अलर्ट / निगम में कभी भी हो सकती है सहवृत पार्षदों की नियुक्ति

X

  • अजमेर और श्रीगंगानगर जिले की पालिकाओं में हुई नियुक्तियां

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 08:14 AM IST

उदयपुर. पालिकाओं में सहवृत पार्षद के रूप में राजनीतिक नियुक्तियां होने का क्रम शुरू हो गया है। इसे देखते ही उदयपुर नगर निगम में 7 सहवृत पार्षदों की नियुक्ति की उम्मीदें बढ़ गई हैं। स्वायत्त शासन विभाग के संयुक्त सचिव उज्ज्वल राठौड़ ने मंगलवार को अजमेर और श्रीगंगानगर जिले की 18 पालिकाओं में सहवृत पार्षदों की नियुक्ति के आदेश जारी कर दिए हैं।

पालिका बोर्ड का कार्यकाल पूरा होने या सरकार के अगले आदेश तक सहवृत पार्षदों का कार्यकाल रहेगा। इन नियुक्तियों के साथ ही उदयपुर नगर निगम में भी 7 सहवृत पार्षदों की नियुक्तियों की अटकलें तेज हो गई हैं। ये नियुक्तियां होते ही निगम बोर्ड में पार्षदों के संख्या बल के मामले में कांग्रेस और मजबूत स्थिति में आ जाएगी। अभी निगम बोर्ड में कुल 70 पार्षदों में से भाजपा के 44, कांग्रेस के 20, निर्दलीय 5 (1 जनता सेना समर्थित) और एक माकपा का पार्षद है।

सहवृत पार्षदों की नियुक्ति से कांग्रेस के साथ ही निगम बोर्ड में विपक्ष और मजबूत हो जाएगा। इस बार निगम चुनाव में मामूली वोट से हारे कांग्रेस प्रत्याशियों में से कुछ लोगो को सहवृत पार्षद के रूप में निगम बोर्ड में एंट्री मिल सकती है। इसके शहर जिला कार्यकारिणी में शामिल कुछ सक्रिय पदाधिकारी भी सहवृत पार्षद के रूप में निगम बोर्ड में भेजे जा सकते हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना