राइफल चलाना सीख रहे कॉलेज स्टूडेंट:एनसीसी के कैम्प में कैडेट्स को सिखा रहे पॉइंट 22 राइफल चलाना, दी जा रही आर्मी की टफ ट्रेनिंग

उदयपुर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राइफल चलाना सीखते कैडेट्स। - Dainik Bhaskar
राइफल चलाना सीखते कैडेट्स।

उदयपुर के टेक्नो एनजेआर इंस्टीट्यूट में 10 राज बटालियन एनसीसी कैडेट्स का कैम्प चल रहा है। यहां कैडेट्स को आर्मी की ट्रेनिंग दी जा रही है। एनसीसी का यह कैम्प 5 दिन चलेगा। इस कैम्प की खास बात यह है कि इसमें लगभग 300 पुरुष और महिला कैडेट्स को आर्मी की पूरी ट्रेनिंग दी जा रही है। कैडेट्स को पॉइंट 22 राइफल चलाना सिखाया जा रहा है। साथ ही ड्रिल और गार्ड ऑफ ऑनर जैसी एक्टिविटीज भी करवाई जा रही हैं। इसमें 9 कॉलेज के कैडेट और एनसीसी अधिकारी भाग ले रहे हैं।

कैडेट्स को गार्ड ऑफ ऑनर की ट्रेनिंग देते हुए
कैडेट्स को गार्ड ऑफ ऑनर की ट्रेनिंग देते हुए

कैंप एडजंटेंट और सीटीओ डॉ. माया चौधरी ने बताया कि शिविर में ग्रुप कमांडर कर्नल विनोद कुमार बांगरवा और कर्नल विकास यादव निरीक्षण कर चुके हैं। उन्होंने अपने अनुभव कैडेट्स के साथ बांटे और अनुशासन का महत्व बताया। साथ ही शिविर के दौरान होने वाली गतिविधियों का भी बारीकी से निरीक्षण किया | उन्होंने केडेट्स को एनसीसी से होने वाले फायदों की जानकारी दी और कहा कि एनसीसी के माध्यम से कैडेट को सेना की बेसिक ट्रेनिंग दी जाती है। जिससे वह सेना में अपना करियर बना सकें|

कैडेट्स को टिप्स देते आर्मी के अधिकारी
कैडेट्स को टिप्स देते आर्मी के अधिकारी

कैंप कमांडेंट कर्नल निर्भय कुमार और डिप्टीकैंप कमांडेंट मेजर मिथलेश ने बताया कि शिविर के दौरान कैडेट्स को ड्रिल, हथियार का प्रशिक्षण, फायरिंग, आत्मरक्षा, नागरिक सुरक्षा, आपदा प्रबंधन की जानकारी दी जा रही है | कैडेट्स के लिए कई तरह की प्रतियोगिताएं भी करवाई जा रही हैं जिनमें रस्साकशी, क्रॉस कंट्री, वॉलीबॉल अब तक हो चुकी हैं। कैडेट्स को सेना की ही तरह अल्फा, ब्रैवो, चार्ली, डेल्टा इको कंपनियों में बांटा गया है। डॉ. माया बताती हैं कि प्रशिक्षण में कैडेट्स को एनसीसी बी सर्टिफिकेट और सी सर्टिफिकेट एग्जाम की तैयारी करवा रहे हैं। यह उनके एकेडमिक्स में मदद करेगा।

खबरें और भी हैं...