चौथ वसूली के बाद जागा निगम प्रशासन:अशोकनगर मोक्षधाम में किए 5 कर्मचारी तैनात, अंतिम संस्कार में मृतकों के परिजनों की करेंगे मदद

उदयपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अशोक नगर शमशान घाट पहुंचे नगर निगम उप महापौर पारस सिंघवी। - Dainik Bhaskar
अशोक नगर शमशान घाट पहुंचे नगर निगम उप महापौर पारस सिंघवी।

उदयपुर के अशोक नगर श्मशान घाट में अंतिम संस्कार के नाम पर की जा रही चौथ वसूली का विरोध शुरू हो गया है। मृतकों के परिजनों द्वारा बीते दिन नगर निगम प्रशासन को इसकी शिकायत की गई थी। जिसके बाद अब उपमहापौर पारस सिंघवी ने अशोक नगर श्मशान में निगम के 5 कर्मचारियों को तैनात किये है। जो शवों का अंतिम संस्कार करने में परिजनों की मदद करेंगे।

उपमहापौर पारस सिंघवी ने बताया कि पिछले दिनों उदयपुर के बाशिंदे ने अशोकनगर मोक्ष धाम के कर्मचारियों की शिकायत की थी। जिसमें उन्होंने बताया था की मोक्ष धाम में लकड़ी जमाने और शव के अंतिम संस्कार के लिए उनसे रुपयों की मांग की गई थी। जबकि अशोक नगर शमशान घाट नगर निगम द्वारा संचालित और निशुल्क है। ऐसे में अब नगर निगम द्वारा यहां 5 कर्मचारी नियुक्त किए गए हैं। जो इस महामारी के दौर में मृतकों के परिजनों की मदद करेंगे। साथ ही मृतकों के परिजनों से चौथ वसूली कर रहे अन्य कर्मचारियों के खिलाफ एक्शन भी लेंगे।

श्मशान घाट पर लापरवाह कर्मचारी को लताड़ लगाते उपमहापौर।
श्मशान घाट पर लापरवाह कर्मचारी को लताड़ लगाते उपमहापौर।

इधर, निगम आयुक्त हिम्मतसिंह बारहठ ने बताया कि निगम ने काेराेना संक्रमित के निधन पर एमबी चिकित्सालय और चित्रकूट नगर स्थित ईएसआईसी हॉस्पिटल से पार्थिव देह मोक्षधाम तक ले जाने के लिए पांच निशुल्क एंबुलेंस की व्यवस्था कर रखी है। बता दें कि उदयपुर में अशोक नगर श्मशान घाट पर ही कोरोना संक्रमित मरीजों का अंतिम संस्कार किया जा रहा है। लेकिन पिछले कुछ दिनों से निगम कर्मचारियों द्वारा यहां अंतिम संस्कार के नाम पर वसूली की गई। जिसको लेकर अब उदयपुर नगर निगम का शासन-प्रशासन एक्शन में आ गया है। ऐसे में अब देखना होगा नगर निगम की इस पहल से मजबूर लोगों को कितनी मदद मिल पाती है।