60 साल में क्या किया भाजपा को जवाब देगी कांग्रेस:अविनाश पांडे बोले- भाजपा ने झूठ फैलाया, उसे काटने के लिए जवाब देंगे

उदयपुर3 महीने पहलेलेखक: निखिल शर्मा

उदयपुर में चल रहे कांग्रेस के चिंतन शिविर में 2024 लोकसभा चुनाव को अपना लक्ष्य बना लिया है। भाजपा का मुकाबला करने के लिए कांग्रेस ने तय किया है कि अब वो भाजपा को 60 साल में क्या किया का जवाब देगी। एक-एक नागरिक तक यह बात पहुंचाएगी की कांग्रेस ने 60 साल में क्या किया। भास्कर से खास बातचीत में कांग्रेस के महासचिव और वर्किंग कमेटी के सदस्य अविनाश पांडे ने यह बातें साझा की...

सवाल : इस चिंतन शिविर को बेहद अलग कहा गया, पार्टी ने इससे आखिर क्या अलग निकाला है।

अनिवानाश पांडे : संगठन को बेहतर करने को बॉडी मैकेनिज्म करेगा काम

अविनाश पांडे ने बताया कि दो तरीके से कांग्रेस अब आगे बढ़ेगी। इसमें संगठन के तौर पर पार्टी को एक बॉडी स्ट्रक्चर के रूप में ट्रीट किया जाएगा। जिस तरह से हम शरीर के एक-एक अंग का ख्याल रखते हैं। उसी तरह कांग्रेस अपने संगठन के एक-एक अंग का ख्याल रखेगी। जहां कोई रोग या बीमारी लगेगी तो उसका ऑपरेशन भी किया जाएगा। साथ ही अगर किसी समस्या को दूर करने के लिए कड़वी दवा भी पिलानी पड़ी तो वो भी पिलाई जाएगी। जो अंग जितना अहम और संवदेनशील है उसका ख्याल उसी तरह किया जाएगा।

सवाल : कांग्रेस लगातार अपने समर्थन को वोट में तब्दील करने में विफल रही है, उसके लिए पार्टी क्या करेगी?

अविनाश पांडे : पार्टी की वैल्यूज और विश्वसनीयता एक-एक व्यक्ति तक पहुंचाएंगे

अविनाश पांडे ने पार्टी की स्ट्रैटेजी को वोट में कंवर्ट करने की बात को लेकर कहा कि भाजपा ने जिस तरह का झूठ फैलाया है। उसे काटने के लिए अब हम उन्हें जवाब देंगे कि हमने 55-60 वर्ष में क्या किया। हमारी विचारधारा, हमारे काम को एक-एक व्यक्ति तक लेकर जाएंगे। उन्हें बताएंगे कि कांग्रेस ने देश के लिए क्या किया है। आजादी के आंदोलन से लेकर कांग्रेस से जुड़ी हर विश्वसनीय जानकारी को तथ्यों के साथ लोगों के सामने पेश करेंगे।

अविनाश पांडे ने चिंतन शिविर में सीपी जोशी से चर्चा की।
अविनाश पांडे ने चिंतन शिविर में सीपी जोशी से चर्चा की।

भास्कर सवाल : इस शिविर के बाद पार्टी के कामकाज में क्या नया देखने को मिल सकता है?

अविनाश पांडे :पार्टी में अनुशासन बढ़ेगा

पांडे ने बताया कि पार्टी को मजबूत करने के लिए सबसे ज्यादा फोकस इस पर किया गया कि किस तरह पार्टी का अनुशासन बना रहे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस एक लोकतांत्रिक पार्टी है। पार्टी के भीतर भी लोकतंत्र है। मगर उसका मिसयूज ना हो उसके चलते पार्टी में अनुशासन और गंभीरता बनाए रखने पर पूरा फोकस किया गया है।

भास्कर सवाल : पिछले कुछ समय में कई नेता पार्टी छोड़कर गए है, इसे लेकर पार्टी की क्या सोच?

