उदयपुर में जल्द शुरू होगा बर्ड पार्क:गुलाबबाग में 11.5 करोड़ बना पक्षियों का घरोंदा, चार देशों के 28 परिंदों का होगा दीदार

उदयपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बर्ड पार्क में ऑस्ट्रेलियन, अफ्रीकन, एशियन और अमेरिकन परिंदे नजर आएंगे। - Dainik Bhaskar
बर्ड पार्क में ऑस्ट्रेलियन, अफ्रीकन, एशियन और अमेरिकन परिंदे नजर आएंगे।

झीलों के लिए दुनियाभर में पहचान रखने वाला उदयपुर अब देशी-विदेशी परिंदों के लिए भी जानी पहचानी चाहिए। शहर के गुलाबबाग में राजस्थान का पहला बर्ड पार्क तैयार हो चुका है। आने वाले दिनों में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के हाथों से इसका उद्धाटन हो सकता है। उदयपुर आने वाले टूरिस्ट को कई प्रजातियों के रंग-बिरंगे परिंदों की चहचहाहट को पास से देखने और आवाज सुनने का लुत्फ़ उठा सकेंगे। बर्ड पार्क में पर्यटकों को एशियन, ऑस्ट्रेलियन, अफ्रीकन और अमरीकन परिंदों के दीदार हो सकेंगे। इसमें कुल 28 प्रजातियों के पक्षियों को रखा जाएगा

चार देशों के 28 प्रजातियों के परिंदों के होंगे दीदार

बर्ड पार्क के प्रभारी और उप वन संरक्षक (वन्यजीव) डॉ. अजीत ऊंचोई ने बताया कि इसमें मकाऊ, काकाटू, सन कोंनुअर, सेनेगल पैरेट, बैरा बैंड पैराकीट, रोक पेब्लर, किम्सन बिग, पिंक कुर्क, सेनेगल फायर फिंच, रेड चिकड़ कार्डन ब्लू, ब्लेक रम्पड वैक्स बिल, कैलिफोर्निया क्वेल, नार्थन बॉब व्हाईट, चाइनीज क्वेल, ग्रीन मुनिया आदि की अटखेलियां पर्यटक करीब से देख सकेंगे। इसी प्रकार रोज रिंग पैराकीट, एलम्जैडिया पेरेट, प्लम हैडेड पैराकीट, मोर, बज्रीघर, लव बर्ड, कोकाटेल, रोज़ी पेलिकन, कॉम्ब डक, ग्रैलेग गूज, अमेरिकन पकिन, सिल्वर फिजेंट और एमू शामिल हैं।

बर्ड पार्क का उद‌्घाटन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कर सकते हैं।
बर्ड पार्क का उद‌्घाटन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कर सकते हैं।

12 पिंजरों में दिखेंगे परिंदें

डॉ. अजीत ऊंचोई ने बताया कि बर्ड पार्क गुलाबबाग में 12 एक्जीबिट्स यानि पिंजरें बनाए गए हैं, जिनमें असोर्टेंट पैराकिट, ईमु, ग्रीन मुनिया, लेसर पैसेराइन, ओस्टरीच, बार्न आउल, मकाउ, ककाटू प्रजातियों के पक्षियों को रखा जा रहा है। उन्होंने बताया कि शुक्रवार शाम तक 5 पिंजरों में पक्षियों की शिफ्टिंग का काम पूरा कर लिया गया है। वहीं बाकी पिंजरों में पक्षियों को सोमवार तक शिफ्ट कर लिया जाएगा।

डॉ. ऊंचोई ने बताया कि इसके अलावा एक होर्नबिल एन्क्लोजर, 3 गैलीफोर्म एन्क्लोजर, वल्चर एन्क्लोजर, एक्वाटिक बर्ड एन्क्लोजर का काम बर्ड पार्क निर्माण के दूसरे फैज़ में बजट उपलब्ध होते ही करवा दिया जाएगा। बर्ड पार्क में पर्यटकों की सुविधा के लिए किचन, हॉस्पिटल, विजिटर पाठ, टॉयलेट, वोटर टेंक, मेग्नेट एवं टिकट काउंटर, लैंडस्केपिंग, सैनेजेज, नल फिटिंग आदि काम भी किए गए हैं।

11.5 करोड़ की लागत से बना है बर्ड पार्क

इस बर्ड पार्क का निर्माण करीब 11.5 करोड़ रुपये की लागत से पर्यटन विभाग, वन विभाग, नगर निगम और यूआईटी ने संयुक्त रूप से करवाया है। करीब 5.11 हेक्टेयर क्षेत्र में फैले हुए गुलाबबाग के 3.85 हेक्टेयर में बर्ड पार्क का निर्माण किया गया है। इस पार्क के लिए पर्यटन विभाग ने 8 करोड़, नगर निगम ने 1.75 करोड़, यूआईटी ने 1.74 करोड़ रुपये दिए हैं। बता दें कि गुलाबबाग जंतुआलय की स्थापना 1878 में तत्कालीन मेवाड़ शासक महाराणा सज्जन सिंह ने की थी। यह चिड़ियाघर भारत का छठा प्राचीन चिडियाघर था।