पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पेयजल का संकट:नाथद्वारा में 14 घंटे में 3 इंच बारिश, खिलौनों की तरह बहे वाहन, निचले इलाकाें में भरा पानी

नाथद्वारा14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिले में 5 दिन बाद फिर तेज बारिश, अभी भी बड़े जल स्त्राेताें में आवक नहीं हाेने से पेयजल का संकट

शहर सहित आसपास के क्षेत्र में पांच दिन बाद फिर से तेज बारिश हुई। नाथद्वारा में रविवार को से सोमवार तक करीब 14 घंटे में 77 एमएम बारिश से निचले इलाकों में पानी भर गया। इससे दुपहिया वाहन खिलाैनों की तरह बहने लगे।

क्षेत्र में अभी तक 461 एमएम बारिश हुई है, जो पिछले वर्ष से 225 एमएम कम है। निचले इलाकों में पानी भरने से लोगो को परेशानी हुई। सीजन की सबसे तेज बारिश ने नगरपालिका द्वारा की गई व्यवस्था को अस्त व्यस्त कर दिया।

शाम 6 से 7.30 तक करीब डेढ़ घंटे तक तेज बारिश हुई। इससे चाैपाटी, सर्राफा बाजार, बोहरवाड़ी, अहिल्या कुंड, तेलीपुरा, नया माेहल्ला सहित क्षेत्राें की दुकानों और मकानों में पानी भर गया। बारिश रूकने के बाद भी करीब 3 घंटे तक पानी जाम की समस्या से लोग परेशान रहे।

चाैपाटी से बोहरवाड़ी और अहिल्या कुंड तक पानी का बहाव इतना तेज था कि कई बाइक, स्कूटी, सड़क पर रखे गए बैरिकैट्स, दुकानों के बाहर रखे गए स्टूल और अन्य सामान बह गए। दोपहिया वाहन बहकर चाैपाटी से बोहरवाड़ी के मुहाने तक पहुंच गए।

चाैपाटी से तेज बहाव में बहकर आए बैरिकेट बोहरवाड़ी में मस्जिद के मुख्य नाले के मुहाने पर आकर रूके। जिससे पानी जाम हो गया। मुख्य नाले में पानी नहीं जाने से पानी अहिल्याकुंड की तरफ बहने लगा और अहिल्याकुंड से तेलीपुरा तक की सड़क दरिया बन गई। सड़क पर करीब 2 फीट तक पानी भर गया।

पिछले साल अब तक हुई थी 686 एमएम बारिश

सोमवार सुबह 8 बजे तक नाथद्वारा में 3 इंच 2 एमएम बारिश रिकार्ड की गई। गत जनवरी 2021 से 5 सितंबर 2021 तक क्षेत्र में कुल 461 एमएम बारिश रिकार्ड की है। जबकि पिछले साल इन दिनों तक 686 एमएम बारिश हुई थी।

पिछले वर्ष से करीब 225 एमएम कम बारिश हुई है। वहीं इस बार पेयजल के सबसे बड़े स्त्रोत नंदसमंद बांध में पानी नहीं बचा है। शनिवार को भी बांध के कैचमेंट एरिया में बारिश नहीं होने से अभी बाघेरी या नंदसमंद में आवक शुरू नहीं हुई है।

खबरें और भी हैं...