पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नया प्रोग्राम:आईआईएम-यू के इंक्यूबेशन सेंटर से एग्री-फिनटेक स्टार्टअप के लिए पेशकश, निवेश राशि अब 20 लाख

उदयपुर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 27 अगस्त से 27 सितंबर तक कर सकेंगे आवेदन, परिणाम घोषणा 15 अक्टूबर को

आईआईएम-उदयपुर के इंक्यूबेशन सेंटर (आईसी) ने आईसी एग्रीटेक और फिनटेक क्षेत्रों में चुनौतियों से निपटने के लिए टेक्नोलॉजी सपोर्टेड स्टार्टअप (प्री-सीड, सीड और ग्रोथ स्टेज) के लिए निवेश की पेशकश दोगुनी कर 20 लाख रुपए तक की है। इसमें एग्रीटेक और फिनटेक के उन स्टार्टअप के आवेदन लेंगे, जिसका प्रोटोटाइप या एमवीपी तैयार है, या उत्पादों की स्केलिंग-मार्केटिंग प्रक्रिया में है। दरअसल, आईआईएम-यू के आईसी सेंटर ने लॉन्च-एन-जूम के चौथे समूह (कोहार्ट) की घोषणा की है।

25 अक्टूबर शुरू होने वाले कार्यक्रम को स्टार्टअप के संसाधन और सहायता देने के लिहाज से डिजाइन किया गया है। ताकि वे तेजी से बढ़ सकें और बाजार की चुनौतियों को परखते हुए व्यावहारिक कदम उठा सकें। इसके तहत मार्केट वेलिडेशन, नेटवर्किंग, मेंटरशिप, इंडस्ट्री पार्टनरशिप और इंक्यूबेशन सपोर्ट के अलावा कोहार्ट में योग्य स्टार्टअप के लिए 20 लाख रुपए तक निवेश का भी अवसर दिया जाएगा। केंद्र सरकार के डीएसटी की ओर से संचालित कार्यक्रम में कॉरपोरेट पार्टनर के रूप में पीआई और फिडेलिटी इन्वेस्टमेंट्स एग्रीटेक को शामिल किया गया है। बता दें कि आवेदन 27 अगस्त से लिए जा रहे है, जिसकी आखिरी तारीख 27 सितंबर रहेगी। परिणाम की घोषणा 15 अक्टूबर को होगी।

सेंटर के मेंटर, एक्सपर्ट और कॉर्पोरेट पार्टनर दिखाएंगे राह, करेंगे मदद

इंक्यूबेशन सेंटर के सीईओ कन्नन सुंदर राजन ने बताया कि यह तीन महीने का एक्सेलरेटर प्रोग्राम है, जिसमें उद्यमियों के लिए सेंटर के मेंटर, उद्योग विशेषज्ञों और कॉर्पोरेट भागीदारों की मदद भी मिलेगी। ये टीम के रूप में जरूरतों के लिए कार्यक्रम को तैयार करने का प्रयास करेंगे और उद्यम विकास में मदद करेंगे। एग्रीटेक के फोकस क्षेत्र में मार्केट लिंकेज-फार्म इनपुट्स, फार्म मैकेनाइजेशन एंड ऑटोमेशन, प्रेसिजन एग्रीकल्चर एंड फार्म मैनेजमेंट, क्वालिटी मैनेजमेंट, सप्लाई चेन टेक, वेस्ट मैनेजमेंट और फाइनेंशियल सर्विसेज आदि विषय शामिल होंगे।

फिनटेक के फोकस क्षेत्र में ऑटोनॉमस फाइनेंस, फाइनेंशियल प्राइमेसी, बैंकिंग एज ए सर्विस, वित्तीय समावेशन-रिटेल ग्राहक और वित्तीय समावेशन- एसएमई जैसी चुनौतियों पर काम किया जाएगा। यह प्रोग्राम चयनित स्टार्टअप को रैपिड प्रोटोटाइप सपोर्ट भी प्रदान करेगा और सभी भाग लेने वाले स्टार्टअप को निशुल्क अमेजन वेब सर्विसेज रेजर पे, जोहो क्रेडिट मिलेगा। इसके साथ ही, प्रोग्राम पूरा करने के बाद छात्र स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र के एल्युमनी बन जाएंगे और एक्सेलरेटर प्रोग्राम के बाद भी एक वर्ष तक संस्थान की इंक्यूबेशन सेवाओं का उपयोग करना जारी रखेंगे।

खबरें और भी हैं...