कोर्ट ने दिया फैसला:नशीली गाेलियों के सप्लायर काे 11 साल कैद, 1.11 लाख रु. जुर्माना, जून 2018 से जेल में ही था

रायसिंहनगर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पदमपुर क्षेत्र के नशा तस्कर को 1960 गोलियों सहित पकड़ा था,

एडीजे सुरेंद्र खरे की अदालत ने नशीली गाेलियाें की तस्करी के मामले में आराेपी रविंद्र मेघवाल (31) उर्फ मोनू पुत्र गोपी राम मेघवाल निवासी 26 बीबी पदमपुर को दोषी करार देते हुए 11 वर्ष के कठोर कारावास व 1.11 लाख रुपए जुर्माना राशि से दंडित किया है। आराेपी 8 जून, 2018 काे हुई गिरफ्तारी के बाद से ही लगातार न्यायिक अभिरक्षा में ही था।

परिवाद के अनुसार मुकलावा थाना प्रभारी सुरेंद्र राणा ने 8 जून 2018 काे आराेपी रविंद्र उर्फ मोनू पुत्र गोपी राम मेघवाल निवासी 26 बीबी पदमपुर को मुकलावा थाना क्षेत्र के गांव 14 एनपी करड़वाली क्षेत्र से गिरफ्तार कर 1960 नशीली गोलियां ट्रामाडोल बरामद की थी। आरोपी के पास इस संबंध में काेई लाइसेंस नहीं था। आरोपी के विरुद्ध पुलिस ने एनडीपीएस एक्ट की धारा 8 /21 व 22 में मामला दर्ज कर किया था। मामले की जांच समेजा थाना प्रभारी ने की। जांच अधिकारी ने मामले में अनुसंधान कर 20 सितंबर, 2018 काे आरोपी के विरुद्ध न्यायालय में चालान पेश किया।

न्यायालय में अपर लोक अभियोजक कृष्ण कुमार पूनिया ने पक्ष रखा कि आराेपी लंबे समय से नशे की तस्करी कर रहा है, उससे बहुत अधिक संख्या में गाेलियां बरामद हुई हैं। न्यायालय ने सुनवाई के बाद मंगलवार को दिए फैसले में आरोपी रविंद्र उर्फ मोनू को 8/21 धारा 22 स्वापक औषधि एवं मन: प्रभावी पदार्थ अधिनियम 1985 के तहत दाेषी करार देते हुए 11 वर्ष कठोर कारावास व 1 लाख 11 हजार रुपए जुर्माने से दंडित किया। न्यायालय के निर्णय के अनुसार जुर्माना राशि नहीं भरने पर दाेषी काे 6 माह की अतिरिक्त सजा भुगतनी हाेगी।

30 ग्राम चिट्टा बरामद, तस्कर दंपती गिरफ्तार

सादुलशहर. स्थानीय पुलिस ने शहर में पति पत्नी को गिरफ्तार कर 30 ग्राम चिट्टा व 18 हजार रुपए की नकदी बरामद की है। इस संबंध में आराेपी मंगत राम (33) पुत्र मुख्तयार सिंह निवासी वार्ड नंबर19 श्रीगंगानगर व उसकी पत्नी चांदनी को गिरफ्तार किया है। आशंका है कि आराेपी सादुलशहर क्षेत्र में चिट्टा सप्लाई की फिराक में थे। इससे पहले ही पकड़े गए। थाना प्रभारी सतवीर मीणा ने बताया कि पुलिस टीम के साथ गश्त पर थे। गश्त के दौरान श्री गाेशाला के पास पहुंचे तो सामने से महिला व पुरुष आते दिखाई दिए। दाेनाें पुलिस की गाड़ी देख कर घबरा गए। दाेनाें ने फरार हाेने का प्रयास किया ताे पुलिस को संदेह हुआ।

पुलिस ने उनको पकड़कर पूछताछ की ताे संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए। तलाशी लेने पर दाेनाें के पास 30 ग्राम चिट्टा व 18 हजार रुपए मिले। पुलिस का मानना है कि नशा बेचने ही 18 हजार रुपए की राशि प्राप्त हुई है। पूछताछ में उन्हाेंने अपनी पहचान मंगत राम (33) पुत्र मुख्तयार सिंह व चांदनी पत्नी मंगतराम निवासी वार्ड नंबर19 श्रीगंगानगर बताई। दाेनाें आराेपियाें काे गिरफ्तार कर एनडीपीएस एक्ट में मुकदमा दर्ज किया गया है। एसपी के निर्देश पर मामले की जांच लालगढ़ थाना अधिकारी तेजवंत सिंह को सौंपी गई है। आरोपियाें से पूछताछ व अनुसंधान जारी है।

खबरें और भी हैं...