ईडाणा माता मंदिर:माता रानी ने 1 सप्ताह में दूसरी बार किया अग्नि स्नान, दर्शन करने पहुंचे भक्त

उदयपुर9 महीने पहले
रविवार को ईडाणा माता ने नए साल में पहली बार किया अग्नि स्नान।

मेवाड़ की प्रसिद्ध शक्तिपीठ ईडाणा माता मंदिर में माता रानी ने रविवार देर रात अग्नि स्नान किया है। जिसे देखने के लिए बड़ी संख्या में भक्त देर रात मंदिर पहुंच गए। इस दौरान कुछ ही देर में मंदिर परिसर में ऊंची ऊंची आग की लपटें उठना शुरू हो गई। जिसने यह माता रानी की मूरत को अपनी आगोश में ले लिया। बता दें कि इससे पहले माता रानी ने 5 दिन पूर्व मंगलवार को अग्नि स्नान किया था। वही एक महीने में ही माता रानी ने रविवार को दूसरी बार अग्नि स्नान कर भक्तों को दर्शन दिए हैं।

माना जाता है कि जो भी व्यक्ति माता रानी का अग्नि स्नान देखता है। उसकी मनोकामना पूरी होती है। हर साल हजारों की संख्या में भक्त दूर-दराज से उदयपुर के ईडाणा माता मंदिर पहुंचते हैं। कहा जाता है कि मंदिर में अपने आप आग लगती है। आग लगते ही देवी मां के सारे कपड़े और आसपास रखा भोजन जल जाता है। माता रानी का यह अग्नि स्नान काफी विशालकाय होता है, जिसके चलते कई बार नजदीक के बरगद के पेड़ को भी नुकसान पहुंचता है। लेकिन, आज तक माता रानी की मूर्ति पर इसका कोई असर नहीं हुआ।

इस तरह पहुंचा जा सकता है मंदिर

उदयपुर शहर से 60 किमी. दूर कुराबड-बम्बोरा मार्ग पर मेवाड़ का प्रमुख शक्तिपीठ ईडाणा माता मंदिर है। कुराबड तक आपको बस मिल जाती है। अपने वाहन से भी यहां आया जा सकता है। इस मंदिर के ऊपर कोई छत नहीं है और एकदम खुले चौक में स्थित है, यह मंदिर उदयपुर मेवल की महारानी के नाम से प्रसिद्ध है।

वैज्ञानिक पुष्टि नहीं, स्थानीय जनप्रतिनिधि और प्रशासन द्वारा इसे स्वीकार गया

वैज्ञानिक तौर पर इस मंदिर में माता रानी के अग्नि स्नान की पुष्टि अब तक नहीं की गई है, लेकिन मान्यताओं के अनुसार यहां पर माता रानी स्वयं ही अग्नि स्नान करती है। स्थानीय जनप्रतिनिधि और प्रशासन द्वारा इसे स्वीकार किया गया है।

मेवाड़ का प्रमुख शक्तिपीठ ईडाणा माता मंदिर।
मेवाड़ का प्रमुख शक्तिपीठ ईडाणा माता मंदिर।
खबरें और भी हैं...