छोटीसादड़ी क्षेत्र का मामला:दोस्त कपड़े दिलाने का कहकर ले गया, पीट-पीट कर हत्या कर दी, 3 पर केस

छोटीसादड़ीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नगर के देवेंद्र टॉकीज के पीछे रहने वाले युवक सुनील उर्फ सोनू (35) पुत्र राजू दास बैरागी की शुक्रवार रात को कुछ लोगों ने पीट पीट कर हत्या कर दी। मृतक सुनील की बहन मीना बैरागी ने पुलिस में हत्या को लेकर तीन आरोपियों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज कराई है। रिपोर्ट में बताया कि 5 नवंबर की रात 9 बजे उसके भाई सुनील को उसका दोस्त भरत कुमावत निवासी गोमाना अपने साथ बाजार जाने की बात कह कर घर से ले गया। काफी देर बाद भी उसका भाई घर नहीं आया तो उसने भाई के मोबाइल पर फोन किया, लेकिन मोबाइल बंद था। रात करीब 10:30 बजे भरत कुमावत का फोन आया कि सोनू के साथ अंकित मोगिया एवं राजू मोगिया पुत्र प्रेमचंद मोगिया निवासी गोमाना ने मारपीट की है।

भरत ने कहा कि सोनू को अस्पताल ला रहा हूं। घटना की सूचना मिलने पर सोनू के पिता व परिवार के अन्य सदस्य अस्पताल गए। वहां पर देखा तो सोनू के शरीर पर जगह-जगह गंभीर चोटें आई थी। चिकित्सकों ने सोनू को उदयपुर के लिए रेफर किया। रेफर करने के बाद बीच रास्ते में ही सोनू ने दम तोड़ दिया। सोनू को वापस छोटीसादड़ी अस्पताल की मोर्चरी में लाया गया। जहां शनिवार सुबह मृतक का मेडिकल बोर्ड द्वारा पोस्टमार्टम किया गया। पोस्टमार्टम के बाद शव अंतिम संस्कार के लिए परिजनों के सुपुर्द किया गया।

घटना की सूचना के बाद शनिवार को बड़ी संख्या में पुलिस अधिकारी और जाब्ता मौके पर पहुंचा। पोस्टमार्टम के दौरान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक चिरंजीलाल, डीवाईएसपी पर्वत सिंह जैतावत, सीआई रोहित कुमार, धमोत्तर थानाधिकारी रतनलाल की मौजूदगी में मृतक के पिता राजूदास बैरागी ने बताया कि भरत शुक्रवार रात को घर पर आया था और सुनील उर्फ सोनू बैरागी को नए कपड़े व पटाखे दिलाने का कहकर साथ ले गया। इससे पहले सुनील की मोटरसाइकिल का पूजन किया। उसके बाद उसे घर से लेकर चला गया। रात करीब 10 बजकर 41 मिनट पर भरत कुमावत ने मोबाइल पर घटना के बारे में जानकारी दी।

परिजनों ने भरत सहित तीन के खिलाफ दी रिपोर्ट : परिजनों ने सुनील की हत्या को लेकर भरत कुमावत, अंकित मोगिया और राजू मोगिया के खिलाफ हत्या की धारा में मामला दर्ज करवाया है। मृतक के परिजनों को अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक चिरंजीलाल ने घटना में दोषियों के विरुद्ध निष्पक्ष कार्रवाई करने का आश्वासन दिया। उन्होंने बताया कि अभी कोई भी आरोपी गिरफ्तार नहीं हो सका है। तीनों की तलाश की जा रही है। गिरफ्तारी के बाद ही पता चल सकेगा कि हत्या के पीछे क्या मकसद था। पुलिस टीम ने चित्तौड़गढ एवं प्रतापगढ़ जिले में आरोपियों की तलाश शुरू की है। आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद ही मामले का खुलासा हो सकेगा।

खबरें और भी हैं...