दुखद हादसा:अंबाजी जा रहे पदयात्री दल पर चढ़ा वाहन, अंबासा के दो चचेरे भाइयों और युवती की मौत, तीन घायल

उदयपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अलसुबह परिजनों को सूचना मिलने के बाद वे अंबाजी अस्पताल पहुंचे। - Dainik Bhaskar
अलसुबह परिजनों को सूचना मिलने के बाद वे अंबाजी अस्पताल पहुंचे।
  • सुबह 10 बजे घर से निकले थे 6 युवा श्रद्धालु, घुप्प अंधेरे में कुचल गया वाहन

गुजरात के अंबाजी थानांतर्गत राणपुर विस्तार में शुक्रवार देर रात दर्दनाक हादसे में फलासिया पंचायत समिति की अंबासा पंचायत निवासी दो चचेरे भाईयों और एक युवती की मौत हो गई। वहीं एक युवती सहित दो युवक घायल हो गए।

अलसुबह परिजनों को सूचना मिलने के बाद वे अंबाजी अस्पताल पहुंचे। हादसे में अंबासा पंचायत के छालीबोकड़ा निवासी नरेश पुत्र बसु लाल डामोर उम्र 17 वर्ष, हरीश पुत्र शंकर लाल डामोर 17 वर्ष व रतनपुर फला निवासी रेशमी कुमारी पुत्री वैसात भोई उम्र 19 वर्ष की मौत हो गई।

इनके अलावा अंबासा निवासी विजय पुत्र बाबू डामोर, डैया निवासी इंद्रा पुत्री सोमाजी तबियाड़ व राकेश डामोर घायल हाे गए। विजय डामोर को सिर में गंभीर चोट के चलते हिम्मतनगर रैफर कर दिया गया। परिजनों की रिपोर्ट पर पुलिस ने अज्ञात वाहन के खिलाफ प्रकरण दर्ज करने के बाद तीनों मृतकों के शवों का पोस्टमार्टम करवा शव परिजनों को सुपुर्द कर दिए।

जिनको देर शाम परिजन अंबासा लेकर पहुंचे। सभी युवक-युवतियां शुक्रवार सुबह ही पदयात्रा करते हुए अंबाजी दर्शन के लिए जा रहे थे। रास्ते में ही अज्ञात वाहन की टक्कर से दुर्घटना हो गई। पूर्व पंसस धनपाल परमार ने बताया कि शनिवार अलसुबह परिजनों को अंबाजी पुलिस ने एक्सीडेंट की सूचना दी, जिसके बाद वे भी परिजनों के साथ सुबह अंबाजी अस्पताल पहुंचे।

ग्यारहवीं के छात्र थे दोनों किशोर, प्रथम वर्ष में पढ़ती थी युवती

शुक्रवार देर रात हुई दुर्घटना में मरे दोनों युवक चचेरे भाई गयारहवीं कक्षा के छात्र थे। हम उम्र होने के साथ ही एक ही कक्षा में होने से दोनों भाई दोस्तों की तरह ही रहते थे। वहीं मृतका रेशमी कुमारी प्रथम वर्ष की छात्रा थी।

मैं संभला, तब तक चारों ओर खून और चीख-पुकार

शुक्रवार सुबह दस बजे के लगभग अंबासा व डैया पंचायत के स्कूल-काॅलेज में पढ़ने वाले 6 युवक-युवतियां 70 किमी दूर अंबाजी की पदयात्रा के लिए रवाना हुए थे। खेडब्रह्मा से अंबाजी के बीच पहाड़ी मार्ग होने से अंधेरा था। रात लगभग पौने तीन बजे कोई बड़ा वाहन तेजी से निकला, जिसकी टक्कर से मैं भी दूर जा गिरा। अन्य साथियों की चीख-पुकार सुनाई दी। मोबाइल की टॉर्च जलाकर देखा तो खून ही खून था। साथी घायल अवस्था में बेसूध पड़े थे। किसी ने पुलिस कंट्रोल रूम सूचना दी। आधे घंटे बाद अंबाजी पुलिस पहुंची, कुछ ही देर में एंबुलेंस में डाल सभी कर अंबाजी अस्पताल पहुंचाया। -राकेश डामोर, प्रत्यक्षदर्शी, डैया निवासी

खबरें और भी हैं...