पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

निर्देशानुसार:दादी की मौत से अनाथ मिलन-मनीषा काे पुलिस ने गोद लिया

उदयपुर25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मनीषा के कोरोना सैंपल लेती मेडिकल टीम। - Dainik Bhaskar
मनीषा के कोरोना सैंपल लेती मेडिकल टीम।
  • पिता और दादा की पहले ही हो चुकी मौत, सीओ उठाएंगे खर्च

तहसील क्षेत्र के मालपुर में दादी की मौत के बाद अनाथ हुए 9 साल के मिलन व उसकी 14 साल की बहन मनीषा को पुलिस ने सहारा दिया। एसपी डाॅ. राजीव पचार के निर्देशानुसार दोनों बच्चों को पुलिस उप अधीक्षक कार्यालय ने गोद लिया है, जाे इनका संरक्षक हाेगा। दोनों की देखभाल, स्कूल फीस, स्कूल यूनिफार्म, किताबें व स्टेशनरी सहित पढ़ाई का सम्पूर्ण खर्चा झाड़ोल सीओ की ओर से वहन किया जाएगा। बाल कल्याण समिति के सदस्य ललित कुमार को बच्चों की जरूरतें सीधे वृत्त कार्यालय को बताने के लिए कहा गया है। बता दें कि बच्चों के पिता-दादा की पहले ही मौत हो चुकी है और मां दूसरी जगह नाते चली गई।

धर, उदयपुर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव एडीजे कुलदीप सूत्रकार एवं बाल कल्याण समिति (सीडब्लूसी) अध्यक्ष ध्रुव कुमार काव्या शनिवार दोपहर एक बजे झाड़ोल पहुंचे। इनके आने की सूचना पर एसडीएम गुंजन सिंह पहले ही मिलन व मनीषा को झाड़ोल ले आए। अधिकारियों ने राजस्थान बाल कल्याण समिति के दफ्तर में दोनों बच्चों की काउंसलिंग की ओर उन्हें पुनर्वास के लिए समझाया। सहमति पर दोनों को कस्बे के राजस्थान बाल कल्याण समिति के व्यवस्थापक ललित कुमार शर्मा को साैंपा। मिलन बालगृह व मनीषा बालिकागृह में रहकर अपनी पढ़ाई जारी रखेंगे।

इनके आवास, खातेदारी जमीन-संपत्ति संबंधी व्यवस्थाएं स्थानीय प्रशासन भी देखेगा। एसडीएम के निर्देश पर झाड़ोल सीएचसी के डॉक्टरों की टीम से दाेनाें बच्चाें की कोरोना की रैपिड एंटीजन किट से जांच करवाई गई। रिपोर्ट निगेटिव आई।

खबरें और भी हैं...