उदयपुर के रवि ने बनाई दुनिया की सबसे बड़ी ड्राइंग:बॉस्केटबॉल कोर्ट के बराबर ड्राइंग बनाने में लगे 5 दिन, इटली के आर्टिस्ट का रिकॉर्ड तोड़ा

उदयपुर6 महीने पहलेलेखक: सतीश शर्मा

उदयपुर के फैशन डिजाइनर रवि सोनी ने दुनिया की सबसे बड़ी ड्राइंग बनाकर वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया है। जॉब छोड़ने के बाद जब वे मुंबई से उदयपुर लौटे तो कुछ अलग करने की ठानी। इसी जुनून में उन्होंने दुनिया की सबसे बड़ी ड्राइंग बना दी, जिसे गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में जगह मिली है। उन्होंने इटली के आर्टिस्ट के रिकॉर्ड को तोड़ते हुए वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम किया है।

रवि बताते हैं कि कोरोना काल के इस दौर में जहां आम से खास तक हर कोई मानसिक परेशानी से गुजर रहा है। चारों तरफ नेगेटिव माहौल है, ऐसे में कला के माध्यम से लोगों को पॉजिटिव संदेश देने के लिए यह ड्राइंग बनाई। उन्होंने महाराणा भूपाल स्टेडियम में 26 नवंबर से 30 नवंबर 2021 तक काम किया। कड़ी मेहनत से 6781 वर्ग फीट में ड्राइंग बनाकर वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम किया है। रवि ने इस ड्राइंग को बनाने के लिए 1 साल पहले गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में एप्लिकेशन दी थी। अप्रूवल मिलने के बाद 8 महीने तक फिजिकल फिटनेस पर काम किया। इस दौरान उन्हें कई चुनौतियों से गुजरना पड़ा।

बचपन से ड्राइंग बनाने का शौक
रवि सोनी ने फैशन डिजाइनिंग की दुनिया में 2001 से काम शुरू किया था। रिलायंस रिटेल, फ्यूचर ग्रुप और अरविंद जैसे बड़े ग्रुप के साथ जुड़कर काम किया। मार्च 2020 में कोरोना के चलते पहला लॉकडाउन लगा तो उदयपुर अपने घर आ गए। बचपन से ड्राइंग बनाने का शौक था। इसी शौक को जुनून में बदला और कई महीने कड़ी मेहनत की। गांधी ग्राउंड में 26 नवंबर को ड्राइंग बनाने के लिए काम शुरू किया। इसके लिए सबसे पहले दिन ग्रेड बनाई, जिससे चित्र को बड़े स्केल पर बनाया जा सके। चित्र बनाने के लिए पेंसिल और मार्कर का प्रयोग किया।

उदयपुर के रवि सोनी की इस ड्राइंग की दुनिया भर में चर्चा है।
उदयपुर के रवि सोनी की इस ड्राइंग की दुनिया भर में चर्चा है।

सीढ़ी चढ़कर बने फिट
रवि को 2015 में स्लिप डिस्क हुआ था। इस वजह से कई महीने बेड रेस्ट पर रहना पड़ा। लोअर बैक पेन के कारण बैठने में काफी दिक्कत होती थी। ऐसे दर्द में ड्राइंग बनाना बिल्कुल भी आसान नहीं था, क्योंकि इसके लिए झुककर काम करना होता है। वर्ल्ड रिकॉर्ड के लिए आवेदन मंजूर होने के बाद रवि को अप्रैल से नवंबर 2021 तक फिजिकली फिट होना था। इसके लिए तीन महीनों तक लगातार वर्क आउट किया। रोज नीमच माता मंदिर की चढ़ाई और फतहसागर तक पैदल वॉक शुरू किया।

दूसरे प्रयास में मिली सक्सेस
रवि ने वर्ल्ड रिकॉर्ड के लिए 11 दिसंबर 2020 को ही पहला प्रयास किया था, लेकिन सफलता नहीं मिली। इसका कारण गाइडलाइन के तहत ही काम करना था। दोबारा मेल करने पर रवि को अप्रूवल मिल गया। उन्होंने 26 नवंबर 2021 की शाम को 5 बजे ड्राइंग बनाना शुरू किया। रोजाना करीब 5 घंटे तक काम किया। 30 नवंबर की शाम को ड्राइंग पूरी कर पाए। रवि ने 105 बाई 65 फीट (6781 वर्ग फीट) की ड्राइंग बनाकर 'वर्ल्ड लार्जेस्ट ड्राइंग बाय एन इंडिविजुअल' का वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम किया है। इसे वेबसाइट पर भी अपलोड कर दिया गया है।

इटली के आर्टिस्ट का रिकॉर्ड तोड़ा
रवि सोनी ने दैनिक भास्कर को बताया कि वे अपनी ड्राइंग को पब्लिक प्लेस में लगाने की इच्छा रखते हैं। उन्होंने इकोलॉजिकल 'बैलेंस ट्री ऑफ लाइफ' थीम पर अफ्रीकन प्रजाति बाओबाब पेड़ की ड्राइंग बनाई है। जो बरगद के पेड़ की तरह दिखता है। इससे पहले यह रिकॉर्ड इटली के आर्टिस्ट एफआरए के पास था, जिन्होंने 6118 वर्ग फीट में ड्राइंग बनाई थी।

खबरें और भी हैं...