क्षत-विक्षत शव की शिनाख्त:दो दिन पहले हाईवे पर मिले शव की लोकेश मीणा के रूप में हुई शिनाख्त

टोंकएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मारपीट के बाद वाहन से सिर कुचलकर हत्या करने का अंदेशा

दो दिन पहले सदर थानांतर्गत नेशनल हाइवे पर क्षत-विक्षत हालत मे मिले शव की शिनाख्त रविवार देर रात बरोनी थाना क्षेत्र के बडी बरथल निवासी लोकेश (25) पुत्र रामकिशोर मीणा के रुप में हुई। उसके हाथ-पैर बांधकर मारपीट करने का वीडियो दिखाते हुए चार लोगों नामजद सहित 7 जनों के खिलाफ बरोनी थाने में लोकेश का अपहरण कर मारपीट कर हत्या करने का आरोप लगाया है। सदर, पुरानी टोंक व कोतवाली सहित बरोनी थानाधिकारी अस्पताल पहुंचे। सोमवार को पुलिस ने हत्या की धाराओं में प्रकरण दर्ज कर दो जनों को पूछताछ पकड़ा भी है। वही मृतक का पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों को सुपुर्द कर दिया।

बरोनी थानाधिकारी हरिराम वर्मा ने बताया कि रविवार को लोकेश की मां फूलादेवी ने थाने पर आकर बेटे लोकेश का अपहरण की रिपोर्ट दी। इसपर मौका देखने गए। शाम को फूलादेवी के बड़े बेटे केदार को मौका देखने के लिए बुलाया लेकिन उसने बीते दिनों मिले शव का शिनाख्त करने को लेकर सआदत अस्पताल आने की बात कही और बाद में शव की अपने छोटे भाई लोकेश मीणा के रुप में शिनाख्त की। महिला की ओर से चार नामजद सहित 7-8 जनों के खिलाफ अपहरण करने व मारपीट कर हत्या करवाने का आरोप लगाया। पोस्टमार्टम की कार्रवाई कर शव परिजनों को सौंप दिया। वही नामजद चार लोगों में से दो को ट्रेस कर पूछताछ की जा रही है, बाकी को भी ट्रेस कर करने के साथ अन्य से पूछताछ की जाएगी।

परिजनों की ओर से पुलिस को उपलब्ध करवाए गए वीडियो में लोकेश के पैर बांधकर उसके साथ मारपीट किया जाना तो दिखाई दे रहा है। लेकिन कौन मारपीट कर रहे है और वीडियो में नही दिखा। मृतक लोकेश के बड़े भाई केदार ने बताया कि 20 मई को रामराज, शंकर, राकेश सहित 7-8 जनों ने उसे सुनसान जगह ले जाकर मारपीट की। मारपीट इतनी तेज की कि उसकी मौत हो गई। बाद में आरोपियों ने हत्या का दुर्घटना दिखाने के लिए उसका शव हाइवे पर ले जाकर पटक दिया। 20 मई की रात को मिला था शव : शुक्रवार देर रात 1 बजे को कन्ट्रोल रुम से सूचना पर मिली कि सदर थानांतर्गत बूचड़खाना के पास राष्ट्रीय राजमार्ग 52 देवली से टोंक रोड़ पर डिवाइडर के पास शव मिला था। जिसका सिर अज्ञात वाहन के पहिए के नीचे आकर पिचक गया था। जिसे सदर पुलिस ने हाइवे ऐंबुलेंस के जरिए सआदत अस्पताल की मोर्चरी में रखवा दिया। वही मृतक के शरीर पर पहने हुए कपड़ों से पहचान सम्बन्धित कोई दस्तावेज भी नही मिलने पर शिनाख्त नही होने के बाद शनिवार को उसे डीपफ्रीज में रखवाया गया था। रविवार शाम को बडी बरथल निवासी कैदार मीणा ने उसकी शिनाख्त लोकेश मीणा के रुम शिनाख्त की। रात को अस्पताल में जमा हो गए लोग : रविवार देर शाम मृतक की पहचान करने के बाद परिजनों ने हत्या का आरोप लगाया। इसके बाद कोतवाली व सदर सहित बरौनी थानाधिकारी सहित तीनों पुलिस थानों का जाप्ता सआदत अस्पताल पहुंचा। जहां लोगों परिजनों को समझाईश कर पोस्टमार्टम के लिए राजी किया। सोमवार को पुलिस ने मेडिकल बोर्ड से शव का पोस्टमार्टम कराया गया और कार्रवाई का आश्वासन दिया।

खबरें और भी हैं...