पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

आदिवासी दिवस:पारंपरिक वेशभूषा और तीर-कमान से दिखाई आदिम संस्कृति, परंपराएं बचाने पर दिया जोर

उदयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • इस बार ऑनलाइन और सांकेतिक हुए कार्यक्रम

विश्व आदिवासी दिवस पर रविवार को विभिन्न संस्था और संगठनों के विभिन्न ऑनलाइन और सांकेतिक कार्यक्रम हुए। इसमें संस्थाओं ने पर्यावरण और संस्कृति काे बचाने का संकल्प लिया। डॉ. अंबेडकर मेमोरियल वेलफेयर सोसायटी ने आदिवासी संस्कृति और प्रकृति को बचाने के लिए संकल्प दिवस मनाया। एडवोकेट पीआर सालवी ने बताया कि इस दिन शहर में लॉकडाउन लगाए जाने की निंदा की गई। इधर, पशुपालन प्रशिक्षण संस्थान में छात्रों ने एक-दूसरे को शुभकामनाएं दी।

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने इस माैके पर संविधान की पांचवीं सूची और पेसा कानून को लागू करने की मांग की। काया पंचायत में विश्व आदिवासी दिवस के माैके पर लाेगाें ने पारंपरिक वेषभूषा में उत्सव मनाया। इस माैके पर सरपंच पुष्पा डामोर, पूर्व सरपंच रमेशचंद्र ने आदिवासी दिवस की महत्ता बताते हुए परंपराओं काे बचाने पर चर्चा की। इसमें बालिका शिक्षा पर जोर देने, बाल विवाह नहीं करने, जनजाति एकता बनाएं रखने पर मंथन किया। संभागीय अनुसूचित जाति जनजाति संघर्ष मोर्चा ने सुविवि परिसर स्थित राणा पूंजा छात्रावास के बाहर राणा पूंजा की मूर्ति पर माल्यार्पण किया। संभाग अध्यक्ष डॉ. मान सिंह निनामा, अरविंद कोटेड़ मौजूद थे।

डबोक में पौधरोपण और पारंपरिक नृत्य किया
डबोक में धूणीमाता राणा पूंजा मूर्ति स्थल पर पौधरोपण और पारंपरिक नृत्य किया। राजू भाई, जीवाराम, भैरूलाल, भगवती लाल मौजूद थे। आदिवासी भील समाज ने बेदला खुर्द स्थित सुखदेवी माता मंदिर में पौधे रोपे। पुजारी गेगाजी गमेती, पूर्व सरपंच लालजी गमेती, वार्डपंच पप्पू गमेती, हीरा लाल मौजूद थे। वहीं, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी सदस्य विवेक कटारा ने आदिवासी समाज से शिक्षा, रोजगार और नशामुक्ति के लिए जागरूकता लाने का आह्वान किया।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- लाभदायक समय है। किसी भी कार्य तथा मेहनत का पूरा-पूरा फल मिलेगा। फोन कॉल के माध्यम से कोई महत्वपूर्ण सूचना मिलने की संभावना है। मार्केटिंग व मीडिया से संबंधित कार्यों पर ही अपना पूरा ध्यान कें...

और पढ़ें