पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पेयजल समस्या:150 घरों का 9 केडी गांव, आबादी 1200, साफ पानी को तरस रहे

श्री गंगानगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रावलामंडी- 9 केडी गांव की पेयजल डिग्गी। - Dainik Bhaskar
रावलामंडी- 9 केडी गांव की पेयजल डिग्गी।
  • डिग्गियों व जोहड़ के लिए सिंचाई विभाग ने 25 मिनट बारी बांध रखी है जो पर्याप्त नहीं
  • डिग्गियाें में भरा नहरी पानी पीने काे मजबूर, पशुओं के लिए भी संकट

सीमावर्ती 9 केडी गांव में ग्रामीणाें काे सार्वजनिक डिग्गियों में भंडारित नहरी पानी पीना पड़ रहा है। हरे रंग का ये पानी इतना बदबूदार है कि देखते ही उबकाई आने लगती है। ग्रामीणों ने बताया कि करीब डेढ़ साल पहले तक ये गांव 3 केडी पंचायत में शामिल था।

बाद में इसे 10 केडी पंचायत में शामिल कर दिया। गांव में दो डिग्गियां हैं। इनमें भंडारित नहर का पानी ही ग्रामीण पीने के रूप में उपयाेग करते हैं। हालांकि कुछ लाेग अपने ही स्तर पर फिटकरी आदि का उपयाेग करते हैं।

चक 8 केडी, 9 केडी ए व बी, 7 केडी की ढ़ाणियों के लोग पीने का पानी यहीं से ले जाते हैं। चक 8 केडी के काकासिंह, भूपराम, करण बिश्नोई, मक्खनसिंह आदि ने बताया कि डिग्गियों व जोहड़ के लिए सिंचाई विभाग ने 25 मिनट बारी बांध रखी है जो पर्याप्त नहीं है।

ग्रामीणों ने डिग्गियों में उपयाेग के लिए ब्लिचिंग पाउडर व फिटकरी उपलब्ध कराने की मांग की है। 150 घरों वाले इस गांव मे करीब 1200 लाेगाें की आबादी है। वहीं गांव में पालतू मवेशी भी जोहड़ पर निर्भर हैं। बारी का समय कम हाेने के कारण जाेहड़ में पर्याप्त पानी का भंडारण नहीं हाेने से पशुपालकाें के सामने बड़ा संकट है।

उधर 10 केडी सरपंच एकता गोदारा ने बताया कि 9 केडी गांव के लोगों की मांग है कि उनके गांव में वाटरवर्क्स का निर्माण कराया जाए। गांव की दोनों गोल डिग्गियों में भरे पानी को शुद्ध करने के लिए ब्लिचिंग पाउडर व फिटकरी ग्रामीणों को उपलब्ध कराई जाएगी।

खबरें और भी हैं...