हादसा:कोटा के परिवार की कार को अज्ञात वाहन ने मारी टक्कर, एक की मौत

टोंक2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोटा रोड स्थित चिंताहरण बालाजी के समीप हुआ हादसा, खाटू श्याम जी दर्शनों को जा रहा था परिवार

देवली कोटा से खाटू श्याम दर्शनों को जा रहे सिंधी समाज के एक परिवार के लिए शनिवार सुबह काल बनकर आई है। कोटा रोड स्थित चिंताहरण बालाजी के समीप सुबह 7 बजे करीब अज्ञात वाहन ने उनकी कार को टक्कर मार दी। हादसे में कार सवार एक जने की मौत हो गई। जबकि 4 जने अन्य घायल हो गए। सूचना पर हनुमाननगर थाना पुलिस मौके पर पहुंची तथा घायलों को स्थानीय राजकीय अस्पताल पहुंचाया। डॉक्टरों ने प्राथमिक उपचार के बाद घायलों को कोटा के लिए रेफर कर दिया है। पोस्टमार्टम करवा कर शव परिजनों को सुपुर्द कर दिया। पुलिस हादसे के कारणाें का पता लगा रही है।
हनुमान नगर पुलिस के हैडकांस्टेबल उस्मान ने बताया कि कोटा का सिंधी परिवार सुबह 4 बजे कार से खाटू श्याम के लिए रवाना हुआ था। सुबह 7 बजे चिंताहरण बालाजी के तिराहा के समीप अज्ञात वाहन ने उनकी कार को टक्कर मार दी। इसमें कार चला रहे जितेंद्र (44)
पुत्र सिवानलाल ठाकुर निवासी बजरंग नगर कोटा की मौत हो गई। कार की स्टेयरिंग से सिर टकराने से जितेंद्र की मौत होना सामने आया है। इसके निशान दुर्घटनाग्रस्त कार की स्टेयरिंग पर भी है।
हादसे में कार सवार जीतू (58) पत्नी नंदलाल सिंधी निवासी थाना फूलबलान्त जिला मिलालेग (कोलकाता), जया (54) पुत्री जुगराज सिंधी निवासी दादाबाड़ी कोटा, चिराग (25) पुत्र घनश्याम नेहलाने निवासी गायत्री विहार बजरंग नगर थाना बोरखेड़ा कोटा तथा निलांशी (11) पुत्री दीपक सिंधी निवासी वल्लभनगर कोटा घायल हो गए। इनमें से चिराग गंभीर रूप से घायल गया है। जिस का गला कट गया तथा पसली में भी फ्रैक्चर है।
घायल बच्ची से पूछकर परिजनों को दी सूचना
पुलिसकर्मियों ने अस्पताल में घायल बालिका निलांशी से पूछ-पूछकर उनके परिजनों का पता लगाया तथा फोन के जरिए उन्हें सूचना दी। डॉ. रविराज सिंह, डॉ. राजेंद्र गुप्ता, डॉ. गोपाल मीणा, डॉ. नवल मीणा ने घायलों का प्राथमिक उपचार कर इन्हें कोटा रेफर कर दिया है। मृतक जितेंद्र का परिजनों की उपस्थिति में पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों को सुपुर्द कर दिया है।
क्षतिग्रस्त कार को थाने में खड़ा कराया
हैडकॉन्स्टेबल उस्मान ने बताया कि परिजनों ने दुर्घटना को लेकर कोई मुकदमा दर्ज नहीं करवाया है। मामला दर्ज होता है तो अज्ञात वाहन की तलाश की जाएगी। परिवार खाटूश्याम दर्शनों के लिए जा रहा था। इसे लेकर कार में भोजन, पानी आदि की व्यवस्था भी थी।

खबरें और भी हैं...