• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • Said That If The Name Of Maharana Pratap Had Been Used For Political, There Would Have Been Pain, The Need Of A Single Window System After Studying Tourism Policy

मेवाड़ के पूर्व राजपरिवार सदस्य बोले:महाराणा प्रताप के लिए कोई अपशब्द बोलता है तो मन को पीड़ा होती है

उदयपुर2 महीने पहले
मीट द प्रेस विथ लक्ष्यराजसिंह मेवाड़।

मेवाड़ के पूर्व राजपरिवार के सदस्य लक्ष्यराज सिंह मेवाड़ ने शुक्रवार को मीट द प्रेस विथ कार्यक्रम में शिरकत की। लेकसिटी प्रेस क्लब द्वारा आयोजित कार्यक्रम में मेवाड़ ने मीडियाकर्मियों के सवालों के जवाब दिए। लक्ष्यराज सिंह मेवाड़ ने राजनीति में आने से संबंधित, पर्यटन, एविएशन, झीलों और उदयपुर से जुड़े कई मसलों पर खुलकर बात की। उन्होंने कहा कि हमें संस्कृति, शहर, भाषा और हमारे कर्तव्यों को कभी नहीं भूलना चाहिए। राजनीति एक खुला मंच है। जहां कोई भी कभी भी जा सकता है। पर्यटन सिटी के साथ शिक्षा के हब के रूप में भी उदयपुर को डवलप करने की जरूरत है।

मेवाड़ ने कहा कि महाराणा प्रताप के नाम का स्वार्थ के उपयोग होता है तो बड़ी पीड़ा होती है। उनका त्याग और बलिदान देश के लिए था। महाराणा प्रताप ने स्वतंत्रता शब्द को जन्म दिया। हमारे पूर्वजों ने देश को आजाद करने में अहम भूमिका निभाई है। सब सम्मान रूप से जिए और अधिकारों के साथ अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन करें।

लक्ष्यराजसिंह ने कहा कि उदयपुर ने अपनी पहचान पर्यटन नगरी के रूप में साबित में की है। यह खुशी की बात है। केवल देश में नहीं दुनिया में अव्वल होकर उदयपुर ने अपना विशेष स्थान स्थापित किया है। यह सब लोगों की कामयाबी दर्शाती हैं। उदयपुरवासियों को इसका श्रेय जाता है। राजनीति में एंट्री को लेकर कहा कि झुंझारू रूप से कार्य करने का तरीका बहुत अरसों से चलता आ रहा है। आज की दुनिया बहुत छोटी होती जा रही है। इसलिए शायद यह चीजें ज्यादा सामने आ रही है। जिन रास्तों पर हमारे पूर्वज चले उन्हीं के पदचिन्हों पर चलने का प्रयास है। कोई भी व्यक्ति आज जनप्रतिनिधि के रूप में सामने आ सकता है। काम करना और सेवा करना आगे भी जारी रखेंगे।

लगातार चितौड़गढ़ के बढ़ते दौरों पर सवाल पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि चितौड़गढ़ तो हम 1500 सालों से घूम रहे हैं। चितौड़ और मेवाड़ के चप्पे चप्पे पर हम जाते रहे हैं। बतौर राज्यपाल के पर्यटन सलाहकार उन्होंने कहा कि प्रदेश में उपलब्ध पर्यटन को चिन्हित करना चाहिए। पर्यटन और एविएशन को एक साथ जोड़ना चाहिए। अन्य देशों की पर्यटन नीति का भी अध्ययन कर सिंगल विंडो सिस्टम होना चाहिए। ​टैक्स और लाइसेंस पर गौर करने की जरूरत है।

कार्यक्रम में प्रेस क्लब अध्यक्ष कपिल श्रीमाली ने लक्ष्यराज सिंह मेवाड़ का स्वागत किया। संवाद के दौरान लेकसिटी प्रेस क्लब के पूर्व अध्यक्ष और कार्यकारिणी सदस्य मौजूद रहे।