पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कार्रवाई:इनोवा में डिलीवरी लेने आया था पंजाब पुलिस का हैड कांस्टेबल सवा 5 किलो अफीम और ~17.12 लाख जब्त, 2 जने गिरफ्तार

संगरिया22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बॉर्डर के गांव मालारामपुरा में चल रहा था तस्करी का धंधा, डीएसटी और संगरिया पुलिस की कार्रवाई

जिला स्पेशल टीम व संगरिया पुलिस ने बुधवार को पंजाब सीमा से सटे गांव मालारामपुरा की एक रिहायशी ढाणी में छापा मारकर 5 किलो 250 ग्राम अफीम और 17 लाख 12 हजार 100 रुपए बरामद किए हैं।

बरामद की गई अफीम की बाजार में कीमत करीब साढ़े सात लाख रुपए बताई जा रही है। साथ ही मौके से एक इनोवा गाड़ी भी जब्त कर दो जनों को िगरफ्तार िकया है। इसमें एक आरोपी पंजाब पुलिस में हैड कांस्टेबल है, जबकि तीसरा आरोपी पुलिस को चकमा देकर फरार हो गया।

सीआई विजय कुमार मीणा ने बताया कि आरोपी विरेंद्रपाल सिद्धू पुत्र मनजिंद्र सिंह जटसिख निवासी खेमा खेड़ा, पुलिस थाना लंबी, जिला मुक्तसर व चक छह केएसडी रोही, मालारामपुरा के मदन करीर उर्फ मदन गोपाल पुत्र स्व. बुधराम करीर बिश्नोई को गिरफ्तार किया है।

जबकि तीसरा आरोपी हवासिंह पुत्र मदन फरार हो गया। विरेंद्रपाल सिद्धू जटसिख पंजाब पुलिस जलंधर में हैड कांस्टेबल के पद पर कार्यरत है और काफी लंबे समय से अफीम की तस्करी कर रहा था। सीआई ने बताया कि अफीम तस्करी की सूचना पर छापेमारी की गई।

आरोपी विरेंद्रपाल सिद्धू पंजाब से इनोवा गाड़ी पर मालारामपुरा में ढाणी मदन करीर के पास अफीम लेने आया था। पुलिस ने अफीम तस्करी में दोनों आरोपियों को मौके पर गिरफ्तार किया और अफीम बरामद की। मदन करीर से अभियुक्त विरेंद्रपाल सिद्धू को इनोवा गाड़ी के साथ 650 ग्राम अफीम खरीद-फरोख्त करने पर मौके से गिरफ्तार किया गया। वहीं मदन करीर उर्फ मदन गोपाल के मकान की तलाशी ली तो 4 किलो 600 ग्राम अफीम बरामद की। पुलिस ने आरोपी के घर से 17 लाख 12 हजार 100 रुपए बरामद किए जबकि तीसरा आरोपी हवासिंह मौके से फरार हो गया। तीनों आरोपियों के खिलाफ एनडीपीएस का मामला दर्ज किया है।

गांव मालारामपुरा में बना रखी है रिहायशी ढाणी, पिता-पुत्र कई सालों से कर रहे हैं नशे की तस्करी

सीआई विजय सिंह मीणा ने बताया कि मालारामपुरा स्थित आरोपी मदन करीर की पंजाब और राजस्थान बॉर्डर पर रिहाइशी ढाणी है। ढाणी संगरिया अबोहर मार्ग पर स्थित है। लंबे समय से दोनों बाप-बेटे नशे की तस्करी का धंधा कर रहे थे। पुलिस कई दिनों से रैकी कर रखी थी। वहीं मदन करीर का पिता बुधराम करीर भी नशा तस्करी का धंधा करता था। 1988 में मदन करीर के यहां पुलिस ने बड़ी कार्रवाई की थी लेकिन उसके बाद आज तक इसके खिलाफ कोई भी कार्रवाई नहीं हुई थी। अब पुलिस ने अफीम तस्करी और लाखों रुपए इसे बरामद किए हैं। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

{इनोवा गाड़ी पर लगा था पंजाब पुलिस का लोगो, वर्दी भी थी, कई बार संगरिया में देखी गई थी गाड़ी तो शक हुआ

खास बात है कि हैड कांस्टेबल विरेंद्रपाल सिद्धू के पास इनोवा गाड़ी थी, जिस पर पंजाब पुलिस का लोगो लगा हुआ था। गाड़ी के अंदर से हैड कांस्टेबल की वर्दी भी बरामद हुई है। गाड़ी कई बार संगरिया शहर में देखी गई थी और पुलिस को शक भी था। मीणा ने बताया कि टिब्बी पुलिस थाना क्षेत्र में आरोपी विरेंद्रपाल सिद्धू पर शिकार करने का मामला भी दर्ज होना भी सामने आया है, उसकी भी पड़ताल की जा रही है। साथ में ही पंजाब पुलिस भी इसकी पड़ताल कर रही है।

यह टीम कार्रवाई में रही शामिल: एएसपी जस्साराम बोस, डीवाईएसपी दिनेश राजौरा एवं हनुमानगढ़ डीएसपी प्रशांत कौशिक, जंक्शन पुलिस थाना सीआई नरेश गेरा, एएसआई मांगेराम, राजकुमार, हैड कांस्टेबल जगदीश, संजय कुमार, कांस्टेबल अविनाश, हरदीपसिंह, विजय वर्मा, हंसराज, मालारामपुरा चौकी स्टाफ, जिला विशेष टीम के लखवीर सिंह, शाह रसूल, कमलजीत सिंह, राजाराम, सुखविंद्र सिहं, अनिल, राजेश आदि शामिल थे।

खबरें और भी हैं...