• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • Rajasthan's Daughter Bhawna Jat Will Run For Medal In The Tokyo Olympics In A Short Time, The Process Of Prayers Starts Across The Country

ब्रिस्क वॉक में भारत को निराशा:32वें स्थान पर रही राजसमंद की भावना, गोल्ड मेडलिस्ट से 8 मिनट का रहा फासला, 1 घंटे 37 मिनट में 20 किलोमीटर की वॉक पूरी की

उदयपुर4 महीने पहले
राजसमंद की भावना।

टोक्यो ओलिंपिक के महिला 20 किलोमीटर ब्रिस्क वॉक इवेंट में राजसमंद के रेलमगरा की भावना जाट 32वें नंबर पर रहीं। उन्होंने 20 किलोमीटर का यह सफर 1 घंटे 37 मिनट में पूरा किया। इस इवेंट में इटली को गोल्ड कोलंबिया को सिल्वर और चाइना की एथलीट को ब्रॉन्ज मेडल मिला। कुल मिलाकर भावना के प्रशंसकों को निराशा हाथ लगी। भावना और गोल्ड मेडल का फासला 8 मिनट दूर रह गया। भावना जाट का यह पहला ओलिंपिक था।

देशभर में भावना ने बनाए हैं कई रिकॉर्ड।
देशभर में भावना ने बनाए हैं कई रिकॉर्ड।

किया था श्रेष्ठ प्रदर्शन

भावना ने पिछले साल रांची में इंटरनेशनल रेस वॉकिंग में भाग लेकर 1 घंटा 29 मिनट 54 सेकेंड में 20 किमी की पैदल चाल में श्रेष्ठ प्रदर्शन किया था। यहीं से भावना का टोक्यो ओलिंपिक के लिए रास्ता तय हुआ। उसने पिछले साल फरवरी 2020 ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई कर लिया था, लेकिन कोरोना की वजह से ओलिंपिक नहीं हुए। ऐसे में एक बार तो भावना का सपना टूटता हुआ दिखाई दिया, लेकिन भावना ने अपनी प्रैक्टिस नहीं छोड़ी। सलेक्शन के बाद भावना ने सुबह 4 व शाम को ढाई घंटे लगातार प्रैक्टिस करना शुरू कर दिया।

अपने साथियों के साथ भावना जाट।
अपने साथियों के साथ भावना जाट।

चीन की एथलीट के नाम रिकॉर्ड

एथलीट भावना जाट के सामने ओलिंपिक में पदक जीतने के लिए मिनटों का फासला तय करना है। ओलिंपिक में रेस वॉकिंग 20 किमी में अब तक का सबसे कम समय 1 घंटा 24 मिनट 38 सेकेंड का रिकॉर्ड चीन की एथलीट ब्लू होम के नाम दर्ज है। वहीं भावना का अब तक का सर्वश्रेष्ठ समय 1 घंटा 29 मिनट 54 सेकेंड का है। ऐसे में 5 मिनट 16 सेकेंड का फासला भावना को और कम करना होगा, जबकि रेस वॉकिंग का वर्ल्ड रिकॉर्ड 1 घंटा 23 मिनट 48 सेकेंड का है। इससे भावना 6 मिनट 6 सेकेंड पीछे हैं।

खेलने की मंजूरी नहीं मिली तो कोच ने दिया हौसला

खेल कौशल के कारण भावना जाट को रेलवे में नौकरी के दौरान 2017 में खेलने की अनुमति नहीं मिली थी। तब उसने दौड़ना छोड़ देने का निर्णय कर लिया था। तब भावना के कोच गुरुमुख सिंह ने उसका हौसला बढ़ाया। कोच के अनुसार, भावना ने बिना वेतन के रेस वॉकिंग की प्रैक्टिस शुरू कर दी थी।

खबरें और भी हैं...