कांग्रेस का चिंतन शिविर:राहुल बोले- 'जनता से हमारा कनेक्शन टूटा है, ये हमें मानना होगा'; सोनिया का बयान- हम सत्ता में लौटेंगे

उदयपुर2 महीने पहले

राजस्थान के उदयपुर में कांग्रेस का 3 दिन का चिंतन शिविर खत्म हो गया है। पार्टी ने वन फैमिली-वन टिकट, संगठन में युवाओं को आरक्षण, देशभर में पदयात्रा निकालने जैसे कई अहम फैसले लिए हैं। पार्टी के कायाकल्प का मंत्र दिया राहुल गांधी ने। चिंतन शिविर में उन्होंने करीब 35 मिनट की स्पीच दी। कहा- हम फिर जनता के बीच जाएंगे, उससे अपने रिश्ते मजबूत करेंगे और ये काम शॉर्टकट से नहीं होगा। ये पसीने से होगा यानी कड़ी मेहनत से।

राहुल ने नेताओं में जान फूंकने की भी कोशिश की। कहा कि वे डिप्रेशन में न जाएं, क्योंकि लड़ाई लंबी है। वहीं सोनिया ने अपने भाषण में कहा कि हम सत्ता में वापस लौटेंगे।

शिविर में राहुल ने कहा कि मेरी जिंदगी का एक ही लक्ष्य है- संघ और भाजपा से लड़ना।
शिविर में राहुल ने कहा कि मेरी जिंदगी का एक ही लक्ष्य है- संघ और भाजपा से लड़ना।

राहुल की स्पीच के 3 अहम पॉइंट

1. साथी नेताओं-कार्यकर्ताओं को नसीहत
राहुल ने कहा कि शॉर्टकट से नहीं पसीना बहाना होगा, तभी वापस जनता से जुड़ेंगे। हम पैदा ही जनता से हुए हैं, यह हमारा डीएनए है, यह संगठन जनता से बना है। हम फिर जनता के बीच जाएंगे। अक्टूबर में पूरी कांग्रेस पार्टी जनता के बीच जाएगी, यात्रा करेगी। जो जनता के साथ रिश्ता है, वह फिर से मजबूत करेंगे। यही एक रास्ता है और कोई शॉर्टकट से यह नहीं होगा।

राहुल बोले कि यह लड़ाई रीजनल पार्टियां नहीं लड़ सकतीं। यह लड़ाई केवल कांग्रेस ही लड़ सकती है। रीजनल पार्टियां BJP को नहीं हरा सकती, क्योंकि उनके पास विचारधारा नहीं है, वे अलग-अलग हैं। मुझे कोई डर नहीं है। मैंने जिंदगी में एक रुपए किसी से नहीं लिया, कोई भ्रष्टाचार नहीं किया। मैंने भारत माता से एक पैसा नहीं लिया है। मैं सच बोलने से नहीं डरता हूं।

2. भाजपा पर निशाना, बोले- देश में आग लगने वाली है
राहुल गांधी ने कहा- देश में आग लगने वाली है, मैंने आपको कोविड से पहले चेताया था, अब फिर कह रहा हूं । ये (भाजपा लीडर्स) देश के इंस्टीट्शन काे तोड़ रहे हैं, ये जितना संस्थानों को खत्म करेंगे, उतनी ही आग लगेगी। यह हमारी जिम्मेदारी है कि देश में यह आग नहीं लगे। यह हमारे नेताओं-कार्यकर्ताओं की जिम्मेदारी है। यह काम केवल कांग्रेस कर सकती है। इस देश में ऐसा कोई धर्म, जाति, व्यक्ति नहीं है, जो यह कह दे कि उसने कांग्रेस के लिए दरवाजे बंद कर दिए हों। कांग्रेस सबकी पार्टी है।

3. एक बार फिर किया उद्योगपतियों का जिक्र
राहुल गांधी ने कहा कि रोजगार पैदा करने वाली रीढ़ की हड्डी को मोदी और बीजपी ने तोड़ दिया है। नोटबंदी और जीएसटी लागू करके इसका फायदा दो तीन उद्योगपतियों को देकर सरकार ने युवाओं के भविष्य को खत्म कर दिया। आने वाले समय में देश का युवा रोजगार नहीं पा सकेगा। महंगाई की वजह से रोजगार नहीं मिलेगा। उन्होंने कहा कि यूक्रेन वॉर के परिणाम से बेरोजगारी बढे़गी।

सोनिया बोलीं- हम सत्ता में लौटेंगे
शिविर के समापन अवसर पर स्पीच देते हुए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि हम जरूर लौटेंगे। उन्होंने कहा कि सभी लोग मिलकर काम करें। युवाओं को आगे बढ़ाने पर सीनियर नेता फोकस करे। 2 अक्टूबर से भारत जोड़ो अभियान शुरू किया जाएगा।

सोनिया गांधी ने कहा कि पार्टी ने जो फैसले लिए हैं, वो जल्द लागू होंगे।
सोनिया गांधी ने कहा कि पार्टी ने जो फैसले लिए हैं, वो जल्द लागू होंगे।

देखिए चिंतन शिविर की कुछ तस्वीरें...

