खेरवाड़ा के युवक की रूस में मौत का मामला:शव लाने के लिए 1 हफ्ते की मोहलत देकर परिजनों ने स्थगित किया धरना, अब इंतजार

खेरवाड़ा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दिल्ली में जंतर मंतर पर हितेंद्र गरासिया के पुत्र के साथ कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव व प्रदेश सह प्रभारी तरुण कुमार। - Dainik Bhaskar
दिल्ली में जंतर मंतर पर हितेंद्र गरासिया के पुत्र के साथ कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव व प्रदेश सह प्रभारी तरुण कुमार।
  • दिल्ली में छठे दिन भी हुआ प्रदर्शन

पिछले साढ़े चार माह से रूस में मृत खेरवाड़ा उपखंड क्षेत्र के गोड़वा गांव निवासी हितेंद्र गरासिया के शव को अंतिम संस्कार के लिए भारत लाने की मांग को लेकर परिजनों का नई दिल्ली में मंगलवार को छठे दिन भी धरना दिया। हितेंद्र गरासिया के बेटे पीयूष व कांग्रेस के प्रवासी सहायता प्रभारी चर्मेश शर्मा ने जंतर मंतर पर ‘हितेंद्र गरासिया के शव को भारत लाओ, दाह संस्कार करवाओ, मत दफनाओ के बैनर के साथ आवाज उठाई।

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के राष्ट्रीय सचिव व राजस्थान के सहप्रभारी तरुण कुमार व उनकी पत्नी दिल्ली नगर निगम की पार्षद प्रेरणा सिंह ने भी जंतर-मंतर पहुंचकर पीयूष को सांत्वना दी। इस अवसर पर हारून खान भी उपस्थित रहे। इसके बाद परिजनों की विदेश मंत्रालय में विदेश सचिव के कार्यालय में वार्ता हुई। वार्ता के बाद चर्मेश शर्मा व पीयूष ने विदेश मंत्रालय को प्रभावी कार्रवाई के लिए 7 दिन का समय और देते हुए सप्ताह भर के लिए आंदोलन स्थगित करने की घोषणा की।

भारत सरकार करे जल्द कार्रवाई : कुमार

हितेंद्र के मामले में पीड़ित परिवार का समर्थन करने जंतर-मंतर पहुंचे कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव तरुण कुमार ने कहा कि यह बहुत ही गम्भीर मामला है। भारत सरकार को जल्दी ही कार्रवाई करते हुए भारतीय नागरिक के शव को भारत लाना चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार को पीड़ित परिवार की सुध लेने के लिए भी आगे आना चाहिए।

कार्रवाई नहीं तो फिर जंतर-मंतर पर आंदोलन

कांग्रेस नेता चर्मेश शर्मा ने मंगलवार शाम जंतर-मंतर पर कहा कि सप्ताह भर में कार्रवाई नहीं हुई तो पीड़ित परिवार व सामाजिक कार्यकर्ताओं द्वारा वापस जंतर-मंतर पर आंदोलन शुरू किया जाएगा। शर्मा ने कहा कि हमें उम्मीद है कि भारत सरकार व विदेश मंत्रालय द्वारा जल्द ही प्रभावी कार्रवाई की जाएगी।

कांग्रेस बोली- मामला गंभीर, सरकार तुरंत करे पहल

हितेंद्र के मामले में मंगलवार को भी पीड़ित परिवार की ओर से बेटे पीयूष ने राष्ट्रपति भवन जाकर न्याय की गुहार लगाई। वहीं मामले में रशियन सरकार द्वारा इस कार्रवाई की जिम्मेदारी भारत सरकार के विदेश मंत्रालय व रूस स्थित भारतीय दूतावास पर डालने के बाद मंगलवार को परिजनों की विदेश मंत्रालय में विदेश सचिव हर्षवर्धन के कार्यालय में वार्ता हुई। वार्ता के बाद कांग्रेस के प्रवासी सहायता प्रभारी चर्मेश शर्मा व पीयूष गरासिया ने विदेश मंत्रालय को प्रभावी कार्रवाई के लिये 7 दिन का समय और देते हुए सप्ताह भर के लिए आंदोलन स्थगित करने की घोषणा की।

न्यायपालिका की शरण लेंगे

हितेंद्र की देह को अंतिम संस्कार के लिए भारत लाने की मुहिम चला रहे कांग्रेस के प्रवासी सहायता प्रभारी चर्मेश शर्मा ने नई दिल्ली में 6 दिन के आंदोलन के बाद मंगलवार को कहा कि शव को भारत लाने के लिए धरने के साथ सभी संवैधानिक अधिकारों का उपयोग किया जाएगा। उन्होंने बताया कि पीड़ित परिवार को न्याय दिलवाने के लिए भारत व रूस की सरकार द्वारा अंतरराष्ट्रीय कानूनों व मानवाधिकारों के उल्लंघन के साथ आर्टिकल 21 व 25 के तहत दिए गए भारतीय नागरिक के मौलिक अधिकारों के हनन पर न्यायालय की भी शरण ली जाएगी।

खबरें और भी हैं...