पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • Quarantined Youths Roaming The Market; When The CI Saw It, He Was Shocked One Is His Brother in law, Yet He Did Not Leave, Even If Investigated, He Also Turned Positive.

कर्तव्य के आगे जोरू का भाई एक तरफ:बाजार में घूमते युवकों को क्वारेंटाइन किया; सीआई ने देखा तो चौंके- एक तो उनका साला है, फिर भी छोड़ा नहीं, जांच कराई तो पॉजिटिव भी निकला

उदयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
थानाधिकारी विवेक सिंह। - Dainik Bhaskar
थानाधिकारी विवेक सिंह।
  • महामारी थामने में बाधा बने तो रिश्ते-रसूख काम नहीं आएंगे

कहावत है सारी खुदाई एक तरफ-जोरू का भाई एक तरफ। अधिकांशत: यह चरितार्थ भी होती रहती है। लेकिन हमारे कोरोना योद्धाओं ने अपने कर्तव्य के लिए इस कहावत को काफी हद तक हल्का कर दिया। प्रतापनगर थाना पुलिस ने अपने इलाके के बाजार में शुक्रवार को बेवजह घूम रहे 7 युवकों को पकड़ा और क्वारेंटाइन सेंटर ले गए।

थानाधिकारी (सीआई) विवेक सिंह ने सूची देखी तो चौंक गए। इनमें तो उनका साला भी था। इसके बाद उन्होंने बाकी युवकों के साथ उन्हें भी क्वारेंटाइन करा दिया। कोरोना जांच कराई गई। इसमें उनके साले की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। अब उन्हें होम आइसोलेट किया गया है।

कुल मिलाकर इस कार्रवाई से यह संदेश भी गया कि संक्रमण काे थामने के बीच कोई रिश्ता या जैक काम नहीं करेगा। अभी कानून और उसकी पालना ही सर्वोपरि है। सीआई विवेक के साले को मादड़ी एरिया थाने की मोबाइल यूनिट ने शाम 6 बजे बाजार में घूमते हुए पकड़ा था। इस यूनिट में प्रतापनगर थाने के पुलिसकर्मी मोहन सिंह और जोरावर सिंह थे। उन्होंने विवेक के साले से बाहर घूमने का कारण पूछा तो वह स्पष्ट जवाब नहीं दे पाए। इसके बाद उन्हें गाड़ी में बैठाकर क्वारेंटाइन सेंटर भेज दिया।

सीआई बोले-कानून सबसे ऊपर और नियम सबके लिए बराबर

थाने के जाब्ते काे सरकार के नियमों की सख्त पालना के लिए आदेश दिया हुआ है। टीम फील्ड में थी, जिसे मेरी पत्नी का भाई बाजार में घूमते मिला तो क्वारेंटाइन सेंटर ले गए। साले ने भी मेरे प्रभाव या नाम का इस्तेमाल नहीं किया। फिर नियम सबके लिए समान हैं। -विवेक सिंह, थानाधिकारी

पत्नी बोली-भाई ने भी कानून माना, पति का नाम नहीं लिया

सीआई विवेक सिंह की पत्नी राजकिरण ने कहा कि अगर मेरे भाई चाहते तो पति का नाम लेकर छूट सकते थे, लेकिन ऐसा नहीं किया। उन्होंने कानून का पालन किया। यह भी ठीक रहा कि भाई की जांच हो गई और उनके पॉजिटिव होने का पता चला, नहीं तो संक्रमण और आगे बढ़ सकता था। कानून और नियम सबके लिए बराबर है, यह मेरे पति और भाई दोनों ने ही साबित किया।

खबरें और भी हैं...