पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पीपल की परिक्रमा कर पूजी दशामाता:सुहागिनों ने किया सोलह शृंगार, राजा नल सहित अन्य दस कहानियां सुनी, सुख-शांति की कामना की

धरियावद9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जिले भर में मंगलवार को दशा माता मनाया गया। इस दौरान विभिन्न जगहों पर धार्मिक आयोजन हुए महिलाओं ने पीपल की पूजा कर मनोकामनाएं मांगी। प्रतापगढ़ के तिलक नगर, बारावरदा क्षेत्र के ग्रामीण इलाकों में भी महिलाओं ने सुबह अपने घर पर पीली मिट्टी से आंगन में रंगोली बनाई।

महिलाओं ने व्रत रखकर दशा माता की कथा सुनी। पीपल के पेड़ की पूजा की। धरियावद के आसपास क्षेत्रों में व रावला बाघ नया बस स्टैंड, कुम्हार वाडा, सलूंबर रोड, कल्याणपुरा, गांधीनगर में परिवार की सुख समृद्धि का प्रतीक दशा माता का पर्व परंपरागत रूप से धार्मिक श्रद्धा एवं आस्था के साथ मनाया गया। इस अवसर पर महिलाएं ने विभिन्न स्थानों पर पीपल के वृक्ष की पूजा कर घर परिवार में सुख समृद्धि की कामना की।

नए परिधान पहनकर महिलाओं ने खुद को सजाया संवारा। धागे की पुरानी बेल को उतारकर नई बेल धारण की और पूजा अर्चना के बाद महिलाओं ने बड़े बुजुर्ग महिलाओं के पांव छूकर उनका आशीर्वाद लिया एवं दशा माता की कहानियां सुनी। अरनोद सहित क्षेत्र में सोमवार को दशामाता पर्व उत्साह व हर्षोल्लास से मनाया गया। सुहागिन महिलाओं ने सोलह श्रृंगार व परंपरागत परिधानों में सजधज कर शुभ मुहूर्त में पीपल की पूजा अर्चना की। माता से परिवार में सुख समृद्धि की कामना की।

महिलाएं तड़के से ही सोलह श्रृंगार से सज धज कर माता के गीत गाती हुई पूजा सामग्री से सजी थाली लेकर अरनोद के गोरेश्वर, रामकुण्ड, नई आबादी पंचायत समिति परिसर सहित क्षेत्र के मण्डावरा, जाजली, विरावली, मोहेड़ा गोतमेश्वर, साखथली खर्द आदि पूजा के स्थानों पर पहुंची। वहां पीपल के वृक्ष पर कुमकुम, अक्षत, अबीर, मेहंदी, दही, कच्चा सूत, मिठाई व जल चढ़ाकर श्रद्धा के साथ पूजा अर्चना की।

रक्षा के लिए माता की वेल पंडित से प्राप्त की। पूजा के बाद उन्होंने समूहों में बैठकर राजा नल व रानी दमयंती की कहानी के साथ अन्य दस कहानियां भी सुनी। कई महिलाओं ने तो घरों में कथा सुनी। शाम को घरों में मीठे व्यंजन बनाकर परिवार के साथ बैठकर व्रत खोला। अंत में महिलाओं ने माता के सुरक्षा धागे की वेल को अपने गले में धारण किया। अवलेश्वर कस्बे सहित आसपास गांव में दशा माता व्रत का पालन मंगलवार को महिलाओं ने किया। सुबह से ही महिलाएं गांव के बाहर से मिट्टी लेकर आई और घरों के आंगन को लीपा। आसपास के मंदिरों में दर्शन कर दशा माता व्रत की कथा सुनी। पूजा अर्चना कर सुख शांति की मनोकामनाएं मांगी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आपका संतुलित तथा सकारात्मक व्यवहार आपको किसी भी शुभ-अशुभ स्थिति में उचित सामंजस्य बनाकर रखने में मदद करेगा। स्थान परिवर्तन संबंधी योजनाओं को मूर्तरूप देने के लिए समय अनुकूल है। नेगेटिव - इस...

    और पढ़ें