उदयपुर हत्याकांड के चश्मदीद पहली बार कैमरे पर:बोले- बचाने गए तो हम पर भी हमला किया, चीखे लेकिन मदद के लिए कोई नहीं आया

उदयपुरएक महीने पहलेलेखक:  सतीश शर्मा
उदयपुर के महाराणा भूपाल (MB) हॉस्पिटल में एडमिट ईश्वरलाल ने दैनिक भास्कर से बात की। कन्हैलाल की हत्या के दिन दुकान में जो कुछ हुआ, उन्होंने शेयर किया।
  • :

टेलर कन्हैयालाल की हत्या को आज (शनिवार) पांच दिन हो गए। इस तालिबानी हत्याकांड के बाद से पूरे शहर में कर्फ्यू लगा है। पूरे देश में उबाल है। एहतियातन सरकार ने धारा 144 के साथ नेटबंदी तक का कड़ा निर्णय लिया है। जिस कांड ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया, उसी कांड के चश्मदीद पहली बार कैमरे पर आए हैं।

कन्हैयालाल की दुकान पर काम करने वाले कारीगर ईश्वरलाल (45) आज भी MB हॉस्पिटल में हैं। दूसरा कारीगर राजकुमार (50) घर पर है। माहौल को देखते हुए उनके घर की सिक्योरिटी बढ़ा दी गई है। जब मर्डर हुआ, ये दोनों दुकान में ही थे। हत्याकांड के बाद दोनों कारीगर पहली बार ऑन कैमरा सामने आए। 28 जून को हुई बर्बरता का आंखों-देखा हाल इन लोगों ने भास्कर के साथ शेयर किया। राजकुमार तो घटना से कुछ देर पहले ही वहां से निकले थे।

ईश्वरलाल अभी उदयपुर के महाराणा भूपाल (MB) हॉस्पिटल में एडमिट हैं। हमले के दौरान वे कन्हैयालाल के साथ में थे। कन्हैयालाल को बचाने आए ईश्वरलाल के सिर और कंधे पर आरोपियों ने वार किए। वे भी गंभीर रूप से घायल हो गए।
ईश्वरलाल अभी उदयपुर के महाराणा भूपाल (MB) हॉस्पिटल में एडमिट हैं। हमले के दौरान वे कन्हैयालाल के साथ में थे। कन्हैयालाल को बचाने आए ईश्वरलाल के सिर और कंधे पर आरोपियों ने वार किए। वे भी गंभीर रूप से घायल हो गए।

हम चिल्ला रहे थे, मेरे सिर और कंधे पर वार किए
ईश्वरलाल करीब 4 साल से कन्हैयालाल के यहां काम करते हैं। 28 जून को भी ईश्वर दुकान पर ही थे। ईश्वरलाल ने बताया- दोपहर करीब ढाई बजे गौस और रियाज कस्टमर बनकर दुकान में आए। मैं काम कर रहा था। कुर्ता-पायजामे का नाप लेने को कहा। सेठ जी (कन्हैयालाल) सारा काम छोड़ नाप लेने लगे। तभी एक आरोपी ने अचानक सेठ जी पर हमला कर दिया। सेठ जी चीखने लगे।

पीछे मुड़कर देखा तो रियाज और गौस दोनों छुरे से हमला कर रहे थे। राजकुमार भी मेरे साथ था। मैं बचाव करने आया तो मेरे सिर और कंधे पर हमला किया। मैं जोर-जोर से चिल्लाया, लेकिन डर के मारे कोई बचाने नहीं आया।

LIVE उदयपुर हत्याकांड: वकीलों ने हत्यारों को धुना; NIA को मिली 10 दिन की रिमांड, जयपुर में बंद रहेगा इंटरनेट

मौत के बाद भी हमला करते रहे
राजकुमार 8 साल से कन्हैयालाल की दुकान पर काम करते हैं। राजकुमार ने बताया- धमकियों से कन्हैयालाल काफी परेशान हो रहे थे। डर के मारे CCTV लगवाए थे। उस दिन अचानक हुए हमले के बाद से मेरा परिवार डरा हुआ है। कन्हैयालाल ने नाजिम द्वारा मुकदमा दर्ज करवाने पर माफी भी मांग ली थी। इसके बाद एक महिला और पुरुष आए तो काफी कुछ सुनाया। कन्हैयालाल ने हाथ जोड़कर कहा था- हमने अनजाने में हुई गलती की माफी मांग ली है। समझौता भी हो गया। आप अपने समाज के सदर शकील भाई से पूछ लीजिएगा। इसके बाद वो महिला-पुरुष चले गए।

राजकुमार और उनकी पत्नी पुष्पा। दोनों ने बताया कि अब तो घर के बाहर एक कदम रखने से भी डर लगता है। जो इंसान माफी मांग चुका था, उसके साथ ऐसा कैसे कर सकते हैं।
राजकुमार और उनकी पत्नी पुष्पा। दोनों ने बताया कि अब तो घर के बाहर एक कदम रखने से भी डर लगता है। जो इंसान माफी मांग चुका था, उसके साथ ऐसा कैसे कर सकते हैं।

राजकुमार कहते हैं- आस-पास की दुकानें कम ही खुली थीं। दुकान में कन्हैयालाल, ईश्वरलाल और मैं था। अचानक हुए हमले से हम डर गए। मैं पहले बाहर आ गया। कुछ ही देर में खून से सने कन्हैयालाल बाहर आए। उनकी मौत हो चुकी थी। इसके बाद भी आरोपियों ने उन पर बेरहमी से 5-6 वार किए। यह देख हर कोई डर गया। किसी में आगे आने की हिम्मत नहीं थी।

उदयपुर हत्याकांड के आरोपी रियाज का BJP कनेक्शन: नेता प्रतिपक्ष कटारिया के साथ फोटो; अल्पसंख्यक मोर्चा के सदस्य ने पार्टी कार्यकर्ता बताया

राजकुमार ने बताया कि इस हत्याकांड के बाद से उसका पूरा परिवार सदमे में है। 6 महीने बाद बेटी की शादी होनी है। घटना से कुछ दिन पहले ही कन्हैयालाल को जब शादी के बारे में बताया तो सहायता की बात की थी। रात में फूड डिलीवरी का काम करता हूं। अब डर लगता है कि मुझे और मेरे परिवार को कुछ हो गया तो क्या होगा?

मुझे कुछ नहीं हुआ, इसलिए किसी ने सहायता तक नहीं की। अब इतने बड़े केस में गवाह बनने से वो खुलकर काम तक नहीं कर सकेंगे। राजकुमार की पत्नी पुष्पा ने बताया कि उनके एक बेटा-एक बेटी है। इस हादसे के बाद पूरा परिवार सहम गया है। अब गली में जाने से भी डर लगता है। कुछ दिन तो निकाल दिए, लेकिन आगे क्या होगा पता नहीं। पुलिस हमें गवाह बना रही है, लेकिन सहायता करने अभी तक कोई नहीं आया।

कन्हैया का गला काटने वाला खंजर हैवी मेटल का था: फैक्ट्री में पत्थर काटने वाले कटर रिंग से बनाया, मर्डर के बाद चारे में छिपाया