भास्कर एनालिसिस:तीन दिन के मंथन के छह मंत्र...मैन, मैनेजमेंट, मैसेज, मैनपावर, मनी, मशीनरी

उदयपुर2 महीने पहलेलेखक: गौरव द्विवेदी
  • कॉपी लिंक

कांग्रेस का तीन दिनी नव संकल्प चिंतन शिविर रविवार काे समाप्त हाे गया। मंथन के लिए बनाई 6 कमेटियों संगठन, युवा, राजनीतिक, सामाजिक न्याय और सशक्तीकरण समिति, आर्थिक समिति और कृषि समिति ने निचोड़ जाे निकाला और कांग्रेस के दिग्गज नेताओं के जाे बयान रहे उनके आधार पर कुल मिलाकर छह मंत्र निकलते दिखाए दिए। ये सभी सिक्स एम पर आधारित हैं। मैन, मैसेज, मशीनरी, मैनपावर, मैनेजमेंट और मनी। इसमें कांग्रेस ने खुद को फिर से खड़ा करने के लिए एलान किया है कि भाजपा निर्मित बेरोजगारी के खिलाफ अक्टूबर से राष्ट्रीय स्तर पर पद यात्रा निकाली जाएगी। राहुल गांधी अपने 35 मिनट के भाषण के दौरान देश के साथ पार्टी के कार्यकर्ताओं को भी लड़ने के लिए भरोसा दिलाते नजर आए। वह इस बात से खफा थे कि पार्टी के लीडर जनता के बीच नहीं जाते।

सत्ता में वापसी के लिए इन सिक्स एम पर काम करेगी कांग्रेस

मेन मैन : शिविर में नई लीडरशिप पर जोर रहा। नेता कहते रहे कि राहुल अध्यक्ष बनें। अब अगस्त में चुनाव प्रक्रिया बाद नए अध्यक्ष का फैसला हाेगा। इसमें फिर राहुल का नाम आ सकता है।

मैसेज : जनता से रिश्ता बनाने के लिए फिर पसीना बहाएंगे। जनता के मुद्दों के साथ अक्टूबर से राहुल पदयात्रा पर निकलेंगे, जाे कश्मीर से शुरू होकर कन्याकुमारी तक चलेगी।

मशीनरी : पार्टी हर लेवल पर चुनावी मशीनरी काे मजबूत करेगी। नेशनल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट बनेगा, जिसमें कार्यकर्ताओं काे ट्रेनिंग मिलेगी। मंडल स्तर पर फाेकस रहेगा।

मैनपावर यानी संगठन विस्तार : राहुल ने कहा कांग्रेस पैदा ही जनता से हुई है। इसी साल पूरी कांग्रेस यात्रा कर जनता के बीच जाएगी। जनता से रिश्ता फिर से मजबूत करेंगे।

मैनेजमेंट यानी संगठन: हर पीसीसी में पॉलिटिकल अफेयर्स कमेटी बनेगी, हर साल बैठक होगी। यूथ को कमान देने को सीडब्ल्यूसी से मंडल तक 50% कार्यकर्ता अंडर 50 हाेंगे।

मनी यानी फंड : पार्टी चलाने के लिए फंड नहीं है। राहुल ने भी चिंता जताई। अब इसके रास्ते तलाशने हाेंगे। राहुल बोले- मैंने एक रुपया किसी से नहीं लिया। कोई भ्रष्टाचार नहीं किया।

वर्किंग कमेटी का एडवाइजरी ग्रुप बनेगा
सोनिया गांधी ने शिविर आयोजन के लिए सीएम अशोक गहलोत और पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा को बधाई भी दी। उन्होंने कहा- नव संकल्प में लिए गए फैसले को लागू किया जाएगा। 2024 के लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनावों में नव संकल्प के फैसले लागू होंगे। कांग्रेस वर्किंग समिति का एडवाइजरी ग्रुप बनेगा जो बैठकें कर सुझाव देगा।