आरएसबीसीएल ने 9 दुकानें नीलामी में ली:बोली करोड़ों में, बिक नहीं रही शराब, उदयपुर की चार दुकानों सहित 8 होंगी सरेंडर

उदयपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कराेड़ाें की बाेली लगाकर शराब दुकान आवंटन करवाना आरएसबीसीएल और शराब ठेकेदारों काे रास नहीं आ रहा है। तय बिक्री के हिसाब से शराब नहीं बेच पाने और पेनल्टी से बचने के लिए खरीदार ये दुकानें आबकारी विभाग काे सरेंडर करने लगे हैं। इसी के चलते आरएसबीसीएल ने 8 दुकानाें काे सरेंडर करने फैसला लिया है। बता दें कि कम बिक्री के चलते पिछले दिनाें जयपुर में 17 ठेकेदारों ने दुकानें सरेंडर करने के लिए आवेदन किया था।

आबकारी विभाग ने नई नीति में इस बार दुकानों की ऑनलाइन बोली लगवाई थी। साथ ही इस बार आएसबीसीएल काे भी दुकानें आवंटित करने फैसला किया गया था। बाेली में भाग लेकर आरएसबीसीएल ने पांच जिले बीकानेर, बूंदी, चित्तौड़गढ़, नागाैर और उदयपुर में 9 दुकानें आवंटित करवाई।

अब काॅरर्पाेरेशन ने इनमें से बीकानेर की एक दुकान काे छाेड़कर बाकी 8 दुकानें सरेंडर करेगा। इनमें उदयपुर की 4, बीकानेर, बूंदी, नागाैर के डीडवाना और चित्तौड़गढ़ की एक एक-एक दुकान शामिल है। इन्हें सरेंडर करने के पीछे बड़ी वजह शराब की कम बिक्री ही माना जा रही है।

इधर, प्रदेश में 9 अगस्त काे आदिवासी दिवस पर सरकारी छुट्टी हाेने के बावजूद श्रीगंगानगर शुगर मिल्स एंड डिस्टलरी के कर्मचारियाें काे अवकाश नहीं देने पर कर्मचारियाें ने विराेध जताया है। संघ ने सार्वजनिक अवकाश की मांग की है।

खबरें और भी हैं...