अक्टूबर से कांग्रेस पूरे देश में पदयात्रा शुरू करेगी। राहुल कश्मीर से कन्याकुमारी तक यात्रा करेंगे।
अक्टूबर से कांग्रेस पूरे देश में पदयात्रा शुरू करेगी। राहुल कश्मीर से कन्याकुमारी तक यात्रा करेंगे।
चिंतन शिविर में राहुल गांधी ने राज्यों के मंत्रियों और नेताओं के साथ भी अनौपचारिक मुलाकात की।
चिंतन शिविर में राहुल गांधी ने राज्यों के मंत्रियों और नेताओं के साथ भी अनौपचारिक मुलाकात की।
सोनिया गांधी को CWC की बैठक से पहले चिंतन शिविर की 6 कमेटियों की रिपोर्ट सौंपी गई।
सोनिया गांधी को CWC की बैठक से पहले चिंतन शिविर की 6 कमेटियों की रिपोर्ट सौंपी गई।

कांग्रेस वर्किंग कमेटी ने लगाई मुहर
शिविर में आज हुई कांग्रेस कार्य समिति की बैठक में कांग्रेस के बदलावों पर मुहर लग चुकी है। कांग्रेस की संगठन और राजनीति से जुड़ी कमेटी की सिफारिशों के आधार पर अब एक परिवार से एक ही टिकट के फॉर्मूले को मंजूरी दी गई है। परिवार के दूसरे नेता को तभी टिकट मिलेगा, जब वह पांच साल से संगठन में सक्रिय हो। बिना संगठन में काम किए दूसरे सदस्य को टिकट नहीं मिलेगा। पांच साल पदों पर रहने के बाद तीन साल का कूलिंग पीरियड में रहना होगा। तीन साल बाहर रहने के बाद ही पद मिलेगा। इस सिफारिश को सीडब्ल्यूसी में मंजूर कर लिया है।

मिशन 2024 समेत 10 राज्यों के विधानसभा चुनाव पर फोकस
कांग्रेस का फोकस 2024 से पहले होने वाले 10 राज्यों के विधानसभा चुनावों पर है। इनमें राजस्थान, गुजरात, मध्यप्रदेश, कर्नाटक, छत्तीसगढ़, हिमाचल प्रदेश, त्रिपुरा, मेघालय, नागालैंड, तेलंगाना शामिल हैं। बैठक में गुजरात प्रभारी रघु शर्मा ने कहा कि अगर हम हिमाचल और गुजरात में नहीं जीते, तो 2024 का चुनाव भूल जाइए।

चिंतन शिविर में नेताओं से मिले सुझाव

  • आचार्य प्रमोद कृष्णन ने मीटिंग में कहा कि राहुल गांधी अगर अध्यक्ष नहीं बनना चाहते हैं, तो प्रियंका को कमान सौंपी जाए। उन्होंने कहा कि 2 साल से राहुल को मनाने की कवायद चल रही है।
  • बैठक में G-23 कैंप के नेताओं ने कहा कि कांग्रेस पार्लियामेंट्री बोर्ड बनाई जाए, जिससे फैसले लेने में देरी ना हो। इस बोर्ड में अध्यक्ष अपने अनुसार नियुक्ति करें।
  • कांग्रेस की बैठक में कई नेताओं ने सुझाव दिया कि यूथ कांग्रेस और NSUI के चुनाव नहीं कराए जाएं। काम के हिसाब से उन्हें तरक्की मिले।
  • अजय माकन ने कहा कि वन फैमिली-वन टिकट का प्रपोजल रखा जाएगा। इस फॉर्मूले के तहत एक परिवार से एक व्यक्ति को टिकट दिया जाएगा। हालांकि, शर्तें लागू रहेगी।

16 को बेणेश्वर धाम जाएंगे राहुल-सोनिया
रविवार को तीसरे दिन दोपहर तक चिंतन शिविर खत्म होने के साथ ही कांग्रेसी नेता उदयपुर से रवाना होने लगेंगे। सोनिया गांधी और राहुल गांधी सहित वरिष्ठ नेता सोमवार यानी 16 मई को बेणेश्वर धाम जाएंगे। यहां बेणेश्वर में 100 करोड़ की लागत से बनने वाली पुलिया का शिलान्यास सोनिया और राहुल के हाथों होगा। साथ ही बेणेश्वर में एक सभा भी होगी, जिसे सोनिया और राहुल दोनों सम्बोधित करेंगे। गुजरात और राजस्थान के आदिवासियों को साधने के लिए यह अहम सभा होगी।

यह भी पढ़ें...