वन्य जीव गणना:96 वनकर्मी 44 प्वांइट पर कल से करेंगे गणना

टोंक10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • काले हिरणों की संख्या 15 सौ तक थी, 2020 में 52 ही रह गए

जिले में वन्यजीव गणना के लिए तैयारियां की जाने लगी है। 16-17 मई को वन्य जीव गणना होगी। जिले में 44 प्वाइंट पर 96 वन कर्मी वन्य जीवों की गणना करेंगे। लेकिन वन्यजीवों की सुरक्षा के लिए वन विभाग के पास कोई पुख्ता इंतजाम अब तक नजर नहीं आए हैं। हाल ये है कि जिले में कभी 1500 काले हिरण हुआ करते थे। लेकिन गत वन्यजीव गणना में हिरणों की संख्या 52 नजर आई। पिछले साल कोरोना के कारण वन्यजीव गणना नहीं हो सकी थी। इस बार वन्यजीव गणना में काले हिरणों की संख्या और भी कम हो सकती है। क्योंकि वन विभाग ने उनके संरक्षण के लिए कोई विशेष इंतजाम नहीं किए।

वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि काले हिरणों के लिए पानी आदि के लिए फिलहाल कोई विशेष व्यवस्था नहीं हैं। उपवन संरक्षण श्रवण कुमार रेड्डी का कहना है िक इस बार 16 मई को सुबह 8 बजे से 17 मई सुबह 8 बजे तक वन्यजीव गणना होगी। 44 तालाबों एवं जल स्त्रोत के स्थानों पर 96 कर्मचारी वन्यजीव गणना के लिए लगाए जाएंगे। टोडारायसिंह में 4, टोंक में 8, मालपुरा में 7, उनियारा में 9, देवली में 8 व निवाई में 9 तालाबों पर वन्यजीव की गण्ना की जाएगी।
विशेष प्रजाति के काले हिरणों का अब तक यह हैं हाल
कभी काले हिरणों की संख्या 15 सौ तक थी। लेकिन 2020 में हुई वन्यजीव गणना में महज 52 रह गई। 2007 में 666, 2008 में 690, 2009 में 708, 2010 में 750, 2011 में 300, 2012 में 321 काले हिरण बताए गए। 2016-2017 की गणना के अनुसार काले हिरणों की संख्या 65 बताई गई है। 2018 में 31 एवं 2019 में 57 काले हिरण नजर आए।
2012 में विधानसभा में काले हिरणों का मामला उठा था
वर्ष 2012 में विधानसभा में तत्कालीन स्थानीय विधायक रामनारायण मीणा ने काले हिरणों को लेकर सवाल किया था। लेकिन उसके बाद भी उनके संरक्षण आदि के लिए काेई कारगर कदम नहीं उठाए जा सके।

खबरें और भी हैं...