• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • There Was To Be 591 Mm Of Rain In The Entire Season, Till Now It Has Been 667 Mm, Akodara And Dewas Dams Are Also On The Verge Of Filling.

उदयपुर के मानसून का कोटा अगस्त में ही पूरा हुआ:पूरे सीजन में 591 एमएम बरसात होनी थी, अबतक 667 एमएम हुई, आकोदड़ा और देवास बांध भी भरने की कगार पर

उदयपुर4 महीने पहले
उदयपुर में इस साल अबतक 54 प्रतिशत ज्यादा बरसात हो चुकी है।

उदयपुर में पिछले 10 दिनों में हुई जबरदस्त बरसात ने उदयपुर की पूरी मानसूनी बरसात का कोटा पूरा कर दिया है। उदयपुर में 18 अगस्त तक 667.65 एमएम बरसात हुई है। जो कि मानसून सीजन में होने वाली औसतन बरसात से 75 एमएम ज्यादा है। उदयपुर में मानसून सीजन में औसतन 591 एमएम बरसात को सामान्य माना जाता है। यह बरसात जून से सितम्बर के महीनों में रिकॉर्ड की जाती है। अभी मानसून सीजन खत्म होने में 42 दिन बाकी हैं और उदयपुर का मानसून का कोटा पूरा हो चुका है।

पिछले साल पूरे मानसून सीजन में उदयपुर में 543 एमएम बरसात ही हुई थी।
पिछले साल पूरे मानसून सीजन में उदयपुर में 543 एमएम बरसात ही हुई थी।

पिछले साल से 124 एमएम ज्यादा बरसात हुई

सामान्य तौर पर इस समय तक उदयपुर में 433 एमएम बरसात होती है। मगर इस साल अबतक 667 एमएम पानी बरस चुका है। जो की सामान्य से 54 प्रतिशत ज्यादा है। वहीं यह पिछले साल पूरे सीजन में हुई बरसात के मुकाबले भी काफी ज्यादा है। 2021 में 30 सितम्बर तक पूरे मानसून सीजन में सिर्फ 543 एमएम बरसात हुई थी। मानसून में अभी और समय होने के चलते माना जा रहा है कि इस बार उदयपुर में बरसात के कई रिकॉर्ड टूट सकते हैं।

पिछले साल पूरे मानसून सीजन में फतहसागर नहीं छलका था।
पिछले साल पूरे मानसून सीजन में फतहसागर नहीं छलका था।

आकोदड़ा महज 2 फीट, देवास 3.5 फीट खाली

इधर पिछले दिनों हुई बरसात से बांधों के कैचमेंट से पानी की आवक लगातार जारी है। इससे उदयपुर के दो और प्रमुख बांध भरने की कगार पर हैं। 60.36 फीट क्षमता वाला आकोदड़ा बांध 58.50 फीट के पार पहुंच चुका है। यह 2 फीट से भी कम खाली है। वहीं 34 फीट क्षमता वाला देवास बांध का जलस्तर भी 30.4 फीट हो गया है। इधर मानसी वाकल में भी लगातार पानी की आवक हो रही है। यह अब 4.250 मीटर ही खाली है।

वल्लभनगर बांध के छलकने से अब यहां के पानी से बड़गांव बांध में आवक हो रही है।
वल्लभनगर बांध के छलकने से अब यहां के पानी से बड़गांव बांध में आवक हो रही है।

जयसमंद का जलस्तर 5.62 मीटर पर पहुंचा

पिछले दिनों जयसमंद इलाके में हुई अच्छी बरसात से जयसमंद झील में तेजी से आवक हो रही है। 8.38 मीटर क्षमता वाली जयसमंद झील का जलस्तर 5.62 मीटर पर पहुंच चुका है। वहीं बड़ी झील में भी लगातार पानी की आवक हो रही है। इन पांच बांधों के अलावा उदयपुर के लगभग सभी प्रमुख बांध छलक चुके हैं। वहीं वल्लभनगर के ओवरफ्लो होने से अब चित्तौड़गढ़ के बढ़गांव बांध में भी आवक तेज हो गई है। यह 16 फीट के पार हो गया है।

पीछोला को भरने वाली सीसारमा नदी फिलहाल 4 फीट के गेज पर चल रही है।
पीछोला को भरने वाली सीसारमा नदी फिलहाल 4 फीट के गेज पर चल रही है।

कोटड़ा में 33, जयसमंद में 30 एमएम बरसात हुई

इधर मेवाड़ में मानसूनी सिस्टम कमजोर पड़ने के बावजूद गुरुवार को कई जगह बरसात हुई। पिछले 24 घंटे में सबसे ज्यादा 33 एमएम बरसात कोटड़ा में हुई। इसके अलावा जयसमंद में 30 एमएम, देवास में 23 एमएम, ऋषभदेव में 22 एमएम, खेरवाड़ा और ओगणा में 19 एमएम, झाड़ोल में 12 एमएम और गोगुंदा में 10 एमएम बरसात हुई। मौसम विभाग का अनुमान है कि 22 अगस्त से उददयपुर में मानसून का अगला दौर शुरू होगा।

खबरें और भी हैं...