सांसत में सांसें:ईएसआईसी में बेड फुल, मरीजों की सांसें नहीं थमें, इसलिए कुर्सी पर ही ऑक्सीजन

उदयपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 1112 नए रोगी, 37 मौतें, इनमें पूर्व पार्षद चंदा सहित 13 महिलाएं
  • डराने वाली इन तस्वीरों के पीछे पॉजिटिव तस्वीर भी छिपी है
  • संकट के इस दौर में सराहनीय पहल की, जिसे जहां जगह-वहीं सांसें

शहर में बुधवार को फिर नए संक्रमितों का आंकड़ा एक हजार पार हो गया। 1112 नए रोगी मिले। इनमें 823 शहरी और 289 ग्रामीण हैं। वहीं उदयपुर की 55 वर्षीय पूर्व पार्षद चंदा राव सहित 25 संक्रमितों की मौत हो गई। यहां भर्ती अन्य जिलों के 11 रोगियों सहित कुल 37 संक्रमितों की कोरोना से मौत हो गई है। उदयपुर के 25 मृतकों में 13 महिलाएं हैं। इस बीच बुधवार को आरएनटी मेडिकल कॉलेज में किसी भी सरकारी अस्पताल से मरीजों को लौटाने के बजाए अस्पताल परिसर में ही कुर्सियों पर ऑक्सीजन देना शुरू कर दिया। ताकि गंभीर मरीजों को तुरंत उपचार मिल सके।

जिले में अब कुल एक्टिव मरीज 11 हजार 334 हो गए हैं। इनमें से 9 हजार 983 होम आइसोलेट है तो 1351 भर्ती हैं। शहर में अभी 1600 गंभीर मरीज भर्ती हैं। इनमें से 219 मरीज वेंटिलेटर, 953 ऑक्सीजन सपोर्ट और 150 आईसीयू में भर्ती हैं। आरएनटी मेडिकल कॉलेज के अधीन संचालित ईएसआईसी, सुपर स्पेशियलिटी, एमबी के तीन कोविड सेंटर के सभी 755 ऑक्सीजन बेड अाैर सभी 111 वेंटिलेटर फुल हैं। गंभीर संक्रमितों को अस्पताल के फर्श पर बाहर ही सिलेंडर से ऑक्सीजन दी जा रही है। मरीज कुर्सियों पर बैठकर ही ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं।

सभी सरकारी अस्पतालों में यही पहल लागू होगी

आरएनटी मेडिकल कॉलेज के एमबी सहित तीन हॉस्पिटलों और ईएसआईसी में कोरोना का इलाज हो रहा है, लेकिन इमरजेंसी में ऑक्सीजन की 3-4 घंटे की वेटिंग चल रही है। ऐसे में परिजन मरीज को लेकर एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल भटकते रहते हैं। उनकी हालत भी बिगड़ती जाती हैं। ऐसे में आरएनटी मेडिकल कॉलेज ने सभी सरकारी हॉस्पिटल में यह सुविधा देने का निर्णय लिया।

आरएनटी मेडिकल काॅलेज के प्रिंसिपल डॉ. लाखन पोसवाल ने बताया कि एमबी-ईएसआईसी पहुंचने वाले गंभीर संक्रमितों को बैड नहीं होने पर अस्पताल में ऑक्सीजन सिलेंडर पर रखा जाएगा ताकि ऑक्सीजन के अभाव में किसी की जान न जाए। बैड खाली होते ही या नए बैड के इंतजाम होते ही भर्ती करा दिया जाएगा।

सुविवि की प्रो. निधि का निधन
सुविवि के पर्यावरण अध्ययन विभाग की अध्यक्ष प्रो. निधि राय का बुधवार को काेराेना से निधन हो गया। संक्रमित मिलने के बाद से प्रो. निधि का एमबी अस्पताल के कोविड हॉस्पिटल में इलाज चल रहा था। इधर बुधवार को गोवर्धन विलास की 55 वर्षीय पूर्व पार्षद चंदा राव, सायरा की 50 वर्षीय महिला, रामपुरा की 66 वर्षीय महिला, झाड़ोल की 45 वर्षीय महिला, लेक गार्डन की 66 वर्षीय महिला, बेदला की 60 वर्षीय महिला, पायडा निवासी 65 वर्षीय महिला, कोलीवाड़ा की 45 वर्षीय महिला, सिख कॉलोनी की 54 वर्षीय महिला, विवि मार्ग की 58 वर्षीय महिला, खारा कुआं की 86 वर्षीय महिला सहित शहर के 25 लोगों ने दम तोड़ दिया।

कोविन एप : पहले ही दिन सर्वर क्रैश, रजिस्ट्रेशन ठप

जिले में 18 से 44 साल के 14 लाख सहित प्रदेश के 3 कराेड़ युवा काेविड वैक्सीनेशन के लिए बुधवार काे काेविन-आराेग्य सेतु एप पर रजिस्ट्रेशन नहीं करवा पाए। वजह यह थी कि एकाएक ऑनलाइन काम हाेने से सर्वर ही क्रैश हाे गया। अब इन दोनों एप पर राेज रजिस्ट्रेशन होंगे, क्योंकि केंद्र सरकार के आदेशानुसार 1 मई से 18 से 44 साल तक के युवाओं को टीके लगाए जाएंगे। हालांकि प्रदेश सरकार को पर्याप्त टीके नहीं मिलने की वजह से राजस्थान में इस उम्र के युवाओं का टीकाकरण शुरू होने में काफी देरी हो सकती है।

खबरें और भी हैं...