पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • Passenger Tax Of Rs 200 To Rs 500 On Booking Of Hotel Room With Rent Of Rs 20, 3000 Or More Every Month For Garbage Collection

निगम की बाेेर्ड बैठक:कचरा संग्रहण के अब हर महीने 20 रु., 3000 या ज्यादा किराये वाले हाेटल रूम की बुकिंग पर 200 से 500 रुपए यात्री कर

उदयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • रेवेन्यू बढ़ाने पर फोकस, आमजन-व्यवसायियों, पर्यटकों-टेलीकॉम कंपनियों से भी होगी वसूली
  • सियासी ड्रामा : मीडिया काे बाहर करने पर कांग्रेस के 20 में से 10 पार्षदाें का वाॅकआउट, बोले- बंद कमरे में मनमाने फैसले करना चाहता है नगर निगम

नगर निगम अब शहर में डाेर टू डाेर कचरा संग्रहण के बदले हर घर से प्रति 20 रुपए यूजर चार्ज लेगा। होटल में 3000 रुपए या इससे अधिक रेट पर एक दिन के लिए कमरे की बुकिंग पर 200 से 500 रुपए यात्री कर वसूलने के अलावा विवाह पंजीयन प्रमाण पत्र जारी करने पर 10 के बजाय 50 रुपए भी लिए जाएंगे। अंदरूनी शहर में पुराने भवनाें का हैरिटेज स्वरूप संरक्षित रखने के लिए हेरिटेज भवन विनियम-2020 भी बनाई जाएगी।

ये प्रस्ताव नगर निगम बोर्ड की शुक्रवार को हुई बैठक में पास हुए। काेराेना संक्रमण के कारण इस बार बाेर्ड बैठक सभागार के बजाय सुखाड़िया रंगमंच पर हुई। अध्यक्षता कर रहे मेयर जीएस टांक ने काेराेना काल में सक्रियता और स्वच्छता रैंकिंग में सुधार पर आभार जताया। कहा कि इस बार हमारा लक्ष्य देश के टाॅप- 10 शहराें में आने का रहेगा। मेयर ने डाेर टू डाेर कचरा संग्रहण के बदले 20 रुपए प्रति माह प्रति मकान लेने का प्रस्ताव रखा था।

मेयर ने कहा कि इससे लाेगाें में स्वच्छता जागरूकता अाएगी। व्यावसायिक प्रतिष्ठानों, दुकानों, रेस्टोरेंट, होटलों से शुल्क की दरें भी जल्द तय होंगी। राज्य सरकार के 1 फरवरी, 2018 को जारी अादेश में प्रति मकान 80 रुपए लेने के निर्देश हैं, लेेकिन उदयपुर निगम 20 रुपए शुल्क ही लगा रहा है।

ये अहम 6 प्रस्ताव भी पास

हैरिटेज संरक्षण के लिए बनेगी कमेटी, एजेंसी से संविदा पर लगाएंगे इंजीनियर

सभी लघु उद्योगों से 10 रुपए प्रति हॉर्स पावर की दर से शुल्क वसूला जा रहा है। उसकी जगह अब 1000 रुपए प्रति वर्ष लिया जाएगा। अंदरूनी शहर में हेरिटेज भवनाें का स्वरूप बचाने और संरक्षण के लिए कमेटी बनेगी। इसमें सीनियर टाउन प्लानर, आर्किटेक्ट और तकनीकी जानकार सेवानिवृत्त अधिकारी भी होंगे।

यात्री कर के रूप में प्रति कमरा प्रतिदिन के 3000 से अधिक किराया वसूल करने वाली होटलों से प्रति बुकिंग पर प्रति कमरा 200 रुपए, 5000 तक के 300 और 10000 या इससे महंगे कमरे की बुकिंग पर 500 रुपए यात्री कर के रूप में निगम वसूलेगा।

