चिंतन शिविर के बीच वकीलों का प्रदर्शन:उदयपुर में हाईकोर्ट बैंच की मांग को लेकर सड़क पर उतरे वकील, पुलिस से हुई नोकझोंक, कई वकीलों ने दी गिरफ्तारी

उदयपुर14 दिन पहले
उदयपुर में पिछले 40 वर्षों से हाइकोर्ट बैंच की मांग की जा रही है।

उदयपुर में चल रहे कांग्रेस के चिंतन शिविर के बीच उदयपुर के वकीलों ने अपनी बरसों पुरानी हाईकोर्ट बैंच की मांग को लेकर प्रदर्शन किया। वकीलों ने हाईकाेर्ट बैंच की मांग को लेकर शनिवार को उदयपुर के कोर्ट चौराहे पर प्रदर्शन किया। सभी अधिवक्ता काले झंडे लेकर कोर्ट परिसर के बाहर एकत्रित हुए। इस दौरान पुलिस का भारी जाब्ता भी तैनात था, इसी दौरान पुलिस और वकीलों की बीच तीखी नोकझोंक भी हुई, लेकिन अधिवक्ता अपनी बात पर अड़े रहे और लगातार सरकार और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के खिलाफ नारेबाजी करते रहे।

प्रदर्शन के दौरान वकीलों की पुलिस से तीखी नोकझोंक भी हुई।
प्रदर्शन के दौरान वकीलों की पुलिस से तीखी नोकझोंक भी हुई।

पूर्व विधानसभा अध्यक्ष चपलोत ने भी दी गिरफ्तारी

साथ ही अधिवक्ताओं ने पुलिस को गिरफ्तारी भी दी। जिसपर पुलिस अधिवक्ताओं को गिरफ्तार कर एक बस में लेकर गई। इस दौरान पूर्व विधानसभा अध्यक्ष शांतिलाल चपलोत ने भी गिरफ्तारी दी। वकीलों का कहना था कि उदयपुर में हाईकोर्ट बैंच यहां के आदिवासियों के लिए बेहद जरूरी है। बता दें कि वकीलों की यह मांग वर्षों पुरानी है इस दौरान बीजेपी और कांग्रेस दोनों पार्टियों की सरकारें कई वर्षों तक रही हैं। मगर यह मांग अबतक पूरी नहीं हो सकी है।

हर महीने मांग कर प्रदर्शन करते हैं वकील

उदयपुर बार एसोसिएशन के अधिवक्ता पिछले कई वर्षों से लगातार हाईकोर्ट बेंच की मांग को लेकर धरना प्रदर्शन कर रहे हैं, इसके तहत हर महीने की 7 तारीख को बार एसोसिएशन के अधिवक्ता हाईकोर्ट बैंच की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन करते हैं, इस महीने हुए धरना प्रदर्शन में अधिवक्ताओं ने यह तय किया था कि यदि उनकी मांग पूरी नहीं की जाती है तो वह उदयपुर में चल रहे कांग्रेस के नव संकल्प चिंतन शिविर को काले झंडे दिखाकर अपना विरोध दर्ज करेंगे।