लीगल रिपोर्ट:मनीष खत्री व आशीष लोढ़ा को मिली जमानत के आदेश निरस्त

उदयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सेशन काेर्ट ने कहा- दाेनाें अभियुक्त ताे गिरफ्तार हाे अभिरक्षा में जाने के याेग्य हैं

इन्दिरा आईवीएफ के कर्मचारी अभिषेक सुखवाल के साथ मारपीट करने के मामले में मनीष खत्री और आशीष लोढ़ा को न्यायिक मजिस्ट्रेट से मिली जमानत जो सेशन कोर्ट ने निरस्त कर दिया। साथ ही कोर्ट ने यह तक कहा कि दोनों गिरफ्तार होकर अभिरक्षा में जाने योग्य हैं। बता दें कि मनीष खत्री पुत्र कमल खत्री और आशीष लोढ़ा पुत्र अशोक लोढ़ा के खिलाफ भूपालपुरा थाने ने मुकदमा दर्ज हुआ था। मुकदमे में पुलिस ने अनुसंधान कर दोनों के खिलाफ चालान भी पेश किया था। रिपोर्ट में था कि इन्दिरा आईवीएफ के कर्मचारी अभिषेक सुखवाल के साथ दोनों ने गंभीर मारपीट की और जान से मारने की धमकी दी।

पुलिस ने आईपीसी 323, 325, 342, व 506/34 के तहत न्यायालय में चार्जशीट प्रस्तुत की थी। अभिषेक सुखवाल जरिये अधिवक्ता संजय गुप्ता द्वारा प्रस्तुत प्रार्थना पत्र में उस पर की गई गंभीर मारपीट व चाटों की संख्या को दर्शाते हुए न्यायालय से धारा 307/308 में भी प्रसंज्ञान लेने का निवेदन किया था। इस पर आरोपित मनीष खत्री व आशीष लोढ़ा की तरफ से पैरवी अधिवक्ता ने की तथा बहस के दौरान अपने द्वारा प्रस्तुत जवाब के अनुरूप तर्क दिए।

खबरें और भी हैं...