पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एंटीबॉडी कॉकटेल:एंटीबॉडी कॉकटेल से रुकेगा शरीर में संक्रमण, अगले हफ्ते से सप्लाई

उदयपुर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रदेशभर में अगले सप्ताह से कोरोना संक्रमित मरीजों को बचाने के लिए एंटीबॉडी कॉकटेल उपलब्ध करा दी जाएगी। - Dainik Bhaskar
प्रदेशभर में अगले सप्ताह से कोरोना संक्रमित मरीजों को बचाने के लिए एंटीबॉडी कॉकटेल उपलब्ध करा दी जाएगी।
  • पिछले साल इसी एंटीबॉडी से डोनाल्ड ट्रम्प का इलाज हुआ था

प्रदेशभर में अगले सप्ताह से कोरोना संक्रमित मरीजों को बचाने के लिए एंटीबॉडी कॉकटेल उपलब्ध करा दी जाएगी। राज्य सरकार के निर्देश पर कोरोना संक्रमित मरीजों को कैसिरीवीमैब और इम्डेवीमैब की इस एंटीबॉडी कॉकटेल की डोज देने का ऑनलाइन प्रशिक्षण शनिवार को हुआ। इसमें बताया गया कि एक पैकिंग में दो वायल आएंगी। दोनों से आधी-आधी दवा इंजेक्शन के जरिए शरीर में पहुंचाएंगे। एक वायल का उपयोग दो मरीजों के लिए किया जाएगा।

वायरस का फैलाव रोकेगी, इसलिए गंभीर 70% रोगी भी भर्ती नहीं होंगे
आरएनटी मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. लाखन पोसवाल ने बताया कि मरीज को 7 दिन के भीतर एंटीबॉडी कॉकटेल का डोज लगने के बाद वायरस बॉडी में मल्टीप्लाय यानी संक्रमण का फैलाव नहीं हो पाता है। ये एंटीबॉडी दवा वायरस को कोशिकाओं के अंदर जाने से रोक लेती है। इससे बीमारी का खतरा बढ़ने से रुक जाता है। इस एंटीबॉडी से करीब 70% ऐसे लोग हॉस्पिटल जाने से बच जाएंगे, जिन्हें अस्पतालों में भर्ती करने की जरूरत होगी। बता दें, पिछले साल इसी एंटीबॉडी से अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प का कोरोना ट्रीटमेंट किया गया था।

गाइड लाइन : 12 साल से ज्यादा उम्र के संक्रमित को 7 दिन में दवा
एंटीबॉडी कॉकटेल के डोज 12 साल से ज्यादा उम्र के संक्रमितों को संक्रमण के 7 दिन के भीतर देनी होगी। एंटी बॉडी कॉकटेल की डोज लीवर-किडनी-कैंसर-डायबिटीज ग्रसित हाइरिस्क मरीजों को ही दी जाएगी। इसके लिए आरटीपीसीआर पॉजिटिव रिपोर्ट का होना अतिआवश्यक है। इसके सर्दी-जुकाम-बुखार-डायरिया आदि से पीड़ित मरीज तुरंत आरटीपीसीआर कोरोना जांच कराएंगे ताकि संक्रमण के सात दिन के भीतर इस का डोज देने में सहूलियत हो सके।

मल्टी-डोज की कीमत 1.19 लाख, लेकिन आरएनटी में निशुल्क मिलेगी
डॉ. पोसवाल ने बताया कि आरएनटी के कोविड हॉस्पिटलों में कोरोना संक्रमितों को ये दवा निशुल्क दी जाएगी। जबकि 1200 एमजी की हर डोज में 600 एमजी कैसिरीवीमैब और 600 एमजी इम्डेवीमैब है। हर डोज की कीमत 59,750 रुपए होगी। इसके मल्टी-डोज पैकेट की अधिकतम कीमत 1.19 लाख रुपए होगी। एक पैक से दो कोरोना संक्रमितों का ट्रीटमेंट किया जा सकता है।

खबरें और भी हैं...