विरोध:बजट में कानोड़ की अनदेखी पर बंद रखे बाजार, तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा

उदयपुर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • उपखंड अधिकारी, पॉलीटेक्निक काॅलेज, सीएचसी को 100 बेड़ का करने की मांग

राज्य सरकार के बजट में कानोड़ नगर की अनदेखी करने के कारण शनिवार को कानोड़ नगर स्वैच्छिक पूर्ण बंद रहा। बजरंग सेना कानोड़ के नेतृत्व में मुख्यमंत्री के नाम तहसीलदार को ज्ञापन सौपा गया तथा शाम को कोर्ट चौराहा पर कैंडल मार्च कर विरोध प्रदर्शन किया। शनिवार सुबह से शाम तक व्यापारियों ने बंद का समर्थन करते हुए अपने प्रतिष्ठान नहीं खोले।

दोपहर 1.30 बजे बजरंग सेना प्रमुख बजरंग दास वैष्णव के नेतृत्व में कार्यकर्ता कोर्ट चौराहा से वाहन रैली के रूप में सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए तहसील कार्यालय पहुंचे, जहां पर तहसील कार्यालय के बाहर हमारी मांगें पूरी करो, कानोड़ के साथ सौतेला व्यवहार बंद करो जैसे कई नारे लगाए। इसके बाद एक प्रतिनिधिमंडल ने तहसीलदार रामनिवास मीणा को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा।

कसोटिया बांध की वित्तीय स्वीकृति जारी कर निर्माण शुरू करने की मांग
ज्ञापन में मांग की कि कानोड़ तहसील क्षेत्र के लिए उपखंड अधिकारी की नियुक्ति की जाए, कानोड़ में डिग्री कालेज, पॉलीटेक्निक कालेज और आईटीआई कालेज की स्थापना की जाए, नगर के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र को 100 बेड़ का किया जाए। कानोड़ में पुलिस सर्कल कार्यालय, एडीजे न्यायालय, तहसील कार्यालय के लिए नवीन भवन बनाया जाए। सार्वजनिक निर्माण विभाग का कार्यालय बनवाया जाए। उक्त कार्यालय गत 10 वर्षों से किराये के एक कमरे में चल रहा है।

कानोड़ के आसपास के क्षेत्र को चिन्हित कर रीको इंडस्ट्रीयल एरिया घोषित किया जाए। कसोटिया बांध की वित्तीय स्वीकृति जारी कर बांध निर्माण शुरू किया जाए, जिससे कानोड़ नगर सहित आसपास की पंचायतों में पानी की समस्या का समाधान हो सके। कानोड़ तहसील मुख्यालय को तहसील क्षेत्र के सभी छोटे, बड़े गांवों को पक्के सड़क मार्ग से जोड़ा जाए।

नगर में कृषि मंडी एवं पंचायत समिति खोली जाए। ज्ञापन में चेतावनी दी गई कि उपचुनाव से पहले मांगों को पूरा किया जाए नहीं तो क्षेत्रवासियों द्वारा आन्दोलन किया जाएगा। नगर बंद के दौरान वल्लभनगर डिप्टी बुधराज खटीक, कानोड़ सीआई बाबू लाल मुरारिया मय जाप्ता सहित भींडर तथा लसाड़िया थाने का जाप्ता नगर में तैनात रहा।

खबरें और भी हैं...