पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बच्ची के घायल होने के बाद जागा अमला:चाइनीज मांझे पर सख्ती की कैंची; दो व्यापारियों पर केस, 3 के चालान, बेचान-उपयोग पर पाबंदी

उदयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कलेक्टर ने जारी की निषेधाज्ञा, उल्लंघन पर जेल या जुर्माना

प्रतिबंधित चाइनीज मांझे से छह साल की बच्ची की जान पर बन आने के बाद अमला हरकत में आया। शुक्रवार को पुलिस ने दो व्यापारियों के खिलाफ केस दर्ज कर यह जानलेवा मांझा जब्त किया, जबकि नगर निगम की टीम ने 3 व्यापारियों के चालान बनाकर 1500 रुपए जुर्माना वसूला।

कलेक्टर चेतन देवड़ा ने धातु मिले ऐसे धागे के बेचान और उपयोग पर प्रतिबंध के लिए धारा 144 लगाई दी है, जो 30 जून तक लागू रहेगी। आदेश के मुताबिक, जिले में निर्जला एकादशी पर पतंगबाजी के लिए धातु मिश्रित मांझे के प्रयोग से दोपहिया वाहन चालकों, पक्षियों को होने वाले जान-माल के नुकसान को रोकने और विद्युत संचालन बाधा रहित बनाने के लिए मांझे की थोक और खुदरा बिक्री के साथ उपयोग को प्रतिबंधित रहेगा।

इसके लिए धारा 144 के प्रावधान प्रभावी रहेंगे। उल्लंघन पर आईपीसी धारा 188 के तहत दंडित किया जाएगा। अमला भले ही हरकत में आया गया, लेकिन फिलहाल यह कार्रवाई और सख्ती नाकाफी है, क्योंकि शहर के देहलीगेट सहित कई प्रमुख बाजारों, वॉल सिटी के गली-मोहल्लों की किराणा दुकानों और उपनगरीय क्षेत्रों में ऐसी कई दुकानों पर यह जानलेवा धागा बेचा जा रहा है।

शहर में कई दुकानें, अमले को 5 दिखीं, लेकिन गली-गली बिक रहा जानलेवा धागा

धानमंडी थानाधिकारी पुनाराम ने बताया कि सूचना पर देहली गेट स्थित सलीम पतंग की दुकान पर पहुंचे। दुकान पर चरखियों में लगा मांझा चाइनीज और ग्लास पाउडर से बना प्रतीत हो रहा था। जलाकर देखा तो यह प्लास्टिक की तरह सिकुड़ रहा था और बदबू भी आने लगी। इससे आमजन और पशु-पक्षियों के जीवन को क्षति संभावित मानते हुए व्यापारी देहली गेट निवासी सलीम पुत्र रहीम बख्श के खिलाफ आईपीसी धारा 336 और 188 के तहत मुकदमा दर्ज किया। दुकान से मांझा भी जब्त गया है। उधर, भूपालपुरा थानाधिकारी भवानी सिंह ने बताया कि चाइनीज मांझा बेचने पर आयड़ की शबरी काॅलोनी निवासी कंकुबाई पत्नी बगदीराम के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।

शिकायत पर जाब्ता पहुंचा तो किराणा दुकान में चाइनीज मांझा बेचा जा रहा था। इधर, नगर निगम की टीम ने तीन दुकानदारों से चाइनीज मांझा जब्त कर 1500 रुपए चालान किया। डिप्टी मेयर पारस सिंघवी ने बताया कि स्वास्थ्य अधिकारी सत्यनारायण शर्मा, स्वास्थ्य निरीक्षक नरेंद्र श्रीमाली के नेतृत्व में यह कार्रवाई की। सिंघवी ने आमजन से भी आग्रह किया है कि वे पतंग उड़ाने के लिए चाइनीज मांझे का उपयाेग कर लाेगाें की जान जाेखिम में नहीं डालें।

इस बीच बड़ी हकीकत यह भी है कि चाइनीज मांझा जगह-जगह बेचा जा रहा है। शहर के प्रमुख बाजारों के अलावा वॉल सिटी के लगभग हर गली-मोहल्ले में किराणा दुकानों पर भी पतंगों के साथ यह जानलेवा मांझा बेचा जा रहा है। वॉल सिटी के मोहल्लों में बच्चे और युवा पतंगबाजी करते हुए खुद भी अंगुलियां जख्मी कर चुके हैं। करीब 15 दिन पहले ही हाथीपोल पर पेड़ से लटकता मांझा नहीं दिखने पर बाइक सवार इसकी चपेट में आ गया था। संयाेेग से उसकी रफ्तार तेज नहीं थी। ऐसे में अनहोनी टल गई।

6 साल की बच्ची की जान पर बन आई थी

पारस तिराहा निवासी उमर फारूक बुधवार को 6 साल की बेटी असना के साथ पिता के घर से लौट रहा था। असना मोटरसाइकिल पर आगे बैठी थी। छीपा कॉलोनी पानी की टंकी के पास बच्ची के गले से एकाएक चाइनीज मांझा लिपट गया था। इससे पहले कि उमर कुछ समझ पाता, बच्ची लहू-लुहान हो गई। उसे तुरंत एमबी अस्पताल पहुंचाया गया, जहां डॉक्टरों की टीम ने असना को तीन यूनिट खून चढ़ाया। उसके गले में 36 टांके लगाए गए। बच्ची अब खतरे से बाहर है।

नियम तोड़ा तो 3 से 6 महीने जेल

आईपीसी धारा 336 : काेई भी व्यक्ति उतावलेपन या उपेक्षापूर्वक ऐसा कुछ करता है, जिससे मानव जीवन या किसी की व्यक्तिगत सुरक्षा काे खतरा पहुंचता है ताे उसे 3 माह तक कैद की सजा हाेगी। आईपीसी धारा 188 : सरकार या प्रशासन के अादेश की अवहेलना पर कोई किसी के जीवन को संकट में डालता है तो उसे 6 माह तक कैद की सजा हाेगी।

खबरें और भी हैं...