• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • Health Deteriorating After Eating In The Demented Home Of Narayan Seva Sansthan, Treatment Of Five Continues In MB Hospital, Health Department Swung Into Action After The Deaths; Food Sample For

दूषित भोजन से दो बच्चों की मौत:उदयपुर के विमंदित गृह में खाने के बाद बिगड़ी तबीयत, 5 बच्चों का एमबी अस्पताल में इलाज जारी

उदयपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
एमबी अस्पताल में भर्ती बच्चों से मिलने पहुंचे कलेक्टर चेतन देवड़ा। - Dainik Bhaskar
एमबी अस्पताल में भर्ती बच्चों से मिलने पहुंचे कलेक्टर चेतन देवड़ा।

उदयपुर में नारायण सेवा संस्थान की ओर से संचालित विमंदित बाल गृह में तीन दिन में दूषित भोजन से दो बच्चों की मौत की मौत हो गई। हालांकि, मौत के कारण पूरी तरह स्पष्ट नहीं है। 5 बच्चों का एमबी अस्पताल में इलाज जारी है, यहां एक बच्चे की स्थिति गंभीर बताई जा रही है। बच्चों की मौत के बाद बुधवार शाम बाल कल्याण समिति और स्वास्थ्य विभाग की टीम भी हरकत में आई। दूषित भोजन को लेकर चल रही गहमा-गहमी पर सीएमएचओ डॉ दिनेश खराडी सहित आला अधिकारियों ने निरीक्षण कर फूड सैंपल लिए। कलेक्टर चेतन देवड़ा भी देर रात को अस्पताल पहुंचे।

जानकारी के अनुसार बुधवार को एमबी अस्पताल में भर्ती 17 वर्षीय किशोर ने दोपहर में दम तोड़ दिया। किशोर को मंगलवार सुबह उल्टी की शिकायत होने पर भर्ती करवाया गया था। सोमवार रात को भोजन करने के बाद देर रात को उल्टियां होने उसे अस्पताल में भर्ती करवाया गया। यहां बुधवार को मौत हो गई। अंबामाता पुलिस की मौजूदगी में शव का पोस्टमार्टम करवाकर उसे परिजनों को सुपूर्द कर​ दिया गया। इससे पहले रविवार को भी एक बच्चे की तबीयत बिगड़ने पर मौत हुई थी। कहा जा रहा है कि दूषित भोजन के सेवन से बच्चों की हालात बिगड़ी है।

निरीक्षण करते सीएमएचओ डॉ दिनेश खराड़ी।
निरीक्षण करते सीएमएचओ डॉ दिनेश खराड़ी।

परिजनों ने बताया कि मंगलवार को विमंदित गृह के प्रतिनिधियों की ओर से उनके बेटे के तबीयत बिगड़ने की जानकारी दी गई थी। वे अस्पताल भी पहुंचे, जहां पेट में दर्द और बार-बार उल्टी की दिक्कत हो रही थी। कलेक्टर चेतन देवड़ा ने कहा कि फूड सैंपल की रिपोर्ट के बाद ही भोजन के बारे में कहा जा सकता है। फिलहाल सभी बच्चों को बेहतर इलाज देने की पूरी कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा कि संस्थान में परोपकार के उद्देश्य से बाहर से आने वाले लोगों द्वारा पका हुआ, भोजन बच्चों को खिलाया जाता है, संभवतया इसी भोजन के बाद बच्चें बीमार हुए हैं।

बाल गृह में टीम जांच करती हुई।
बाल गृह में टीम जांच करती हुई।

सीमएचओं डॉ दिनेश खराड़ी ने बताया कि विमंदित गृह के संचालकों से बात की गई तो बाहर से किसी के द्वारा फूड पैकेट दिए जाने की बात कही गई है। उन पैकेट को खाने के बाद 7 बच्चों की तबीयत बिगड़ी। उन्होंने कहा कि फूड पॉइजनिंग की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता हैं।

खबरें और भी हैं...