निगम में 22 एईएन-जेईएन की पाेस्ट के मुकाबले 8 इंजीनियर ही हैं। जरूरत पूरी करने के लिए अनुभवी लाेगाें काे निविदा पर कार्यकारी एजेंसी के जरिए नियुक्तियां करेंगे। टेलीकॉम कंपनियां से केबल डालने के बदले राेड कटिंग के अलावा भी शुल्क वसूलने का प्रस्ताव पास हुआ। कंपनी जितने क्षेत्र का उपयोग करेगी, उस क्षेत्र की डीएलसी दर का 10% किराया वसूलेंगे। खाली भूखंडों के चिह्नीकरण और मैपिंग के लिए प्रोजेक्ट मैनेजमेंट यूनिट (पीएमयू) बनेगी। इसके काम भी तय कर लिए गए हैं।

सियासी ड्रामा : मीडिया काे बाहर करने पर कांग्रेस के 20 में से 10 पार्षदाें का वाॅकआउट, बोले- बंद कमरे में मनमाने फैसले करना चाहता है नगर निगम

पहली बार निगम की बाेर्ड बैठक से मीडिया कर्मियाें काे नहीं रुकने दिया गया। मेयर टांक ने शुरुआत में फाेटाे हाे जाने के बाद मीडिया कर्मियाें काे बाहर करवाकर सुखाड़िया रंगमंच के दरवाजे बंद करवा दिए। इस पर कांग्रेस पार्षद शंकर चंदेल और उनके सहयाेगियाें ने सवाल भी उठाया कि बैठक में मीडिया नहीं रहेगा ताे जनता तक उनकी बात कैसे पहुंचेगी।

भाजपा बोर्ड बंद कमरे में ही फैसले करना चाहता है। इस पर चंदेल और कटारिया के बीच तीखी बहस भी हुई। फिर कांग्रेस के 20 में से शंकर चंदेल, हितांशी शर्मा, शहनाज अयूब, शादाब खान, हिदायतुल्ला, भगवती डांगी, नेहा कुमावत, मोनिका गुर्जर, रेखा डांगी और चमनआरा वाॅकआउट कर गए।

वाॅक आउट नहीं किया : अरुण टांक को पार्टी से निष्कासित करने की मांग
जिन पार्षदों ने वाॅक आउट में साथ नहीं दिया उनके खिलाफ कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष काे पत्र भेजा है। जिसमें पार्षद अरुण टांक काे पार्टी से निष्कासित करने की मांग की। आराेप लगाया कि टांक खुद तो नहीं आए, तीन-चार अन्य पार्षदाें काे भी नहीं आने दिया।

इधर टांक का कहना है कि अचानक काेई जूनियर पार्षद खड़ा हाेकर कह दे कि बैठक का बहिष्कार करते हैं ताे उसके साथ बाहर निकलना समझदारी नहीं थी। हम जनता की बात रखने के लिए बैठक में रुके रहे।
कटारिया भूले भाषा का संयम
मीडिया पर बरसते हुए बोले- जिसे जो छापना है छाप लो

बैठक के ठीक बाद मीडिया ब्रीफ के दाैरान कटारिया भाषा का संयम ही खो बैठे। वे कैमरे के सामने ही मीडिया पर जमकर बरसे। मीडिया काे दूर रखने के सवाल पर उन्होंने कहा- जिसे जाे मर्जी हाे, छाप लो। फिर तैश में बोले- हम चाेरी थाेड़ी करते हैं। मैं ताे डंके की चाेट कहता हूं...

इसके बाद उन्होंने एक पत्रकार का नाम लिए बिना जो कुछ कहा, उसे भास्कर प्रकाशित नहीं कर सकता ।

कटारिया ने यह भी कि मीडिया काे देख कुछ लाेगाें काे ‘भाव’ अा जाता है। इसलिए धीरे-धीरे हमने राजनीतिक बैठकों में भी मीडिया काे रखना बंद कर दिया है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपने विश्वास तथा कार्य क्षमता द्वारा स्थितियों को और अधिक बेहतर बनाने का प्रयास करेंगे। और सफलता भी हासिल होगी। किसी प्रकार का प्रॉपर्टी संबंधी अगर कोई मामला रुका हुआ है तो आज उस पर अपना ध...

और पढ़ें