पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • Crude $ 4 Expensive On Election Days, But Petrol And Diesel 4 Times Cheaper, Now Crude $ 3 More Expensive, But Petrol And Diesel Costlier For The Second Consecutive Day

पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़े:चुनावी दिनों में क्रूड 4 डॉलर महंगा, लेकिन पेट्रोल-डीजल 4 बार सस्ते, अब क्रूड 3 डॉलर महंगा, लेकिन पेट्रोल-डीजल लगातार दूसरे दिन महंगे

उदयपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • चुनाव खत्म, नतीजे अब जनता के लिए.... डीजल 23 पैसे बढ़कर 90.36, पेट्राेल 20 पैसे बढ़कर अब 97.91 रुपए लीटर

दो दिन पहले चुनाव नतीजे पार्टियों के लिए आए थे, अब जनता के लिए आ रहे हैं। लगातार दूसरे दिन बुधवार को भी पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ाए गए। डीजल 23 पैसे, पेट्रोल 20 पैसे महंगा हुआ। एक दिन पहले पेट्रोल 31 व डीजल 27 पैैसे महंगा किया था। अब उदयपुर में डीजल 90.36 रु., पेट्रोल 97.91 रु. लीटर मिलेगा। एक दिन पहले चुनावी कनेक्शन में भास्कर ने खुलासा किया था कि किस तरह चुनावी 67 दिनों में कीमतें बढ़ाने के बजाय घटाई गई।

अब आंकड़ों की पड़ताल की ताे फिर चौंकाने वाली जानकारी सामने आई। पांच राज्यों प. बंगाल, केरल, असम, पुडुचेरी व तमिलनाडु में विधानसभा चुनावों की घोषणा 25 फरवरी को की गई थी। उस समय अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड ऑयल 61.50 डॉलर प्रति बैरल था। इसके बाद मार्च में यह 59.16 डॉलर पर आ गया और अप्रैल में 63.48 डॉलर पर पहुंच गया। यानी करीब 4 डॉलर प्रति बैरल की वृद्धि हुई, लेकिन मार्च-अप्रैल में चुनाव के कारण पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ाने के बजाय 4 बार घटा दी गई।

लगातार दो दिन 24 व 25 मार्च को राहत दी गई। चारों बार में पेट्रोल 72 पैसे और डीजल 53 पैसे सस्ता किया। अब क्रूड पर करीब 3 डॉलर बढ़े हैं, लेकिन लगातार दो दिन दाम बढ़ा दिए गए। दो दिन में ही करीब 50-50 पैसे की बढ़ोतरी की गई है। अप्रैल में क्रूड ऑयल 63.48 डाॅलर था, जो अब 66.54 डॉलर प्रति बैरल पर है।

जो नुकसान चुनाव में, उसकी भरपाई अब

नोट : मार्च-अप्रैल में दो-दो बार दाम घटे। सूची में ये एकसाथ हैं। मई की दो दिनी बढ़ोतरी भी साथ। क्रूड के दाम डॉलर प्रति बैरल में
नोट : मार्च-अप्रैल में दो-दो बार दाम घटे। सूची में ये एकसाथ हैं। मई की दो दिनी बढ़ोतरी भी साथ। क्रूड के दाम डॉलर प्रति बैरल में

विशेषज्ञों का कहना है कि चुनाव के दौरान क्रूड के दाम 4 डॉलर प्रति बैरल तक बढ़ने के बावजूद पेट्रोल-डीजल की कीमतें नहीं बढ़ाने का असर अब नजर आएगा। तेल कंपनियां पेट्रोल-डीजल की कीमतें लगातार बढ़ाकर इसी नुकसान की भरपाई करेंगी। गैस के दाम भी बढ़ सकते हैं।

असर : अभी निजी वाहन ज्यादा नहीं चल रहे, लेकिन रोजमर्रा की चीजें महंगी होंगी
लॉकडाउन और लगातार घटती कमाई के बीच पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों का असर आम आदमी पर आना तय है। आने वाले दिनाें में किराना, सब्जी-फल समेत नियमित उपभाेग की वस्तुओं की कीमताें पर इसका असर दिखेगा। लॉकडाउन में भले ही निजी वाहनों में पेट्रोल-डीजल की खपत अभी कम है, लेकिन रोजमर्रा का सामान महंगा होने का असर आम आदमी पर आएगा। पिछले तीन माह में सोयाबीन तेल के दाम ही 15% तक बढ़ गए हैं।

अभी यह 153 रु. लीटर तक मिल रहा है। दाल चना 64 रुपए से बढ़कर 72, मोगर 90 से बढ़कर 100 और हल्दी 85 से बढ़कर 97 रु. किलो पर जा पहुंची है। फल-सब्जी मंडी अध्यक्ष मुकेश खिलवानी का कहना है कि फिलहाल सब्जी-फल की डिमांड में कमी है, लेकिन डीजल की बढ़ती कीमतों का असर इनकी कीमतों पर आएगा।

खबरें और भी हैं...