पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सांसों को बिजली के झटके:राेज 5 से 6 घंटे पावर कट, हाेम आइसोलेशन में कंसंट्रेटर काम ले रहे मरीजाें की जान सांसत में

उदयपुर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • अघाेषित पावर कट का जवाब देने वाला काेई नहीं

काेराेना की दूसरी लहर कमजाेर पड़ी है। एक्टिव केस कम होने के साथ संक्रमण दर भी 7 प्रतिशत तक आगई है, लेकिन हाेम आइसोलेशन में रह रहे उन मरीजाें की परेशानी बिजली की कटाैती ने बढ़ा दी है, जाे ऑक्सीजन कंसेट्रेटर मशीन का उपयाेग कर रहे हैं। घर में रहकर इलाज ले रहे हैं इन मरीजाें के लिए दिन में कई बार पावर कट हाे जाना बड़ी समस्या के रूप में सामने आ रहा है। इन्हें अब इन्वर्टर लगाने पड़ रह रहे हैं।

शहर के कई इलाकाें में राेजाना 5 से 6 घंटे तक लंबा पावर कट हाे रहा है। इधर, इन्वर्टर के काम से जुड़े जावेद बताते हैं कि एक सप्ताह के अंदर 4 घराें में इन्वर्टर लगा चुके हैं। बता दें, शहर में करीब एक दर्जन संगठन काेराेना संक्रमिताें काे राहत देने के लिए निशुल्क ऑक्सीजन कंसंट्रेटर दे रहे हैं। ये कई घराें में काम भी आ रहे हैं

परेशानी की कहानी पीड़िताें की जुबानी, जब आनन फानन में ढूंढना पड़ा विकल्प

शनिवार काे माछला मगरा स्कीम, स्वराज नगर, कैलाश काॅलाेनी, जवाहर जैन स्कूल, काका हाेटल, रामसिंह की बाड़ी, जैन धर्मशाला, महाराणा प्रताप काॅलाेनी, गाेविंद नगर, सेक्टर-11, सेक्टर 13, एमपी काॅलाेनी, खांजीपीर, दीवान शाह काॅलाेनी, माेगरावाड़ी, शिवाजी नगर, अग्रसेन नगर, उदियापोल बस स्टैंड, जवाहर नगर, इंद्रा नगर, सर्वऋतु विलास आदि क्षेत्रों में सबसे लंबा पावर कट रहा।

तितरड़ी निवासी काैशल गाैतम ने बताया कि पत्नी का भाई एक महीने से ज्यादा समय से संक्रमित रहा। छह दिन पहले डिस्चार्ज हाेकर अस्पताल से घर आए। वह अभी घर पर ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मशीन पर निर्भर है, क्याेंकि फेफड़ाें में 85 प्रतिशत संक्रमण था।

अस्पताल से लाने से पहले ही तय कर लिया था कि घर पर पावर कट की समस्या हाेगी। इसलिए पहले से पड़े इन्वर्टर की बैट्री मंगाकर उसे शुरू किया। दिन में कई बार पावर कट हाे जाता है। इन्वर्टर से 3 से 4 घंटे का बैकअप मिल जाता है।

बड़गांव: अस्पताल में बेड नहीं, सरकार हाेम आइसाेलेट को कह रही ताे बिजली बंद क्याें
बड़गांव निवासी गुलाब सिंह बताते हैं कि उनकी पत्नी एक माह पहले काेराेना संक्रमित हुई थी। अस्पताल में बैड़ नहीं मिलने से हाेम आइसोलेशन में रहना पड़ा। इस दाैरान 10 दिन तक ऑक्सीजन कंसेट्रेटर मशीन की जरूरत रही। क्षेत्र में जब कभी बिजली बंद रहने लगी, जिससे परेशान हाेना पड़ता था। तब आनन फानन इन्वर्टर खरीदना पड़ा। सरकार जब हाेम आइसोलेशन में रहने के लिए कह रही है ताे बिजली की व्यवस्था भी सुचारू रखनी चाहिए। बार-बार पावर कट हाेने से मरीज काे परेशान हाेना पड़ता हैं।

5 बजे तक पावर कट, नगर निगम अधिकारियाें ने फाेन नहीं उठाया
बिजली निगम शहर में राेजाना कई क्षेत्राें में सुबह 10 से 5 बजे तक पावर कट रख रहा है। अगर बैकअप 3 से 4 घंटे ही हाेता हैं। इसके बाद ताे मरीज के सांसे अटकने लगती हैं। भास्कर ने घंटाें पावर कट काे लेकर बिजली निगम के आला अधिकारियों से बात करनी चाहिए, लेकिन ने फाेन तक रिसीव करने की जहमत नहीं उठाई।

इन क्षेत्राें में 7 घंटे बंद रही बिजली

शनिवार काे माछला मगरा स्कीम, स्वराज नगर, कैलाश काॅलाेनी, जवाहर जैन स्कूल, काका हाेटल, रामसिंह की बाड़ी, जैन धर्मशाला, महाराणा प्रताप काॅलाेनी, गाेविंद नगर, सेक्टर-11, सेक्टर 13, एमपी काॅलाेनी, खांजीपीर, दीवान शाह काॅलाेनी, माेगरावाड़ी, शिवाजी नगर, अग्रसेन नगर, उदियापोल बस स्टैंड, जवाहर नगर, इंद्रा नगर, सर्वऋतु विलास अादि क्षेत्रों में सबसे लंबा पावर कट रहा।

खबरें और भी हैं...