राजस्थान में उदयपुर कोरोना का हॉटस्पॉट कैसे बना:महाराष्ट्र और गुजरात से आने वाले पर्यटकों की वजह से बढ़ रहा संक्रमण, कलेक्टर बोले- मजबूरन उदयपुर में लॉकडाउन लगाना पड़ेगा

उदयपुर8 महीने पहलेलेखक: स्मित पालीवाल
  • कॉपी लिंक

राजस्थान में उदयपुर कोरोना का नया हॉटस्पॉट बन चुका है। रविवार को उदयपुर में प्रदेश के सबसे अधिक 864 कोरोना मरीज सामने आए। अब उदयपुर में संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 17 हजार को पार कर गया है। कोरोना संक्रमण दर के मामले में भी उदयपुर 27.47% के साथ प्रदेश में नंबर वन पर है।

लेकसिटी में लगातार बढ़ रहे संक्रमण के मामलों को लेकर दैनिक भास्कर ने उदयपुर के विशेषज्ञों से राय जानी। उन्होंने बताया कि आम जनता की लापरवाही के साथ ही महाराष्ट्र और गुजरात से आने वाले पर्यटक भी बढ़ते संक्रमण का प्रमुख कारण हैं। इसे सिर्फ कोरोना गाइडलाइन का पालन कर ही रोका जा सकता है। वहीं हालात बेकाबू होते देख कलेक्टर ने कहा- लोग नहीं संभले तो मजबूरन शहर में लॉकडाउन लगाना पड़ेगा।

शहरवासियों की लापरवाही अब पड़ रही भारी: CMHO दिनेश खराड़ी

उदयपुर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी दिनेश खराड़ी ने बताया कि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर को उदयपुर के बाशिंदों ने हल्के में लिया था। जिसका खामियाजा अब शहरवासियों को भुगतना पड़ रहा है। खराड़ी ने कहा कि जनता कोरोना गाइडलाइन को भूल चुकी थी। शहर में पर्यटक स्थल, शॉपिंग मॉल्स, समारोह और धार्मिक स्थलों पर भीड़ एकत्रित हो रही थी। जिसकी वजह से सुपर स्प्रेडर की संख्या बढ़ गई। इसके चलते उदयपुर में अब हालात भयावह हो रहे हैं।

महाराष्ट्र और गुजरात से बढ़ा उदयपुर में कोरोना: डॉ. रमेश जोशी

उदयपुर के महाराणा भूपाल चिकित्सालय के अतिरिक्त अधीक्षक डॉ. रमेश जोशी ने कहा कि शहर में पिछले कुछ वक्त से प्रवासियों की आवाजाही बढ़ी है। जो शहर में संक्रमण बढ़ने का प्रमुख कारण है। डॉ. जोशी ने कहा कि देश में महाराष्ट्र और गुजरात से पिछले दिनों उदयपुर में बड़ी संख्या में प्रवासी और पर्यटक पहुंचे थे। ये अपने साथ कोरोना भी लेकर आ गए।

इस दौरान उनकी RTPCR जांच तो करवाई गई। लेकिन RTPCR जांच रिपोर्ट में भी कई बार संक्रमण के शुरुआती दिनों में पॉजिटिव रिपोर्ट नहीं आती। जबकि बाद में वह व्यक्ति संक्रमित मिलता है। ऐसे में बाहरी राज्यों से आने वाले लोगों से ही उदयपुर में हालात बद से बदतर हो गए।

लॉकडाउन की ओर बढ़ रहा उदयपुर: कलेक्टर चेतन देवड़ा

उदयपुर में पिछले कुछ दिनों से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ी है। जिसकी वजह से शहर के कई इलाकों में मिनी कंटेंटमेंट जोन बनाए गए हैं। लेकिन संक्रमित मरीजों का ग्राफ लगातार बढ़ रहा है। अब अगर समय रहते शहरवासियों ने कोरोना गाइडलाइन की पालन नहीं किया तो स्थिति लॉकडाउन की ओर बढ़ जाएगी। ऐसे में जिला प्रशासन को मजबूरन उदयपुर में लॉकडाउन लागू करना पड़ेगा।

उदयपुर में बढ़ते संक्रमण पर मुख्यमंत्री गहलोत ने जताई चिंता

रविवार को राजधानी जयपुर में राजस्थान में बढ़ते कोरोना संक्रमण पर लगाम लगाने के लिए मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में बैठक बुलाई गई थी। इस बैठक में मुख्यमंत्री गहलोत ने उदयपुर में बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर चिंता जाहिर की। गहलोत ने कहा कि उदयपुर में कोरोना जांच में 100 में से 30 व्यक्ति संक्रमित मिल रहे हैं। जो हम सब के लिए चिंताजनक है। इसी वजह से उदयपुर में 12 घंटे कर्फ्यू लागू किया गया है। जिसके तहत शाम 6 से सुबह 6 तक कर्फ्यू लागू रहेगा।

संक्रमण के लक्षण बदले: अब डायरिया, पेट दर्द, उल्टी और ज्यादा कमजोरी ताे काेराेना

उदयपुर में परवान पर चल रही कोरोना महामारी की दूसरी लहर में संक्रमित अब सर्दी-खांसी-बुखार-गले में दर्द की जगह डायरिया, पेट दर्द, उल्टी, तेज बदन दर्द, बहुत ज्यादा कमजोरी से पीड़ित हैं। उदयपुर में इन्हीं बदले हुए लक्षणों के साथ कोरोना तेजी से फैल रहा है। इधर, रविवार को कोरोना काल के एक साल के इतिहास में पहली बार रिकॉर्ड 864 नए संक्रमित सामने आए और चार की मौत हो गई। एक्टिव केस भी रिकॉर्ड-3747 हो गए हैं।

लिक्विड ज्यादा लें, सुबह और शाम गर्म पानी पीएं: डॉ. डीपी सिंह

मेडिसिन विशेषज्ञ और आरएनटी मेडिकल कॉलेज के पूर्व प्रिंसिपल डॉ. डीपी सिंह ने कहा कि कोरोना के लक्षण अब बदल चुके हैं। कोरोना में पहले संक्रमितों में गले में दर्द, बुखार, खांसी-कमजोरी जैसे लक्षण सामने आए थे। अब लक्षण बदले हुए हैं। अब बहुत ज्यादा कमजोरी, शरीर में तेज दर्द, दो-तीन दिन बुखार, डायरिया और पेट दर्द के लक्षण वाले सामने आ रहे हैं। लिक्विड ज्यादा लें, सुबह और शाम गर्म पानी पीएं।

खबरें और भी हैं...