• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • Leader Of Opposition Gulabchand Made Serious Allegations Against Govind Singh, Said Dotasara Made Relatives By Misusing The Post, RAS; Chief Minister Should Investigate And Take Strict Action Against The Culprits

नेता प्रतिपक्ष का PCC अध्यक्ष पर गंभीर आरोप:गुलाबचंद कटारिया ने कहा- सत्ता का दुरुपयोग कर डोटासरा ने रिश्तेदारों को बनाया RAS; मामले की जांच करे सरकार

उदयपुर3 महीने पहले
गुलाबचंद कटारिया (फाइल फोटो)

राजस्थान प्रशासनिक सेवा में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा के रिश्तेदारों के चयन के बाद अब विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। बुधवार को विधानसभा नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने RPSC पर गंभीर आरोप लगाए। कटारिया ने कहा कि राजस्थान के इतिहास में ऐसा पहली बार हो रहा है, जब RAS में इस तरह से भ्रष्टाचार कर चुनिंदा लोगों को रेवड़ी बांटी जा रही है। जबकि मेहनत करने वाले छात्र के अरमानों पर पानी फेर आ जा रहा है। ऐसे में इस पूरे मामले की निष्पक्ष जांच की जानी चाहिए।

गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि राजस्थान के शिक्षा मंत्री के तीन रिश्तेदारों के इंटरव्यू में 80 से ज्यादा नंबर आए हैं। जबकि जिस छात्र ने राजस्थान प्रशासनिक सेवा में टॉप किया है, उसे भी इतने नंबर नहीं मिले। ऐसे में यह साफ जाहिर होता है कि कहीं ना कहीं कुछ गड़बड़ी हुई है। जिससे न सिर्फ आरपीएससी की साख पर सवाल खड़े हो रहे हैं। बल्कि राजस्थान की शिक्षण व्यवस्था और सरकार की कार्यशैली भी कटघरे में आ गई है। ऐसे में भविष्य में छात्रों का आरपीएससी पर विश्वास बना रहे, इस बात को ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री को पूरे मामले की जांच करवानी चाहिए।

कटारिया ने कहा कि आरपीएससी के चेयरमैन जब पुलिस में थे, तब उनकी बेदाग छवि के किस्से सुनाए जाते थे। लेकिन, आज सत्तारूढ़ पार्टी के दबाव में आकर उन्होंने भी भ्रष्टाचार की राह पकड़ ली है। जिससे न सिर्फ उनकी बल्कि खाकी की छवि पर भी इसका गलत प्रभाव पड़ा है। ऐसे में इस पूरे मामले की निष्पक्ष जांच होने के साथ ही दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।

ये है मामला
हाल ही में राजस्थान प्रशासनिक सेवा के परिणाम जारी हुए थे। जिनमें कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष और वर्तमान शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा के परिवार के कुछ लोगों को इंटरव्यू में 80 से अधिक नंबर दिए गए हैं। जिसको लेकर शुरू हुआ विवाद अब तूल पकड़ता जा रहा है। हालांकि इस पूरे मामले पर गोविंद सिंह डोटासरा ने सफाई पेश की है। उन्होंने कहा है कि मेरे परिवार के सभी लोग पढ़ लिखकर इस मुकाम पर पहुंचे हैं। यह मुझे और मेरे परिवार को बदनाम करने की साजिश है।