिका में ईओ व चेयरमैन के बीच तनातनी का माहौल बना हुआ है।

सत्ता पक्ष के पार्षदों ने ईओ सत्यनारायण स्वामी पर पालिका कार्यालय को राजनीति का अखाड़ा बनाने का आरोप लगाते हुए उन्हें तुरंत हटाए जाने की मांग करते हुए एसडीएम को कलेक्टर के नाम का एक ज्ञापन गुरुवार को सौंपा। ज्ञापन के अनुसार पीलीबंगा नगरपालिका तृतीय श्रेणी की नगरपालिका है। इसमें लिपिक स्तर के कर्मचारी को ईओ के पद पर पदस्थापित कर नगरपालिका की व्यवस्था को खराब किया जा रहा है।

ज्ञापन के अनुसार सत्यनारायण स्वामी का मूल पद कार्यालय सहायक का है। जबकि नगरपालिका पीलीबंगा में पहले से ही कार्यालय सहायक से बड़े पद के अधिकारी व कर्मचारी कार्यरत हैं। ईओ द्वारा सत्ता पक्ष के विरोधी गुट का साथ देने से राज्य सरकार द्वारा जारी जनकल्याणकारी योजनाएं एवं प्रशासन शहरों के संग अभियान भी प्रभावित हो रहा है। ज्ञापन में सत्तापक्ष के पार्षदों ने पीलीबंगा नगरपालिका में मूल ईओ के पदस्थापित होने तक पीलीबंगा नगरपालिका में ही पहले से कार्यरत में वरिष्ठ अधिकारियों में से ही किसी को ईओ का कार्यभार सौंपे जाने की मांग जिला कलक्टर से की है।

ईओ बोले: पीलीबंगा में रहने की व्यवस्था के कारण थोड़ा लेट हुआ, आरोप निराधार

मुझे पीलीबंगा स्थानांतरित हुए दो दिन ही हुए हैं, ऐसे में मुझे पीलीबंगा में रहने की व्यवस्था करने में समय लगने के कारण गुरुवार को मैं कार्यालय निर्धारित समय से थोड़ा लेट पहुंच पाया। जहां तक पार्षदों के साथ अभद्र व्यवहार करने और राजनीति करने के आरोप हैं, वे सब निराधार हैं। पालिका कार्यालय स्वेच्छा से आकर अगर कोई जनप्रतिनिधि मेरा अभिनंदन करता है तो वह उसे इंकार नहीं कर सकते। सत्यनारायण स्वामी, ईओ, नगर पालिका पीलीबंगा।

खबरें और भी हैं...