पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

दिवंगत गजेंद्र सिंह की 11 खास फोटो:शक्तावत ने पायलट के लिए गहलोत के खिलाफ खोला था मोर्चा, जयपुर से मानेसर तक निभाया था साथ

उदयपुरएक महीने पहलेलेखक: स्मित पालीवाल
  • कॉपी लिंक
कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए दिवंगत विधायक गजेंद्र सिंह। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए दिवंगत विधायक गजेंद्र सिंह। (फाइल फोटो)

उदयपुर की वल्लभनगर विधानसभा सीट से कांग्रेस के विधायक गजेंद्र सिंह शक्तावत का बुधवार सुबह दिल्ली में निधन हो गया। शक्तावत पिछले लंबे समय से दिल्ली में लिवर प्रॉब्लम का ट्रीटमेंट ले रहे थे। लेकिन, बुधवार सुबह उनकी तबीयत ज्यादा बिगड़ गई और उनकी मौत हो गई। वही अब शक्तावत का अंतिम संस्कार कोरोना गाइडलाइन के तहत उनके पैतृक गांव भींडर में गुरुवार सुबह 11 बजे किया जाएगा।

कुछ देर मौन रहने के बाद रुंधे गले से पायलट ने कहा- हमेशा हर मोर्चे पर उनका साथ मिला

उदयपुर में जनसुनवाई करते गजेंद्र सिंह शक्तावत। (फाइल फोटो)
उदयपुर में जनसुनवाई करते गजेंद्र सिंह शक्तावत। (फाइल फोटो)
राहुल गांधी से मुलाकात करते गजेंद्र सिंह शक्तावत। (फाइल फोटो)
राहुल गांधी से मुलाकात करते गजेंद्र सिंह शक्तावत। (फाइल फोटो)

गजेंद्र सिंह शक्तावत का जन्म 25 मई 1973 में ​​​उदयपुर के भींडर में हुआ था। जहां उनकी प्रारंभिक शिक्षा दीक्षा हुई। उन्होंने उच्च शिक्षा के लिए उदयपुर के मोहनलाल सुखड़िया विश्वविद्यालय में दाखिला लिया था। शक्तावत ने साल 1991 में सुखाड़िया विश्वविद्यालय से उपाध्यक्ष पद का चुनाव लड़ा था। इसमें उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा। लेकिन, लगातार राजनीति में सक्रिय रहने के बाद उन्हें एनएसयूआई प्रदेश उपाध्यक्ष बनाया गया था।

तीन महीने में प्रदेश के 4 विधायकों का निधन, इनमें से 3 कांग्रेस के

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से चर्चा करते गजेंद्र सिंह शक्तावत। (फाइल फोटो)
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से चर्चा करते गजेंद्र सिंह शक्तावत। (फाइल फोटो)
एनएसयूआई पदाधिकारियों के साथ गजेंद्र सिंह शक्तावत। (फाइल फोटो)
एनएसयूआई पदाधिकारियों के साथ गजेंद्र सिंह शक्तावत। (फाइल फोटो)

गजेंद्र सिंह शक्तावत ने अब तक 3 बार विधायक का चुनाव लड़ा, जिनमें साल 2008 और 2018 में उन्हें जीत हासिल हुई, जबकि 2013 में शक्तावत को हार का मुंह देखना पड़ा। 2008 में चुनाव जीतने के बाद शक्तावत को गहलोत सरकार में संसदीय सचिव की जिम्मेदारी दी गई थी।

विधानसभा चुनाव के दौरान चर्चा करते सचिन पायलट और गजेंद्र सिंह शक्तावत। (फाइल फोटो)
विधानसभा चुनाव के दौरान चर्चा करते सचिन पायलट और गजेंद्र सिंह शक्तावत। (फाइल फोटो)
कार्यकर्ता सम्मेलन में पूर्व प्रदेश अध्यक्ष के साथ गजेंद्र सिंह शक्तावत। (फाइल फोटो)
कार्यकर्ता सम्मेलन में पूर्व प्रदेश अध्यक्ष के साथ गजेंद्र सिंह शक्तावत। (फाइल फोटो)

साल 2013 में विधायक का चुनाव हारने के बाद शक्तावत लगातार राजनीति में सक्रिय रहे। जिसके बाद उन्हें सचिन पायलट की प्रदेश कार्यकारिणी में महासचिव की जिम्मेदारी दी गई।इसके बाद सचिन पायलट की सिफारिश पर 2018 विधानसभा चुनाव में शक्तावत को वल्लभनगर विधानसभा का टिकट मिला। जिसमें शक्तावत पायलट की उम्मीदों पर खरे उतरे और त्रिकोणीय संघर्ष में जीतकर विधानसभा पहुंचे।

2018 में चुनाव जीतने के बाद शक्तावत का स्वागत करते कांग्रेसी कार्यकर्ता। (फाइल फोटो)
2018 में चुनाव जीतने के बाद शक्तावत का स्वागत करते कांग्रेसी कार्यकर्ता। (फाइल फोटो)
पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के साथ दौरा करते गजेंद्र सिंह शक्तावत। (फाइल फोटो)
पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के साथ दौरा करते गजेंद्र सिंह शक्तावत। (फाइल फोटो)

इसके बाद में गजेंद्र सिंह शक्तावत और सचिन पायलट की दोस्ती और मजबूत हो गई थी। साल 2020 जुलाई में प्रदेश कांग्रेस के हुए घटनाक्रम में गजेंद्र सिंह शक्तावत ने कंधे से कंधा मिला सचिन पायलट का साथ दिया। शक्तावत जयपुर से लेकर मानेसर तक सचिन पायलट खेमे के साथ दिखे। इस दौरान कई बार शक्तावत ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के खिलाफ भी मोर्चा खोला। इस दौरान विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी के आदेश के बाद रात 12 बजे शक्तावत के घर विधानसभा तलब के नोटिस भी चस्पा किए गए थे।

कार्यकर्ताओं से मिलते गजेंद्र सिंह शक्तावत। (फाइल फोटो)
कार्यकर्ताओं से मिलते गजेंद्र सिंह शक्तावत। (फाइल फोटो)
पत्नी प्रीति शक्तावत और बच्चों के साथ विधायक गजेंद्र सिंह शक्तावत। (फाइल फोटो)
पत्नी प्रीति शक्तावत और बच्चों के साथ विधायक गजेंद्र सिंह शक्तावत। (फाइल फोटो)
खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपकी सकारात्मक और संतुलित सोच द्वारा कुछ समय से चल रही परेशानियों का हल निकलेगा। आप एक नई ऊर्जा के साथ अपने कार्यों के प्रति ध्यान केंद्रित कर पाएंगे। अगर किसी कोर्ट केस संबंधी कार्यवाही चल र...

और पढ़ें