अविनाश पांडे : जो छोड़कर गए पार्टी का फोकस उनपर नहीं

पांडे ने कहा कि जो नेता पार्टी छोड़कर चले गए। उनके बारे में शिविर में कोई बातचीत नहीं की गई है। उन लोगों को अवसरवादी मानकर छोड़ दिया गया है। तय किया गया है कि जो कांग्रेस की विचारधारा के साथ मजबूती से खड़ा है। उसपर ही पार्टी विचार करेगी।

भास्कर सवाल : क्या नेतृत्व को लेकर शिविर में ही चीजें तय हो जाएंगी?

अविनाश पांडे : इसे लेकर अब लगभग सबकुछ स्पष्ट ही है

पांडे ने कहा कि यह बिलकुल स्पष्ट ही हो गया है कि कांग्रेस का नेतृत्व भविष्य में कौन करेगा। इस पर बात करने के लिए कुछ बचा नहीं है। पार्टी के ज्यादातर नेता यही चाहते हैं।

कांग्रेस के सभी नेताओं ने साथ किया डिनर।
कांग्रेस के सभी नेताओं ने साथ किया डिनर।

भास्कर सवाल : युवा नेता पिछले कुछ समय से पार्टी से खासे खुश नहीं हैं, उनके लिए कुछ सोचा है?

अविनाश पांडे : युवाओं को तरजीह मगर बैलेंस बना रहेगा

पांडे ने बताया कि युवा नेताओं पर पार्टी का पूरा फोकस है। युवा और अनुभवी नेताओं के बीच अच्छे कॉम्बिनेशन के साथ आगे बढ़ेंगे। युवाओं को निश्चित तौर पर आगे बढ़ाया जाएगा।

भास्कर सवाल : किस वर्ग को टारगेट करने पर फोकस है कांग्रेस का ?

अविनाश पांडे : फोकस दलित, आदिवासी, ओबीसी

पांडे ने कहा कि पार्टी का पूरा फोकस दलित, आदिवासी, ओबीसी और अल्पसंख्यक वर्ग पर है। ये वर्ग हमेशा कांग्रेस से जुड़ा रहा है। अब कांग्रेस इस वर्ग पर अलग से फोकस करेगी। ताकी इनके बीच अपनी पकड़ और मजबूत की जा सके।

पांडे की बातों के मायने

कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक रविवार को होनी है। इसी के साथ कांग्रेस चिंतन शिविर में लिए गए निर्णयों पर मुहर लगाएगी। ऐसे में अविनाश पांडे की कही बातों के मायने साफ हैं कि पार्टी अब अपने संगठनात्मक ढांचे को पूरा रिवाइव करने की तैयारी में है। जहां जरूरी होंगे कड़े निर्णय भी लिए जाएंगे। पार्टी का लोकतंत्र बरकरार रहेगा। मगर कोई उसका दुरुपयोग नहीं कर पाएगा। साथ ही लोगों के बीच पकड़ बनाने के लिए पार्टी की पुरानी मूल विचारधारा और वैल्यूज पर कांग्रेस लौटेगी।

यह भी पढ़ें...

चिंतन शिविर में आज बड़े 6 फैसलों का दिन:एक परिवार, एक टिकट और 5 साल बाद पद छोड़ने पर होगा फैसला

राजस्थान के रण में विरोधियों को गहलोत का मैसेज:पायलट के बयान के 2 घंटे बाद विक्ट्री साइन बनाकर संकेतों में जवाब

चिंतन शिविर में पक रहे 10 राज्यों के पकवान:देशभर से आए नेताओं के लिए लखनवी कबाब, लिट्‌टी-चोखा और कैर-सांगरी

कांग्रेस के चिंतन शिविर में 8 चौंकाने वाले पोस्टर:गांधी परिवार से ज्यादा अहमियत सुभाषचंद्र बोस, भगत सिंह और सरदार पटेल को

प्रमोद कृष्णम बोले-पायलट के साथ नाइंसाफी हुई है:एमपी-छत्तीसगढ़-पंजाब में प्रदेशाध्यक्षों को सीएम बनाया, पायलट को नहीं