पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • They Used To Promise To Provide Government Jobs To The Unemployed By Citing Their Familiarity With The Big Officers, They Used To Disappear With Lakhs Of Rupees.

उदयपुर में शातिर ठग चढ़े पुलिस के हत्थे:बड़े अधिकारियों से जान पहचान का हवाला देकर बेरोजगारों को सरकारी नौकरी लगाने का करते थे वादा, लाखों रुपए लेकर हो जाते थे गायब

उदयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस गिरफ्त में आरोपी। - Dainik Bhaskar
पुलिस गिरफ्त में आरोपी।

कोरोना संक्रमण के इस दौर में भी कुछ लोग आपदा का अवसर बदलने से बाज नहीं आ रहे। ऐसा ही मामला उदयपुर के बेकरिया थाना क्षेत्र में सामने आया है। जहां बेरोजगार युवकों से सरकारी नौकरी लगाने के नाम पर ठगी की वारदात को अंजाम दिया जा रहा था। जिसके बाद पुलिस ने कार्रवाई कर दो ठगों को गिरफ्तार किया है।

दरअसल, उदयपुर के बेकरिया थाना क्षेत्र में पिछले साल 10 दिसंबर को पीड़ित सुरेश चंद ने राणाराम और राजेश बडगूजर के खिलाफ ठगी का प्रकरण दर्ज करवाया गया था। जिसमें उसने बताया कि राणाराम ने सुरेश के भाई कमलेश को राजेश से मिलवाया। राजेश ने कमलेश को अपनी जान पहचान का हवाला देकर उदयपुर जिला परिषद में नौकरी दिलवाने का झांसा देते हुए कमलेश और सुरेश से अलग अलग मौके पर चार लाख रुपए ऐंठ लिए।

यही नहीं राजेश दोनों भाइयों की लेकर जयपुर सचिवालय भी गया। जहां एक ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग अंकित किये कागज पर दोनों के साथ अन्य का नाम दिखाकर बोला तुम्हारा काम हो गया। बस अब उदयपुर जिला परिषद जाकर दस्तावेज जमा करवाकर जॉइनिंग लेनी है। और उनसे ओरिजिनल आधार कार्ड पैन कार्ड आदि ले लिए। वहीं जयपुर जाने से पहले एक लाख रुपए लिए जयपुर में 75 हजार और ले लिए।

उसके बाद उदयपुर आकर दोनों को फोन कर जिला कलेक्टर कार्यालय उदयपुर बुलाया और कैंटीन में ले जाकर कहा कि तुम्हारा जोइनिंग लेटर तैयार हो रहा है। तुम मुझे कुछ रुपए दे दो जो विभाग के कर्मचारियों को देने है। रुपए लेकर आधे घंटे बाद पुनः आया और बताया बस जॉइनिंग लेटर पर साहब के हस्ताक्षर होने बाकी है। जैसे ही हस्ताक्षर हो जाएंगे, जिला परिषद् में नौकरी जॉइन कर लेना। यह कहकर वहां से चला गया। जब 5-6 दिन बाद दोनों भाई उदयपुर आकर जिला परिषद कार्यालय आकर पता किया तो उन्हें ठगी का पता चला।