वन विभाग घर-घर फ्री पहुंचाएगा औषधीय पौधे:गिलाेय-अश्वगंधा उपजा कर सेहत सुधारेंगे जिले के 3.41 लाख परिवार

उदयपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

राज्य सरकार की घर-घर औषधि योजना के तहत उदयपुर जिले में सितंबर-अक्टूबर माह तक औषधीय महत्व वाले पाैधाें का निशुल्क वितरण किया जाएगा। इस साल 27 लाख 35 हजार पाैधे वितरित किए जाएंगे। इससे जिले के 3 लाख 41 हजार 875 परिवार लाभान्वित हाेंगे।

पांच साल की योजना के तहत हर साल हर परिवार काे चार प्रकार की औषधियों के 8 पाैधे दिए जाएंगे। इनमें तुलसी, गिलोय, अश्वगंधा एवं कालमेघ शामिल हाेंगे। पांच साल में 3 बार यानी हर परिवार काे पाैधाें का वितरण हाेगा। मकसद इनके उपयोग से लाेगाें की इम्युनिटी औैर सेहत में सुधार करना है।

आदेश मिलते ही वन विभाग ने तैयारी शुरू कर दी है। डीएफओ मुकेश सैनी ने बताया कि जिले के सभी रेंज क्षेत्रों में प्लांटेशन शुरू कर दिया है। सितंबर, अक्टूबर तक वितरण किया जाएगा। जिले में 27 लाख से ज्यादा से पाैधे तैयार किए जा रहे हैं।
कई राेगाें के उपचार में कारगर हैं ये पाैधे

  • गिलोय: मधुमेह, खांसी, एनीमिया, पीलिया, चर्म रोग, बुखार आदि में
  • अश्वगंधा: शरीर काे ताकत मिलती है। सूजन कम करने के साथ दमा, खांसी, हृदय से जुड़ी तकलीफों में, गर्भवती काे पोषण देता है।
  • कालमेघ : पीलिया, लीवर औैर पेट की बीमारियाें में लाभदायक। लीवर की समस्या में यह मुख्य औषधि है।
  • तुलसी : यह एंटी ऑक्सीडेंट रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है।

-वरिष्ठ आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारी वैद्य शोभालाल औदीच्य के अनुसार

खबरें और भी हैं...