पक्की नहर में रिसाव:थांवला बांध की पक्की नहर में रिसाव से खेतों में पानी भरा

टोंक2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नासिरदा। खेतों में वही चने व सरसों की फसल में भरा पानी। - Dainik Bhaskar
नासिरदा। खेतों में वही चने व सरसों की फसल में भरा पानी।
  • 20 बीघा में बोई फसल गलने के कगार पर

नासिरदा थांवला सिंचाई बांध से सिंचाई के लिए बनाई गई पक्की मुख्य नहर में पानी का रिसाव होने खेतों में पानी भर गया है। इसके चलते करीब 25 बीघा फसल गलकर नष्ट होने के कगार पर है। किसान बाबूलाल गुर्जर, जितेंद्र शर्मा, सवाईराम, गोपाल गुर्जर,जगदीश मीना आदि ने बताया कि तीन दिन पहले ही नहर मे पानी छोड़ने के बाद से ही रिसाव होकर खेतों में पानी भर गया, जिससे खेतों में बोई फसल पूरी तरह गलने कर कगार पर है। इसकी सूचना संबंधित अधिकारियों को दी, लेकिन अभी तक न तो कोई कर्मचारी आया न ही समाधान नहीं हुआ है। इसके चलते लाखों रुपए का नुकसान होगा। सिंचाई विभाग ने 3 साल पहले बांध व नहरों को पक्का निर्माण कर सुदृढ़ीकरण पर करीब 3 करोड़ रुपए खर्च किए थे। तब ग्रामीणों ने अनियमितता का आरोप लगाया था।

ग्रामीणों के दबाव में 200 मीटर नहर का फिर से जीर्णोद्धार करवाया था। इसके बावजूद इस नहर से पानी का रिसाव हो गया। करीब 25 बीघा जमीन मे पानी भर गया है। इससे सरसों, चना की फसलें गलने के कगार पर पहुंच गई हैं। जल संसाधन विभाग के कनिष्क अभियंता मनीष शर्मा का कहना है कि ग्रामीणों की ओर से नहर रिसाव से पानी भरने की सूचना आई थी। कर्मचारी भेजकर दिखवाया है। नहर टूटी नहीं है। पास में बीसलपुर बांध का पानी भी है। किसानों ने फसलें उससे सिंचित कर ली है। अब अधिकांश किसानों को पानी जरूरत नहीं है। किसी ने अवरोधक लगाने से खेतों में पानी भरा है। फिर भी नहर में पानी काफी कम करवा दिया है।

खबरें और भी हैं...