• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • In The Meeting, Vallabhnagar MLA Preeti Shaktawat Was Not Even Allowed To Speak, The Chairman Ended The Meeting At His Level.

भींडर की पहली बोर्ड बैठक में हंगामा:बैठक में वल्लभनगर विधायक प्रीति शक्तावत को बोलने का मौका नहीं दिया, खत्म कर दी बैठक

उदयपुरएक महीने पहले
भींडर नगर पालिका की बोर्ड बैठक।

भींडर नगर पालिका के नए बोर्ड की पहली बैठक ही हंगामेदार रही। बोर्ड की पहली बैठक में हंगामा हुआ तो चेयरमैन ने बैठक खत्म कर दी। मामला तब ज्यादा बिगड़ गया जब बैठक में पहली बार शामिल हुई वल्लभनगर की नवनिर्वाचित विधायक प्रीति शक्तावत का ना तो उदबोधन करवाया गया और ना ही पार्षदों का उनसे परिचय करवाया गया। इस पर प्रीति शक्तावत नाराज हो गई और उन्होंने पालिकाध्यक्ष को कठपुतली बता डाला।

शक्तावत ने पालिका के रवैय पर नाराजगी जताते हुए कहा कि उपाध्यक्ष मगनीराम रेगर और पूर्व चैयरमैन गोवर्द्धन लाल भोई पालिका को चला रहे हैं। पालिकाध्यक्ष निर्मला भोजावत महज कठपुतली हैं। बैठक में पार्षदों से परिचय भी नहीं करवाया गया और उनकी समस्याओं को नहीं सुना गया। इस पूरे प्रकरण की सरकार से शिकायत करूंगी। बैठक में कांग्रेस और भाजपा के पार्षदों ने विकास कार्यों में मतभेद के साथ भ्रष्टाचार के आरोप भी लगाए।

मेरी जिद पर हुई बैठक और विधायक पद की गरिमा भूली चेयरमैन : विधायक

भीण्डर नगर पालिका बोर्ड में विधायक प्रीति गजेंद्र सिंह शक्तावत का उद्बोधन नहीं पर बोर्ड बैठक की समाप्ति के बाद प्रीति ने कहा कि नए बोर्ड बनने के बाद 10 माह से पद पर बैठे लोगों ने एक बैठक भी करवाना उचित नहीं समझा। अब जब मेरी जिद पर पालिका बोर्ड की पहली बैठक हुई है। पालिकाध्यक्ष निर्मला भोजावत ने बोर्ड बैठक में विधायक पद की गरिमा भी नहीं रखी। अपने तरीके से बैठक शुरू की और अपने अनुसार खत्म कर दी। आप दो पार्षद (उपाध्यक्ष मगनीराम रेगर व पूर्व पालिकाध्यक्ष गोवर्द्धनलाल भोई) ही चला रहे हैं नगर पालिका तो अगली बार भी आप दो लोग ही चलाएं नगर पालिका। पालिका बोर्ड बैठक के दौरान उन दो पार्षदों के अलावा किसी को बोलने नहीं दिया जा रहा था, जितना उनको बोलना था वो तो बोले लेकिन अन्य किसी को बोलने का मौका नहीं दिया।

बैठक में मौजूद प्रीति शक्तावत।
बैठक में मौजूद प्रीति शक्तावत।

कांग्रेस पार्षद लता चौबीसा ने किया स्वागत का विरोध

बैठक में पालिका सभी पार्षदों का स्वागत किया जा रहा था कि कांग्रेस पार्षद लता चौबीसा ने अपना स्वागत नहीं करने दिया। लता चौबीसा ने कहा कि हमको निर्वाचित हुए 10 माह हो गये और अब स्वागत करने की याद आईं। जब पालिकाध्यक्ष ने कार्यभार ग्रहण किया तब सभी पार्षदों को भी आमंत्रित स्वागत कर सकते थे, लेकिन पालिकाध्यक्ष केवल अपने 13 पार्षदों को लेकर घूम रही है।

पार्षदों की समिति बनाए जाने का सुझाव

विधायक प्रीति शक्तावत ने सुझाव दिया कि विकास कार्यों के लिए एक 5 पार्षदों की समिति बनाएं जिसमें तीनों दलों के पार्षदों को शामिल किया जाएं। सभी को साथ लेकर चलना चाहिए जिससे नगर विकास में कोई कमी नहीं रहें। सभी पार्षदों ने सहमति देते हुए समिति गठन की बात कहीं। प्रीति ने कहा कि पालिका से सम्बंधित निर्णय केवल पालिकाध्यक्ष अकेले नहीं लें, ना ही उनके चुंनिदा पार्षदों के कहने पर ले। सभी पार्षदों से रायशुमारी कर निर्णय करें।

इनपुट : अभिषेक श्रीमाली।

खबरें और भी हैं...