• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • Clean Half A Dozen Stubble From Chandpole Culvert, Today Will Eliminate The Roots With Chemicals So That Peepal And Banyan Trees Cannot Raise Their Heads Again

आओ सारे उदयपुर संवारें:चांदपोल पुलिया से आधा दर्जन ठूंठ साफ, केमिकल से आज खत्म करेंगे जड़ें ताकि दुबारा सिर न उठा सकें पीपल और बरगद के पेड़

उदयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 1 हफ्ते बाद जागी विरासत संरक्षण समिति, पुलिया की मरम्मत की मांग

दीवारों में पीपल-बरगद के पेड़ उगने से जर्जर हो रही 200 साल पुरानी चांदपोल पुलिया के अच्छे दिन आने की उम्मीद जागी है। नगर निगम की टीम ने मंगलवार को पुलिया से वे आधा दर्जन ठूंठ हटा दिए, जिन पर बढ़े पेड़ पिछले हफ्ते काटे थे। अब केमिकल से इनकी जड़ें खत्म करेंगे ताकि ये पेड़ वापस नहीं पनपें। दिनोदिन जर्जर और असुरक्षित होती जा रही पुलिया को लेकर भास्कर की सिलसिलेवार खबरों पर निगम प्रशासन अब पूरी तरह एक्टिव हुआ है।

लगातार दूसरे दिन पहुंची टीम ने पुलिया की दीवारों से ठूंठ काटे। बुधवार को जड़ों का केमिकल ट्रीटमेंट किया जाएगा। इधर, एक हफ्ते बाद निगम की विरासत संरक्षण समिति भी जागी है। अध्यक्ष मदन दवे ने मेयर को पत्र लिखकर पुलिया की मरम्मत की मांग मांग की है।

अध्यक्ष मदन दवे ने बताया कि पेड़ों के ठूंठ काट दिए हैं। अब इनकी जड़ाें पर केमिकल डालेंगे। इनके सूखने के बाद ग्राउटिंग की जाएगी। मेयर काे पत्र लिखकर पुलिया का रेनाेवेशन स्मार्ट सिटी के तहत करवाने की मांग की है। दाईजी पुलिया, अंबा माता पुलिया सहित दूसरे पुलाें की भी मरम्मत करवाएंगे। शहर के सभी हेरिटेज भवनाें और पुरानी दीवाराें को सुरक्षित करने के लिए अभियान शुरू कर दिया है।

चांदपोल पुलिया की दीवार में करीब 2 इंच मोटी और 5 फीट से ज्यादा लंबी दरारें। चांदपोल ही नहीं, दूसरी पुलियाओं समेत शहर के सभी ऐेतिहासिक भवनाें, शहरकाेट आदि से भी पेड़ काटे जाएंगे। चांदपाेल पुलिया सहित दूसरी पुलियाओं का रेनाेवेशन स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत कराने की जरूरत बताई गई है।

खतरा टला नहीं, दरारों की मरम्मत भी जरूरी

झील सुरक्षा और विकास समिति के सदस्य तेज शंकर पालीवाल ने दोहराया है कि चांदपोल पुलिया पर पेड़ाें की जड़ें मशीन से काटी गई हैं। यह समाधान अस्थायी है, क्योंकि ये पेड़ तो वापस पनप जाएंगे। है। जब तक जड़ें पूरी तरह खत्म नहीं की जाएंगी, स्थायी समाधान नहीं होगा। इसके लिए विशेषज्ञ टीम की राय से काम होना चाहिए। पुलिया में दिख रही दरारें खतरे का संकेत दे रही हैं। इनकी भी मरम्मत होनी चाहिए, क्योंकि पुलिया से राेजाना हजाराें शहरवासियों के अलावा पर्यटकों के वाहन गुजरते हैं।

खबरें और भी हैं...