पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • Chinese Manjha Is Being Sold Indiscriminately Even After The Accidents, The People Of The City Demanded The Action Of Handing Over The Manjha To The Collector.

उदयपुर में दुर्घटना के बाद आक्रोश:चाइनीज मांझा लेकर कलेक्टर के पास पहुंचे शहरवासी, टेबल पर रखकर बोले- इनकी बिक्री रोक लो, वरना घटनाओं को रोकना मुश्किल होगा

उदयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कलेक्टर को ज्ञापन देने आए शहरवासी। - Dainik Bhaskar
कलेक्टर को ज्ञापन देने आए शहरवासी।

उदयपुर में बेरोकटोक चाइनीज मांझे की खरीद-फरोख्त को को लेकर अब सामाजिक संगठन विरोध पर उतर गए हैं। शुक्रवार को उदयपुर विकास संघर्ष समिति के पदाधिकारियों ने कलेक्टर चेतन देवड़ा को ज्ञापन सौंप चाइनीज मांझे पर बैन की मांग की।

संघर्ष समिति के पदाधिकारियों ने बताया कि पिछले दिनों हुए हादसों के बावजूद आज भी शहर में बेरोकटोक चाइनीज मांझा की बिक्री हो रही है। जो आम जनता के लिए जानलेवा साबित हो रही है। लोगों ने कलेक्टर को ज्ञापन के साथ मांझा भी दिया और कहा- इनकी बिक्री को रोक लें अन्यथा और भी दुर्घटना हो सकती हैं।

चाइनीज मांझा के साथ कलेक्ट्री पहुंचे शहरवासी।
चाइनीज मांझा के साथ कलेक्ट्री पहुंचे शहरवासी।

संघर्ष समिति के रविंद्र पाल सिंह ने बताया कि आज हमारी टीम द्वारा दिल्ली गेट चौराहे पर दुकानदार से चाइनीज मांझा मांगा गया। जिस पर पहले तो उसने आनाकानी की। लेकिन बाद में हमें चाइनीज मांझा सौंप दिया। जिसे हमने ज्ञापन के साथ जिला कलेक्टर को भी सौंपा है। ताकि शहर के लापरवाह दुकानदारों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए। जिससे जानलेवा बन चुका चाइनीज मांझा उदयपुर में अब और जिंदगी ना छीन सके।

बता दें कि बुधवार को उदयपुर में 5 साल की मासूम बच्ची की चाइनीस मांझी की चपेट में आने से गर्दन कट गई थी। वहीं से 15 जून को भी चाइनीज मांझे की चपेट में आने से एक व्यक्ति की टांग कट गई थी। बावजूद इसके शासन प्रशासन द्वारा अवैध रूप से हो रही चाइनीज मांझे की बिक्री पर कोई कार्रवाई नहीं की गई। जिसको लेकर अब उदयपुर में कई सामाजिक संगठन विरोध पर उतर आए हैं। ऐसे में देखना होगा गर्मियों के मौसम में चाइनीज मांझे की बिक्री को रोकने के लिए शासन प्रशासन क्या कदम उठाता है।

खबरें और भी हैं...