पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

टीकाकरण:रोज औसत 3546 युवाओं को ही टीके, ऐसे तो 14 लाख को सालभर में लगेंगे

उदयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • चार दिन पहले शुरू हुए 18+ के वैक्सीनेशन की सांसें फूली

जिले में गत 3 मई से 18 से 44 साल तक के युवाओं के टीकाकरण की ही सांसें फूलती दिखाई दे रही हैं। यहां महामारी के प्रचंड दौर में भी टीकाकरण के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति हाे रही है। जिले में एक महीने से संक्रमण दर 30 फीसदी से ज्यादा है, यानी हर चाैथा व्यक्ति संक्रमित निकल रहा है। यही नहीं, गत 1 अप्रैल से 6 मई तक 36 दिन में ही 495 मरीजों की जान भी जा चुकी है, जिनमें से करीब 200 की उम्र 26 से 44 साल के बीच थी।

इसके बावजूद उदयपुर को गिनती के टीके मिल रहे हैं। वेंटिलेटर पर चल रहे टीकाकरण की हालत यह है कि पिछले 4 दिनों से प्रतिदिन औसत 3546 युवाओं को ही टीके लग पा रहे हैं। यही रफ्तार रही तो जिले के करीब 14 लाख युवाओं को टीके लगाने में 395 दिन यानी एक साल से भी ज्यादा समय लग जाएगा।

जबकि उदयपुर ने एक ही दिन में 30 हजार लोगों का टीकाकरण भी किया है। टीकाकरण की धीमी रफ्तार से युवाओ में मायूसी है। कई शहरी युवा टीके लगवाने गांव जा रहे हैं, क्योंकि उन्हें शहरी क्षेत्र में स्लॉट ही नहीं मिल रहे। दूसरी ओर जिले के सुदूरवर्ती कुछ गांवों में मोबाइल नेटवर्क ही काम नहीं करता है। नतीजतन वहां के युवा ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन तक नहीं करा पा रहे हैं। उप जिला प्रमुख पुष्कर तेली ने यह परेशानी बता चुके हैं। एडीएम प्रशासन ओपी बुनकर ने बताया कि प्रदेश सरकार के परामर्श लेकर इसका समाधान जल्द कर दिया जाएगा।

आरसीएचओ डॉ. अशोक आदित्य ने कहा कि उदयपुर के पास 18 से 44 वर्ष उम्र के लोगों के लिए 4770 डोज वैक्सीन बची है। 10 हजार डोज लाने के लिए विशेष वाहन जयपुर भेज दिया गया है, जो शनिवार सुबह तक लौट आएगा। जैसे ही वैक्सीन बड़ी संख्या में मिलने लगेगी, वैसे ही वैक्सीनेशन साइट्स बढ़ा दी जाएंगी।
इसलिए भी कम टीकाकरण : स्लॉट बुकिंग का समय ही नहीं पता चलता है कि कितने बजे खुलेगा।

कई बार शाम 5 से 5.30 बजे तक का समय स्लॉट बुकिंग के लिए दिया जाता है, लेकिन स्लॉट बुकिंग 5 मिनट में ही ठप हा़े जाती है। युवाओं में टीकाकरण के लिए उत्साह है, दिनभर स्लॉट बुकिंग के विकल्प पर नजर रखे हुए हैं, लेकिन नतीजा कुछ भी नहीं निकल पा रहा है। पहाड़ी इलाकों में स्थित गांवों में मोबाइल नेटवर्क नहीं मिलने और एप की समझ कम होने के कारण भी टीकाकरण के रजिस्ट्रेशन की गति अभी धीमी बनी हुई है।

खबरें और भी हैं...